विधानसभा में नौकरी दिलाने के नाम पर लाखों की रुपये की ठगी

खबर शेयर करें

समाचार सच, हल्द्वानी। उत्तराखण्ड में विधानसभा में नौकरी दिलाने के नाम पर लाखों रुपए की ठगी का मामला प्रकाश में आया है। पीड़ितों ने मामले की शिकायत पुलिस क्षेत्राधिकारी से की है। पुलिस मामले की तहकीकात में जुट गई है।

सीओ को सौंपे गए शिकायती पत्र में गणेश सिंह निवासी जैंती, कृष्णा सिंह निवासी जैंती और नरेंद्र सिंह निवासी दाड़िमी जैंती का कहना है कि राजकीय बालिका इंटर कालेज जैंती में कार्यरत कविता मेहरा और उनके पुत्र आदित्य मेहरा ने उन्हें विधनसभा में नौकरी दिलाने का झांसा दिलाया। जिसके बाद उन्होंने हल्द्वानी रहने वाले रितेश पाण्डे नामक व्यक्ति से मिलवाया। नौकरी लगवाने के नाम पर रितेश पाण्डे ने उनसे 3-3 लाख रूपए की डिमांड की जिसके बाद उन्होंने उक्त धनराशि उसके बैंक खाते में ट्रांसफर कर दी।

यह भी पढ़ें -   गर्मियों में हम चमकती हुई चीजों को खरीदने में करती हैं गलतियां, आइए इन चीजों को खरीदते समय अक्सर हम किस बात का ध्यान रखें

पीड़ितों का कहना है कि उन्होंने अपने रिश्तेदारों से कर्ज कर उन्हें यह रकम दी थी। सितंबर 2021 में पैसा जमा कराने के बाद भी ना तो उनकी नौकरी लग पाई और ना ही उनका पैसा ही वापस मिल पाया। जब भी रितेश से पैसा मांगा जाता है तो वह धमकियां देने लगता है। उन्होंने जालसाजी के आरोपी कविता मेहरा, आदित्य मेहरा और रितेश पाण्डे के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की है। सीओ ने पुलिस को मामले की जांच करने के आदेश दिए हैं।

यह भी पढ़ें -   रजिस्ट्रेशन उपलब्धता की जांच करने के बाद ही चारधाम यात्रा शुरू करें तीर्थयात्री, यहां पर करें रजिस्ट्रेशन...

वहीं कमलुवागांजा निवासी नवीन चंद्र जोशी ने भी रितेश पाण्डे पर उसके साथ धोखा करने का आरोप लगाया है। आरोप है कि रितेश पाण्डे ने उसे नौकरी दिलाने का वायदा किया था और उसके एवज में उससे मोटी करम वसूली थी। रकम देने के बाद भी न तो नौकरी मिली और ना ही पैसा। जब भी उससे पैसा मांगा जाता है वह टाला मटोली करता है। पुलिस ने शिकायत के आधार मामले की जांच शुरू कर दी है।

सबसे पहले ख़बरें पाने के लिए -

👉 हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

👉 फेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज़ लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल सबस्क्राइब करें

हमसे संपर्क करने/विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें - +91 70170 85440

Leave a Reply

Your email address will not be published.