14 से 20 तक पूरे सप्ताह त्योहार: सावन सोमवार से शुरू होकर हरियाली तीज पर खत्म होगा ये सप्ताह

खबर शेयर करें

समाचार सच, अध्यात्म डेस्क। इन सात दिनों में सावन सोमवार, मंगला गौरी व्रत, अमावस्या, सिंह संक्रांति और हरियाली तीज जैसे कुल पांच व्रत-पर्व रहेंगे। इन दिनों में भगवान शिव-पार्वती, पितृ और सूर्य पूजा की जाएगी। इन दिनों में पूजा-पाठ के साथ ही स्नान-दान और देव दर्शन जैसे धर्म-कर्म करने से अक्षय पुण्य मिलता है। इन देवताओं की पूजा से सुख-समृद्धि और सौभाग्य भी बढ़ता है

इस हफ्ते की शुरुआत भगवान शिव-पार्वती की पूजा से होगी। पहला दिन 14 अगस्त को सावन का सोमवार रहेगा। दूसरे दिन यानी 15 अगस्त को मंगला गौरी व्रत में देवी पार्वती की पूजा होगी। वहीं, पितृ पूजा के लिए लगातार दो दिनों का शुभ संयोग बन रहा है।

16 अगस्त, बुधवार को अधिक मास की अमावस्या और उसके अगले दिन सिंह संक्रांति होने से पितरों की पूजा का महापर्व रहेगा। इन दोनों दिनों में श्राद्ध और स्नान-दान करने से पितरों को संतुष्टि मिलेगी।

यह भी पढ़ें -   श्रावण माह 2024: सावन के दौरान सभी ग्रहों को प्रसन्न करने के लिए करें ये उपाय, दूर होंगी परेशानियां

सावन सोमवार और अमावस्या पर करें शिव जी का अभिषेक
सावन महीने के सोमवार का महत्व काफी अधिक है। इस बार सावन, सोमवार और अमावस्या का योग बना है। इस दिन शिव जी का अभिषेक करें। तांबे के लोटे से जल और चांदी के लोटे से दूध शिवलिंग पर चढ़ाएं। बिल्व पत्रों से श्रृंगार करें। चंदन से तिलक लगाएं। मिठाई का भोग लगाएं। धूप-दीप जलाकर आरती करें। इस दिन किसी शिव मंदिर में दर्शन-पूजन भी करें।

अधिक मास की अमावस्या पर पितरों की पूजा
अमावस्या तिथि पर पितरों के लिए श्राद्ध करने की परंपरा है। पितरों के लिए दोपहर में तर्पण करना चाहिए और पवित्र नदी के किनारे पिंडदान करना चाहिए। अमावस्या पर पितरों की तृप्ति के लिए धूप देने का भी विधान है। इसके लिए गाय के गोबर से बने कंडे जलाएं और जब वो अंगारे बन जाए तो उन पर घी, चावल, शक्कर डालें। हथेली में जल लेकर अंगूठे से पितरों को चढ़ाएं। ब्राह्मण भोजन करवाएं और जरूरतमंद लोगों को कपड़े, जूते-चप्पल का दान करें।

यह भी पढ़ें -   श्रावण माह 2024: सावन में करें भगवान शिव का रुद्राभिषेक और पाएं ग्रह बाधाओं से मुक्ति

सिंह संक्रांति पर सूर्य पूजा और स्नान-दान
17 अगस्त, गुरुवार को सूर्य सिंह राशि में प्रवेश करेगा। इस दिन सिंह संक्रांति पर्व मनाया जाएगा। इस दिन सुबह जल्दी उठकर सूर्याेदय से पहले नहाएं। इसके बाद ऊँ सूर्याय नमरू मंत्र का जाप करते हुए उगते हुए सूरज को अर्घ्य दें। भगवान सूर्य की पूजा करें। फिर दिनभर जरुरतमंद लोगों को खाना-कपड़ा और पैसों का दान करें। इस तरह सूर्य संक्रांति पर्व मनाने से बीमारियां दूर होती हैं और उम्र बढ़ती है। इस दिन स्नान-दान से अक्षय पुण्य मिलेगा।

हफ्ते के आखिरी में हरियाली तीज
इस हफ्ते के आखिरी में सावन के शुक्ल पक्ष की तीज रहेगी। ये सुहागनों का पर्व होता है। इस दिन महिलाएं भगवान शिव-पार्वती की पूजा और व्रत करने से सुख और समृद्धि बढ़ती है। हरियाली तीज का व्रत करने से सुहागनों का सौभाग्य बढ़ता है।

Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad

सबसे पहले ख़बरें पाने के लिए -

👉 हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

👉 फेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज़ लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल सबस्क्राइब करें

हमसे संपर्क करने/विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें - +91 70170 85440