झोलाछाप डॉक्टरों के क्लीनिकों पर ताबड़तोड़ छापे, प्रशासन की कार्रवाई से मचा हड़कंप, आधा दर्जन से अधिक सील

खबर शेयर करें

समाचार सच, हल्द्वानी। उत्तराखंड के नैनीताल जिले में प्रशासन और स्वास्थ्य महकमे ने बड़ी कार्रवाई की है। संयुक्त टीम ने लालकुआं क्षेत्र में अवैध रूप से संचालित हो रहे चिकित्सकों के क्लीनिकों पर ताबड़तोड़ छापेमारी की है। इस दौरान आधा दर्जन से अधिक झोलाछाप चिकित्सकों के क्लीनिकों को सील कर दिया गया। साथ ही कईयों के चालान किए गए। इस कार्यवाही से हड़कंप मचा रहा।

अवैध रूप से संचालित हो रहे क्लीनिकों पर अंकुश लगाने के लिए गुरुवार की प्रातः तहसीलदार लालकुआं मनीषा बिष्ट और अपर मुख्य चिकित्साधिकारी नैनीताल डॉ रजत भट्ट के संयुक्त नेतृत्व में चिकित्सकों व राजस्व कर्मचारियों की टीम ने सबसे पहले हल्दूचौड़ क्षेत्र में छापा मारा। यहां मुख्य बाजार हल्दूचौड़ स्थित डीके क्लीनिक में संचालक धर्मवीर सिंह के पास नेचरोपैथी योगा की डिग्री तो थी, लेकिन वह इसकी आड़ में उनके द्वारा मिनी मेडिकल स्टोर चला रहा था। साथ ही वहां भारी मात्रा में इंजेक्शन एवं दवाएं बेची जा रही थी।

यह भी पढ़ें -   शास्त्रों में मोरपंखी पौधे को बहुत शुभ बताया गया है जोड़े में लगाएं ये पौधा

टीम ने क्लीनिक को सीज करते हुए संचालक का 10 हजार का चालान किया और तीन दिन के भीतर मुख्य चिकित्साधिकारी कार्यालय में प्रपत्रों के साथ पहुंचने के सख्त निर्देश दिए। इसके बाद उक्त टीम हल्दुचौड़ के ही कमलेश मेडिकल स्टोर में पहुंची। इसके संचालक अमर सिंह रोगियों का उपचार कर रहे थे। इस क्लीनिक में जिसके नाम का मेडिकल रजिस्ट्रेशन था, वह भी मेडिकल में अनुपस्थित मिला। मौके से भारी मात्रा में इंजेक्शन एवं दवाएं बरामद की गई। टीम ने संचालक का 10 हजार रुपए का चालान करते हुए इस क्लिनिक को भी सीज कर दिया। इसके बाद मंडल क्लीनिक हल्दूचौड़ जग्गी में टीम द्वारा छापेमारी की गई।

इसके संचालक के पास नेचुरोपैथी की डिग्री थी, परंतु क्लीनिक में दवा इंजेक्शन के साथ-साथ भारी मात्रा में प्रयोग किए गए सिरिंज भी बरामद हुए। यहां भी चालान की कार्रवाई करते हुए संचालक को तीन दिन के भीतर सीएमओ कार्यालय पहुंचने के निर्देश दिए गए। साथ ही क्लिनिक सीज कर दिया गया। हल्दूचौड़ के बाद उक्त टीम लालकुआं पहुंची यहां उन्होंने गौला रोड स्थित आर रस्तोगी डेंटल क्लीनिक में छापेमारी की, इसके संचालक रिंकू रस्तोगी के पास कोई भी वैध डिग्री नहीं पाई गई,

यह भी पढ़ें -   विद्युत कटौती पर व्यापारियों का फूटा गुस्सा, ईई को घेरा, कहा-जल्द व्यवस्था दुरूस्त न होने पर होगा उग्र आंदोलन

जबकि क्लीनिक में डेंटिस्ट का कार्य किया जा रहा था और एलोपैथिक मेडिसिन एवं शून्न करने के इंजेक्शन भी मौके में बरामद हुए, छापा मार दल ने संचालक पर 10 हजार रुपए का चालान करते हुए क्लीनिक सीज कर दिया, एवं संचालक को तीन दिन के भीतर सीएमओ कार्यालय पहुंचने के निर्देश दिए, उक्त टीम ने मुख्य बाजार स्थित ओम क्लिनिक में भी छापेमारी करते हुए संचालक को तीन दिन के भीतर सीएमओ कार्यालय में प्रपत्र के साथ पहुंचने के निर्देश दिए। इस कार्यवाही से लालकुआं और हल्दूचौड़ पहुंची तो झोलाछाप डॉक्टरों में हड़कंप मचा रहा।
टीम में तहसीलदार मनीषा बिष्ट, अपर मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ रजत भट्ट, वरिष्ठ चिकित्साधिकारी डॉ राहुल लशपाल, लालकुआं के चिकित्साधिकारी डॉ लव पांडे और डॉ केएम गुप्ता सहित भारी संख्या में राजस्व कर्मी मौजूद थे।

Ad Ad Ad Ad Ad
Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad

सबसे पहले ख़बरें पाने के लिए -

👉 हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

👉 फेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज़ लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल सबस्क्राइब करें

हमसे संपर्क करने/विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें - +91 70170 85440