डीआईजी ने अपराधिक गतिविधियों पर जताई चिंता, दिये यह निर्देश

Ad
खबर शेयर करें

समाचार सच, हल्द्वानी। उधमसिंह नगर और नैनीताल में बढ़ रही आपराधिक गतिविधियों पर चिंता व्यक्त करते हुए डीआईजी नीलेश आनंद भरणे ने इन पर नियंत्रण के निर्देश दिए हैं। डीआइजी ने कहा कि बीते कुछ समय में मंडल के विभिन्न स्थानों पर सड़क दुर्घटनाओं की संख्या में खासा इजाफा हुआ है। इसका मुख्य कारण कोविड के दौर में एल्कोमीटर का प्रयोग न किया जाना है। ऐसी स्थिति में उन्होंने शराब के नशे में वाहन चलाने वाले चालकों के ब्लड सैंपल लिए जाने के निर्देश दिए। इसके अलावा लगातार बढ़ रही चोरी की वारदातों में नियंत्रण को लेकर निर्देशित किया गया। कहा कि मंडल में पुलिस की ओर से चार नए अभियान शुरू किए जा रहे हैं। जिनमें मालों का निस्तारण, लंबित विवेचनाओं का निदान, वांछित अपराधियों की गिरफ्तारी तथा इनामी अपराधियों को गिरफ्तार करना शामिल है।

यह भी पढ़ें -   सीएम धामी ने किया जु-जित्सु खिलाड़ियों का सम्मान

इधर देवभूमि ट्रक ऑनर्स यूनियन के पदाधिकारी भी डीआइजी से मिले और उन्हें आपबीती सुनाई। उनका कहना था कि पुलिस और सीपीयू उनका उत्पीड़न कर रही है। डीआईजी भरणे ने आश्वासन देते हुए कहा कि मामला संज्ञान में आ गया हैं, शीघ्र इस मामले की जांच की जायेगी।

यह भी पढ़ें -   बुजुर्ग की संदिग्ध परिस्थितियों में हुई मौत, पुत्री ने लगाया हत्या का आरोप

डीआईजी के निर्देश: सीपीयू दायरे में रहकर करे कार्य
बार – बार सीपीयू की आ रही शिकायतों पर डीआईजी कुमाऊं निलेश आनंद भरणे ने निर्देश देते हुए कहा कि सीपीयू अपने दायरे में रहकर काम करें। साथ ही उन्होंने सीमाओं का उल्लघंन न करने की हिदायत दी। हल्द्वानी बहुउद्देशीय भवन में सोमवार को सीपीयू और पुलिस अधिकारियों के साथ वार्ता कर रहे थे। आपको बता दे कि ट्रांसपोर्ट यूनियन के द्वारा सीपीयू एवं पुलिस द्वारा काटे जा रहे अनावश्यक चालान को लेकर तीन दिवसीय हड़ताल पर हैं वहीं फड़, ठेले वालों ने भी पुलिस व सीपीयू उत्पीड़न के विषय पर एसपी सिटी को ज्ञापन सौंपते हुए चेतावनी दी है कि अगर उनका रवैया इसी तरह रहा तो वह नगर निगम को तहबाजारी नहीं देंगे।

यह भी पढ़ें -   सम्मानित व्यापारियों को 2021-22 का प्रमाण पत्र दे दिया तो वर्ष 2021 में चुनाव क्यों?

बैठक में एसपी सिटी डा. जगदीश चंद्र, सीओ शांतनु पाराशर, सीओ लालकुआं प्रमोद साह, सीओ रामनगर, एलआईयू, सीपीयू, यातायात प्रभारी समेत कोतवाल, थाना प्रभारी आदि थे।

Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *