देश में गहराया कोरोना की तीसरी लहर का खतरा

Ad
Ad
खबर शेयर करें

समाचार सच, नई दिल्ली। देश में कोरोना की तीसरी लहर का खतरा गहरा गया है। दूसरी लहर धीमी पड़ने के बाद पहली बार देश में 10 फीसद से अधिक संक्रमण दर वाले जिलों की संख्या बढ़ी है। राहत की बात यह है कि ऐसे जिले अभी तक मुख्य रूप से केरल और पूर्वाेत्तर के राज्यों में सीमित हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक एक तरफ पिछले तीन हफ्ते से कोरोना के सक्रिय मामलों में गिरावट थम गई है, वहीं दूसरी तरफ 10 फीसद से अधिक संक्रमण दर वाले जिलों की संख्या बढ़ने लगी है। फिलहाल इसे कोरोना की तीसरी लहर की शुरुआत नहीं कहा जा रहा है और स्वास्थ्य मंत्रालय के अधिकारी अभी स्थिति पर नजर रखने की बात कर रहे हैं, लेकिन इसे तीसरी लहर के खतरे के संकेत के रूप में जरूर देखा जा रहा है।

यह भी पढ़ें -   सरकार बनने पर राज्य के बेरोजगारों को पांच हजार रुपये प्रतिमाह पेंशन दी जाएगी : हरीश रावत

स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल के अनुसार 10 फीसद से ज्यादा संक्रमण दर वाले 54 जिलों में केरल के 10, मणिपुर के 10, नागालैंड के सात, मिजोरम व मेघालय के छह-छह, अरुणाचल प्रदेश के पांच, राजस्थान के चार, सिक्किम के दो और हरियाणा, दमन व दीव, असम व पुडुचेरी के एक-एक जिले शामिल हैं। 16 जुलाई को इन जिलों की संख्या 47 थी। मणिपुर, केरल, नगालैंड, अरुणाचल प्रदेश और हरियाणा में 10 फीसद से ज्यादा संक्रमण दर वाले जिलों की संख्या बढ़ी है, वहीं राजस्थान में कम हुई है। 16 जुलाई को जिन 47 जिलों में 10 फीसद से अधिक संक्रमण दर थी, उनमें से आठ जिलों में संक्रमण दर 10 फीसद से कम हो गई है। परंतु, 15 नए जिलों संक्रमण दर 10 फीसद से ज्यादा हो गई है। देश में प्रतिदिन आने वाले नए केस में गिरावट थम गई है। पांच से 11 मई के बीच औसतन पौने चार लाख मामले प्रतिदिन मिल रहे थे, जो जून के अंतिम हफ्ते में गिरकर औसतन 48 हजार प्रतिदिन तक आ गए, लेकिन उसके बाद से मामलों में तेज गिरावट नहीं आ रही है।

Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *