शाम या फिर रात के समय बिल्कुल भी न करें घर में रोजमर्रा के ये काम

Ad
खबर शेयर करें

समाचार सच, अध्यात्म डेस्क। सही समय पर किया गया सही कार्य से हमेशा ईश्वर की कृपा प्राप्त होती है। लेकिन जाने अनजाने में हम कई बार ऐसे काम करते हैं, जिसके प्रभाव के बारे में बाद में पता चलता है। ऐसे में आपको कष्ट और धन हानि का सामना करना पड़ता है। वास्तु शास्त्र में कई ऐसे नियम बताएं गए हैं जिन्हें अनुसरण करने से आप कभी भी निराश नहीं होंगे। इसी प्रकार वास्तु में बताया या कि सूर्यास्त के बाद कौन से काम करने की मनाही है।

यह भी पढ़ें -   भौंहों की बनावट न सिर्फ सौन्दर्य ही नहीं व्यक्तित्व को भी दर्शाती है

वास्तु शास्त्र के अनुसार घर में झाडू लगाने के लिये दिन के पहले चार पहर को उचित माना गया है, जबकि रात के चार पहर को इस काम के लिए अनुचित माना गया है। आचार्य इंदु प्रकाश से जानिए शाम के समय क्यों नहीं लगानी चाहिए झाड़ू।

शाम के समय झाड़ू लगाना है मना

रात के चार पहर में झाडू लगाने से घर में निगेटिविटी अपने पैर पसारती है और धन की देवी लक्ष्मी रूष्ठ हो जाती हैं, जिससे घर में धन के आवागमन पर प्रभाव पड़ता है, साथ ही अलक्ष्मी घर में प्रवेश कर जाती है।

यह भी पढ़ें -   भौंहों की बनावट न सिर्फ सौन्दर्य ही नहीं व्यक्तित्व को भी दर्शाती है

अगर झाड़ू लगाना है जरूरी तो ध्यान रखें ये बात

  • अगर आप बहुत दिनों के बाद घर में शाम के समय आ रहे हैं और आपके पीछे से घर बंद था जिसकी वजह से पूरा घर धूल-मिट्टी से पसरा हुआ है या आपके घर में कोई कार्यक्रम था, जिसके चलते आपके लिए शाम के समय घर में झाडू मारना आवश्यक हो गया है जो ठीक नहीं है तो ऐसा करते समय वास्तु शास्त्र के अनुसार एक बात का ख्याल जरूर रखें।

-सूर्यास्त के बाद आप जब भी झाडू लगाए तो उस कूड़े या मिट्टी को घर के बाहर न फेंके, कहीं एक जगह पर कूड़ेदान में ही रख दें और सुबह होने पर बाहर फेंक दें।

यह भी पढ़ें -   भौंहों की बनावट न सिर्फ सौन्दर्य ही नहीं व्यक्तित्व को भी दर्शाती है

इस दिशा में रखें झाड़ू
वास्तु शास्त्र के अनुसार झाड़ू रखने के लिए दक्षिण पश्चिम कोण या पश्चिम दिशा का चुनाव करना अच्छा माना जाता है। इस दिशा में झाड़ू रखने से नेगेटिव एनर्जी नहीं फैलती। वहीं ईशान कोण यानि उत्तर-पूर्व दिशा में झाड़ू कभी भी नहीं रखनी चाहिए।

Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *