Covid 19 उत्तराखण्ड : एम्स में हुई महिला की मौत का कारण कोरोना नहीं वरन ब्रेन ब्लीडिंग

खबर शेयर करें

एम्स निदेशक प्रोफेसर रवि कांत ने की इसकी पुष्टि

समाचार सच, देहरादून। कोरोना से पॉजिटिव पायी गयी लालकुंआ निवासी 56 वर्षीय महिला का शुक्रवार को प्रातः ऋषिकेश एम्स में ब्रेन ब्लीडिंग के कारण निधन हो गया। इसकी पुष्टि एम्स निदेशक प्रोफेसर रवि कांत और उत्तराखण्ड हेल्थ बुलेटिन द्वारा हुई। हालांिक मृतका पांच दिन पूर्व कोविड 19 जांच में कोरोना संक्रमित पायी गयी थी। इधर एम्स के निदेशक कहना है कि एम्स लगातार सभी तरह के गंभीर रोगियों के इलाज में जुटा हुआ है। चाहे मरीज कोरोना पॉजिटिव, कोरोना नेगेटिव अथवा किसी भी अन्य तरह की बीमारी से ग्रसित हो।

ज्ञात हो कि मंगलवार को एम्स के न्यूरो वार्ड में भर्ती 56 वर्षीय महिला में कोरोना की पुष्टि हुई है। दो दिन पहले यहां यूरोलॉजी विभाग के नर्सिग आफीसर में कोरोना वायरस पाया गया था। एम्स के न्यूरो वार्ड में भर्ती जिस महिला की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है, उसे दो मार्च को ब्रेन अटैक हुआ था। इस पर उसे बृजलाल हॉस्पिटल हल्द्वानी में भर्ती किया गया। यहां से 8 मार्च को महिला को विवेकानंद हॉस्पिटल हल्द्वानी रेफर किया गया। महिला 19 अप्रैल तक इस अस्पताल में भर्ती रही। जिसके बाद महिला को श्री राम मूर्ति हॉस्पिटल बरेली रेफर किया गया। बरेली में वह 19 से 21 अप्रैल तक भर्ती रही। 22 अप्रैल सुबह करीब 3 बजे महिला को एम्स ऋषिकेश लाया गया। यहां इमरजेंसी के रेड एरिया में सुबह 11 बजे तक वह भर्ती रही। बाद में वार्ड में शिफ्ट कर दिया गया था।

यह भी पढ़ें -   बाइक से कर रहे थे पति-पत्नी नशे के इंजेक्शनों की तस्करी, पुलिस के हत्थे चढ़े

इधर एम्स निदेशक प्रो. रवि कांत ने बताया कि बीते माह 22 अप्रैल को ब्रेन स्ट्रोक की बीमारी से ग्रसित इस महिला को एम्स अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां उसका उपचार चल रहा था। महिला की 27 अप्रैल को कोविड 19 की जांच भी की गई थी, जिसमें वह पॉजिटिव पाई गई। उन्होंने बताया कि उक्त महिला की शुक्रवार सुबह मृत्यु हो गई है। निदेशक एम्स ने महिला की मौत की वजह ब्रेन ब्लीडिंग की समस्या से होना बताया है। उन्होंने बताया कि उच्चरक्तचाप की वजह से इस महिला के ब्रेन के ऐसे हिस्से में जहां पर शरीर का सारा सिस्टम कंट्रोल होता है वहां पर स्ट्रोक की वजह से ब्रेन ब्लीडिंग की समस्या थी, जिसकी वजह से उसकी मौत हुई है। उन्होंने बताया कि हालांकि महिला कोरोना पॉजिटिव थी, मगर उसे सबसे बड़ी समस्या अत्यधिक ब्लड प्रेशर के कारण ब्लीडिंग थी, साथ ही महिला को निमोनिया व यूरिन इन्फैशन भी था, गंभीर बीमारियों और अधिक उम्र की वजह से शुक्रवार को उसकी मृत्यु हो गई।

यह भी पढ़ें -   हल्द्वानी के जजफार्म स्थित घर में पकड़ी गयी बिजली चोरी, आरोपी के खिलाफ मुकदमा दर्ज

एम्स प्रशासन के मुताबिक न्यूरो वार्ड ब्लॉक को भी सील किया जा रहा है। महिला के परिवार वाले जिन-जिन लोगों के संपर्क में आए हैं, उनकी भी जानकारी जुटाई जा रही है। इसके साथ एम्स में उसके संपर्क में आए छह चिकित्सकों सहित 22 लोगों को क्वारंटाइन कर दिया गया था। इतना ही नहीं लालकुआं के बीस बीघा क्षेत्र में स्थित जिस घर में युवक रहता है, उसमें रहने वाले चार लोगों सहित पड़ोस के दो दुकानदारों व एक दूध सप्लायर सहित सात अन्य लोगों को भी क्वारंटाइन में भेजा गया था।

Ad - Harish Pandey
Ad - Swami Nayandas
Ad - Khajaan Chandra
Ad - Deepak Balutia
Ad - Jaanki Tripathi
Ad - Asha Shukla
Ad - Parvati Kirola
Ad - Arjun-Leela Bisht

सबसे पहले ख़बरें पाने के लिए -

👉 हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

👉 फेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज़ लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल सबस्क्राइब करें

हमसे संपर्क करने/विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें - +91 70170 85440

Leave a Reply

Your email address will not be published.