6

बजट पेश होने के बाद मोबाइल, चार्जर व कपड़ा समेत कई चीजें हुईं सस्ती, जानिए क्या हुआ महंगा?

Ad - Harish Pandey
Ad - Swami Nayandas
Ad - Khajaan Chandra
Ad - Deepak Balutia
Ad - Jaanki Tripathi
Ad - Asha Shukla
Ad - Parvati Kirola
Ad - Arjun-Leela Bisht
खबर शेयर करें

समाचार सच, नई दिल्ली (एजेन्सी)। केंद्रीय वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने मंगलवार को वित्त वर्ष 2022-23 का बजट पेश किया है। इस बजट में वित्त मंत्री ने लगातार दूसरी बार पेपरलेस बजट पेश किया है। इस बजट भाषण के दौरान निर्मला सीतारमण ने कई बड़े ऐलान किए हैं। इस दौरान उन्होंने भारत में 5-जी की शुरुआत करने, गांवों में ब्राडबैंड़ कनेक्शन शुरू कराने की घोषणा की है। इसके साथ ही उन्होनें अपने बजट भाषण में युवाओं को राहत देते हुए 60 हजार युवाओं को नौकरी देने की बात कही है। वहीं पीएम आवास योजना के तहत 80 लाख घर बनाए जाएंगे।

इसके अलावा निर्मला सीतारमण ने डिजिटल करेंसी को लेकर बड़ा ऐलान करते हुए कहा कि 2022-23 से आरबीआई की ओर से क्रिप्टो करेंसी पेश किया जाएगा। इन सब बड़े ऐलान के बाद से देश में बहुत सी चीजें सस्ती और महंगी हो चुकी है। सस्ते समानों की बात करें तो मोबाइल फोन से लेकर चार्जर और कपड़ा सस्घ्ता कर दिया गया है। इसके साथ ही आम आदमी के राहत के लिए और भी चीजें सस्घ्ती की गई है। वहीं कस्टम ड्यूटी कम कर दी गई है। आइए जानते हैं कौन सी चीजें सस्ती हुई है और कौन सी महंगी?

यह भी पढ़ें -   दुकानें बंद होने के चलते महंगे दामों में शराब बेचने ले जा रहे रास्ते में आये पुलिस की गिरफ्त में

महंगा क्या हुआ
बजट 2022 पेश होने के बाद से कैपिटल गुड्स पर आयात शुल्क में छूट खत्म कर दिया गया है। इसपर 7.5 फीसदी आयात शुल्क लगा दिया गया है। वहीं इमिटेशन ज्वैलरी पर कस्टम ड्यूटी बढ़ाई गई। इसका कारण आयात को कम करना है। साथ ही विदेशी छाता भी महंगा हो जाएगा। इसके अलावा कृत्रिम ज्वैलरी, लाउडस्पीकर, हेडफोन और इयरफोन, स्मार्ट मीटर, सोलर सेलर, सोलर मॉड्यूल, एक्स-रे मशीन व इलेक्ट्रॉनिक खिलौनों के पुर्जे महंगे होंगे।

सस्ता क्या हुआ
बजट पेश होने के बाद सस्ती चीजों की बात करें तो कपड़ा, चमड़े का सामान, मोबाइल फोन, चार्जर, हीरे के आभूषण, खेती के सामान सस्ते हो जाएंगे। इसके अलावा हीरे पर कस्टम ड्यूटी घटाई गई है। इसके अलावा विदेशी मशीनें और इलेक्ट्रानिक समान भी सस्ते हो जाएंगे। फ्रोजन मसल्स, फ्रोजन स्क्विड, हींग, कोको बीन्स, मिथाइल अल्कोहल, एसिटिक एसिड, तराशे और पॉलिश किए हुए हीरे, सेलुलर मोबाइल फोन के लिए कैमरा लेंस भी सस्घ्तो हो जाएंगे।

यह भी पढ़ें -   आज दिनांक १५ अगस्त मंगल वार का पंचांग

बिना ब्लेंडिंग वाले फ्यूल महेंगे होंगे
बिना मिश्रण वाले ईंधन पर एक अक्टूबर से दो रुपये लीटर अतिरिक्त उत्पाद शुल्क लगेगा, इसका मकसद पेट्रोल और डीजल में जैव ईंधन के मिश्रण को बढ़ावा देना है।

रक्षा क्षेत्र के लिए 68 प्रतिशत पूंजी को स्थानीय उद्योग के लिए आवंटित किया जाएगा
वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने मंगलवार को कहा कि सरकार रक्षा क्षेत्र में आयात को घटाने और आत्म निर्भरता को बढ़ाने के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि रक्षा क्षेत्र के लिए 68 प्रतिशत पूंजी को स्थानीय उद्योग के लिए आवंटित किया जाएगा। उन्होंने यह भी कहा कि अनुसंधान एवं विकास प्रौद्योगिकी उन्नयन के लिए सार्वभौमिक सेवा दायित्व कोष (ओएसओ) का पांच प्रतिशत आवंटित किया जाएगा। सीतारमण ने कहा, सभी गांवों में भारतनेट के तहत ऑप्टिकल फाइबर नेट को बिछाने का अनुबंध पीपीपी आधार पर दिया जाएगा। उन्होंने ध्यान दिलाया कि विश्व के लिए जलवायु परिवर्तन का जोखिम बाहरी कारक हैं तथा कम कार्बन विकास रणनीति से रोजगार के अवसर खुलेंगे।

सबसे पहले ख़बरें पाने के लिए -

👉 हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

👉 फेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज़ लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल सबस्क्राइब करें

हमसे संपर्क करने/विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें - +91 70170 85440

Leave a Reply

Your email address will not be published.