31 अगस्त को मनाई जायेगी गणेश चतुर्थी: डॉक्टर आचार्य सुशांत राज

खबर शेयर करें

गणेश चतुर्थी पर नहीं करना चाहिए रात्रि में चंद्र देव के दर्शन: डॉक्टर आचार्य सुशांत राज

समाचार सच, अध्यात्म डेस्क (देहरादून)। डॉक्टर आचार्य सुशांत राज ने जानकारी देते हुये बताया की इस बार 31 अगस्त बुधवार को गणेश चतुर्थी मनाई जाने वाली है। इस दिन गणेश जी की विधि-विधान से पूजा-अर्चना की जाती है। गणेश चतुर्थी से ही 10 दिनों के गणेश महोत्सव की शुरुआत हो जाती है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार भगवान गणेश की आशीर्वाद से भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूरी हो जाती है। भगवान गणेश को प्रथम पूजनीय देव माना जाता है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार गणेश चतुर्थी पर रात्रि में चंद्र देव के दर्शन नहीं करना चाहिए। माना जाता है कि इस दिन चंद्रमा के दर्शन करने से झूठा कलंक या फिर आक्षेप लगने की संभावना होती है। गणेश चतुर्थी के दिन चंद्रमा के दर्शन करना अपशगुन माना जाता है। अगर गलती से चंद्रमा के दर्शन हो जाएं तो उन्हें प्रणाम कर लें। इसके बाद घर आकर के मिष्ठान्न, फल और फूल उनके निमित्त उनके समक्ष दिखाकर दान कर दें। साथ ही गणेश जी के किसी मंत्र का जाप करें या फिर गणेश अथर्वशीर्ष का पाठ करें।
पौराणिक कथाओं के अनुसार एक बार गणेश जी अपने जन्मदिन पर भोजन करके घर लौट रहे थे। तब उनके मोटे पेट को देखकर चंद्र देव हंसने लगे। जिसके कारण गणेश जी ने उनको श्राप दे दिया था कि तुम्हारा शरीर प्रतिदिन घटता चला जाएगा और तुम अंत में मृत्यु को को प्राप्त हो जाओगे। उस श्राप से मुक्ति पाने के लिए चंद्र देव ने भगवान शंकर की तपस्या की थी। जिससे शंकर भगवान चंद्र देव से प्रसन्न हुए और चंद्रमा को अपने मस्तक पर धारण कर लिया। इसके बाद चंद्रदेव ने गणेश जी से श्राप मुक्ति का उपाय पूछा। तब भगवान गणेश ने कहा कि मैं आपको केवल श्राप से मुक्त होने का उपाय बताता हूं। केवल भाद्रपद मास की गणेश चतुर्थी पर जिस दिन आपने मेरा अपमान किया था उस तिथि पर तुम्हारे दर्शन करने पर लोगों को झूठा आरोप या कलंक लग सकता है। बाकी शेष दिनों में आप जिस गति से घटोगे फिर उसी गति से बढ़कर पूर्णता प्राप्त करोगे।
गणेश चतुर्थी पर शुक्र करेंगे सिंह राशि में प्रवेश, 3 राशियों का चमकेगा भाग्य रू- डॉक्टर आचार्य सुशांत राज ने जानकारी देते हुये बताया की 31 अगस्त 2022 को शाम 04रू29 से शुक्र ग्रह सिंह राशि में प्रवेश करने जा रहे हैं। 31 अगस्त को ही गणेश चतुर्थी भी है। ज्योतिष में शुक्र को असुरों को गुरु माना जाता है। शुक्र बृहस्पति की तरह ही एक भाग्यशाली ग्रह माना जाता है। व्यक्ति के सुख और प्रचुरता के लिए शुक्र ही जिम्मेदार होता है। शुक्र दो राशियों वृषभ और तुला पर शासन करते हैं। यह सुख, आनंद, आकर्षण, सौंदर्य और समृद्धि के बेहतर गुणों का प्रतीक हैं। यह संगीत, कला, कविता आदि की रचनात्मकता को दर्शाते हैं। सिंह राशि सरकार, प्रशासन, महत्वाकांक्षा, नेतृत्व की गुणवत्ता, सामाजिक प्रतिष्ठा, स्वार्थ, अहंकार, ग्लैमर, रचनात्मक कला और विलासिता का प्रतिनिधित्व करती है। सिंह शुक्र के लिए शत्रु राशि है। शुक्र ग्रह के लिए यह असहज स्थिति है फिर भी यह गोचर कुछ राशियों का भाग्य प्रबल करेगा।
मेष राशि – मेष राशि के जातक डिजाइनर, रचनात्मक कलाकार और कवि होते हैं। उनके लिए यह गोचर अद्भुत समय लेकर आएगा। उनके विचार से उनके करियर में बेहतर स्थिति पर होंगे। आपके साथी के साथ आपके रिश्ते में अहंकार की भावना रहेगी। लेकिन फिर भी आप उनके साथ विवाह बंधन में बंधेंगे। वहीं सिंगल लोगों को उनका परफेक्ट पार्टनर मिलने की संभावना है। कुल मिलाकर यह समय आपके लिए अच्छा है।
वृषभ राशि – वृषभ राशि के जातकों को अपनी कार्यकुशलता का फल इस गोचर अवधि के दौरान मिलेगा। आप वाहन खरीद सकते हैं। माता आपके प्रति काफी स्नेही और प्रेममयी होगी। परिवार में किसी तरह की परेशानी नहीं होगी। प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे लोगों को सफलता मिलेगी। धन के आगमन के कारण आर्थिक समृद्धि मिलेगी। संपत्ति और गृह ऋण प्राप्त करना आसान होगा।
सिंह राशि – सिंह राशि में शुक्र ग्रह का प्रवेश आपके लिए काफी सुखद स्थिति लेकर आएगा। आपके अच्छे दोस्त बनेंगे। इस गोचर से आपके अंदर आकर्षण उत्पन्न होगा। आप लोगों के प्रशंसा के पात्र बनेंगे। प्यार, शादी, पैसा और पेशेवर में विकास की बात आने पर चीजें पूरी तरह से सहज हो जाएंगी। सिंह राशि के जातक जो कलाकार, संचालक या किसी भी रचनात्मक क्षेत्र से जुड़े हैं उनका प्रमोशन होने की संभावना है। व्यक्तिगत विकास के लिए समय काफी उत्तम है।
अपनी राशि के अनुसार लाएं गणपति की प्रतिमा – डॉक्टर आचार्य सुशांत राज ने जानकारी देते हुये बताया की भाद्रपद माह के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि यानी गणेश चतुर्थी 31 अगस्त को मनाई जाने वाली है। इस दिन बुधवार होने से भगवान गणेश की पूजा के लिए यह बेहद खास होने वाला है। वास्तु शास्त्र के अनुसार पश्चिम, उत्तर और उत्तर पूर्व दिशा में भगवान गणेश की मूर्ति की स्थापना करना शुभ माना जाता है। घर में रखी सभी गणेश जी की तस्वीरें उत्तर दिशा में होनी चाहिए। ऐसा माना जाता है कि भगवान शिव जो गणेश जी के पिता हैं। इस दिशा में वास करते हैं। धार्मिक मान्यता है कि भगवान गणेश अपने भक्तों की हर बाधा, संकट, रोग, दोष और दरिद्रता को दूर करते हैं। राशि के अनुसार किस रंग की गणेश प्रतिमा घर में स्थापित करना चाहिए।
मेष राशि – मेष राशि का स्वामी मंगल है और यह लाल रंग का घोतक होता है। लाल रंग की गणेश प्रतिमा की स्थापना उचित होगी। घर में गणेश प्रतिमा स्थापित करते समय ‘ओम हृीं ग्रीं हृीं’ मंत्र का जाप करना चाहिए।
वृषभ राशि – वृषभ राशि का स्वामी ग्रह शुक्र है। चमकीले सफेद रंग की एकदंत प्रतिमा लाना शुभ होगा। ‘ऊँ एकदन्ताय विद्महे वक्रतुंडाय धीमहि तन्नो बुद्धि प्रचोदयात’ मंत्र का जाप करें।
मिथुन राशि – मिथुन राशि का स्वामी ग्रह बुध ग्रह है। मिथुन राशि के जातक हल्के हरे रंग के लंबोदर की मूर्ति की स्थापना करें। इससे बुद्धि और बल की प्राप्ति होगी। ‘ओम गं गणपतये नमः’ मंत्र का जाप करें।
कर्क राशि – कर्क राशि का स्वामी ग्रह चंद्रमा है। सफेद रंग के मूषक वाहन के साथ गणेश प्रतिमा की स्थापना शुभ होगी। ‘ऊँ एकदन्ताय विद्धमहे वक्रतुण्डाय धीमहि तन्नो दन्ति प्रचोदयात्’ मंत्र का जाप करना चाहिए।
सिंह राशि – सिंह राशि के स्वामी सूर्य हैं। इसलिए केसरिया रंग की गणेश प्रतिमा की स्थापना करें। इससे आपका मान-सम्मान बढ़ेगा। ‘ओम सुमंगलाय नमः’ मंत्र का जाप करें।
कन्या राशि – कन्या राशि के स्वामी बुध हैं। गहरे हरे रंग के गणेश मूर्ति की स्थापना करना फलदायी होगा। इससे बुद्धि और बल की प्राप्ति होगी। ‘ओम चिंतामण्ये नमः’ मंत्र का जाप करें।
तुला राशि – तुला राशि के स्वामी ग्रह शुक्र हैं। हल्के नीले रंग के एकदंत गणेश की प्रतिमा की स्थापना करें। ‘ऊँ वक्रतुण्डाय हुम्।’ मंत्र का जाप करें।
वृश्चिक राशि – वृश्चिक राशि के स्वामी मंगल ग्रह हैं। गहरे लाल रंग के गणेश की प्रतिमा की स्थापना करें। ‘हीं श्रीं क्लीं नमो भगवते गजाननाय’ मंत्र का जाप करें। इससे आपकी सभी समस्या दूर हो जाएगी।
धनु राशि – इस राशि के स्वामी बृहस्पति हैं। जो कि पीले रंग का प्रतिनिधित्व करते हैं। पीले रंग की भगवान गणेश की प्रतिमा को अपने घर लाएं। ‘ओम गं गणपतये नमः’ मंत्र का जाप करें।
मकर राशि – मकर राशि वाले हल्के नीले रंग के गणेश की प्रतिमा की स्थापना करें। इस राशि के स्वामी शनि हैं। ‘ओम गं नमः।’ मंत्र का जाप करें।
कुंभ राशि – इस राशि के जातक गहरे नीले रंग की गणेश प्रतिमा की स्थापना करें। इस राशि के स्वामी भी शनिदेव हैं। ‘ऊँ लम्बोदराय नमः।’ मंत्र का जाप करने से लाभ मिलेगा।
मीन राशि – मीन राशि के स्वामी बृहस्पति हैं। गहरे पीले रंग की भगवान गणेश की प्रतिमा स्थापित करने से सभी मनोकामनाएं पूरी होंगी। ‘हीं श्रीं क्लीं गौं वरमूर्तये नमः।’ मंत्र का जाप करना शुभ होगा।

सबसे पहले ख़बरें पाने के लिए -

👉 हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

👉 फेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज़ लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल सबस्क्राइब करें

हमसे संपर्क करने/विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें - +91 70170 85440