श्रीमद्भागवत कथा के छठे दिन रासलीला का वर्णन, भक्तिभाव में डूबे श्रद्धालुजन

खबर शेयर करें

समाचार सच, हल्द्वानी। राम चरण शरणम् ट्रस्ट के नेतृत्व में श्री राम वाटिका बैंक्वेट हॉल, ऊंचापुल में आयोजित श्रीमद्भागवत कथा के छठे दिन भगवान की अनेक लीलाओं में श्रेष्ठतम लीला रासलीला का वर्णन किया गया। इस दौरान उपस्थित श्रद्धालुजन भक्तिभाव में डूब गये।व्यास पं0 संजय कृष्ण ठाकुर जी ने प्रवचन करते हुए बताया कि रास तो जीव का शिव के मिलन की कथा है। यह काम को बढ़ाने की नहीं काम पर विजय प्राप्त करने की कथा है। इस कथा में कामदेव ने भगवान पर खुले मैदान में अपने पूर्व सामर्थ्य के साथ आक्रमण किया है लेकिन वह भगवान को पराजित नही कर पाया उसे ही परास्त होना पड़ा है रास लीला में जीव का शंका करना या काम को देखना ही पाप है गोपी गीत पर बोलते हुए व्यास जी ने कहा जब तब जीव में अभिमान आता है भगवान उनसे दूर हो जाता है लेकिन जब कोई भगवान को न पाकर विरह में होता है तो श्रीकृष्ण उस पर अनुग्रह करते है उसे दर्शन देते है। भगवान श्रीकृष्ण के विवाह प्रसंग को सुनाते हुए बताया कि भगवान श्रीकृष्ण का प्रथम विवाह विदर्भ देश के राजा की पुत्री रुक्मणि के साथ संपन्न हुआ लेकिन रुक्मणि को श्रीकृष्ण द्वारा हरण कर विवाह किया गया। इस कथा में समझाया गया कि रुक्मणि स्वयं साक्षात लक्ष्मी है और वह नारायण से दूर रह ही नही सकती यदि जीव अपने धन अर्थात लक्ष्मी को भगवान के काम में लगाए तो ठीक नही तो फिर वह धन चोरी द्वारा, बीमारी द्वारा या अन्य मार्ग से हरण हो ही जाता है। धन को परमार्थ में लगाना चाहिए और जब कोई लक्ष्मी नारायण को पूजता है या उनकी सेवा करता है तो उन्हें भगवान की कृपा स्वत ही प्राप्त हो जाती है। श्रीकृष्ण भगवान व रुक्मणि के अतिरिक्त अन्य विवाहों का भी वर्णन किया गया।
कथा में मुख्यरूप से ट्रस्ट के संस्थापक स्वामी नयनदास महाराज, संयोजक नीरज तिवारी, संरक्षक श्रीमती कुसुम रावत, जगदीश रावत, यजमान सुभाष जोशी, शंकर दत्त जोशी, श्री ललित मोहन जोशी, गोपाल भट्ट, मनोज भट्ट, कृष्णा नेगी, पियूष जोशी, जय दत्त जोशी, पार्षद प्रमोद पंत, मनोज जोशी, आचार्य पं0 कमलेश पाण्डेय, पं0 लाखन पाण्डे, पं0 प्रमोद जोशी सहित भारी संख्या में श्रद्धालुजन मौजूद थे।

Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad

सबसे पहले ख़बरें पाने के लिए -

👉 हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

👉 फेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज़ लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल सबस्क्राइब करें

हमसे संपर्क करने/विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें - +91 70170 85440