उत्तराखंड के ऊधमसिंहनगर जिले में एक ज्वैलर्स के परिवार के चार लोगों की हत्या, पूरे इलाके में दहशत का माहौल

खबर शेयर करें

समाचार सच, रुद्रपुर/नानकमत्ता (ऊधमसिंह नगर)। उत्तराखण्ड के ऊधमसिंह नगर जिले में एक ज्वैलर्स के परिवार के चार लोगों की हत्या करने का मामला सामने आया है। बदमाशों ने धारदार हथियार से गला रेत कर दिलदहलाने वाली घटना को अंजाम दिया है। इस हत्या की घटना से पूरे इलाके में दहशत का माहौल बना हुआ है। सूचना के बाद मौके पर पहुंचे पुलिस अधिकारी व उनकी टीम ने घटना की जानकारी ली और शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिये भेज दिया है। मृतकों के परिवारजनों में कोहराम मचा हुआ है। हत्या करने वालों की तलाश में पुलिस और एसओजी की टीम जुट गई है।

Ad

प्राप्त जानकारी के मुताबिक 28 वर्षीय अंकित रस्तोगी उर्फ अजय रस्तोगी पुत्र शिव शंकर वार्ड नंबर 6 नानकमत्ता में अपनी 55 वर्षीया मां आशा रस्तोगी पत्नी शिव शंकर रस्तोगी के साथ रहते थे। करीब 1 महीने पहले उन्होंने यहां ज्वैलर्स की दुकान खोली थी। उनका हाथ बंटाने के लिए अंकित का ममेरा भाई उदित रस्तोगी पुत्र अनिल रस्तोगी निवासी शाही बरेली और उसकी 80 वर्षीया दादी सन्नो देवी पत्नी हजारीलाल कुछ समय पूर्व ही उनके घर में आए थे। चारों लोग एक ही घर में रह रहे थे। जबकि अंकित के पिता शिव शंकर रस्तोगी अपने दूसरे बेटे आदेश रस्तोगी के साथ नानकमत्ता में ही रह रहे हैं। 29 दिसम्बर बुधवार दोपहर बाद करीब 2 बजे कुछ लोगों ने पुलिस को एनएच 125 से जुड़े लिंक मार्ग सिद्धावधिया मार्ग पर पुल से करीब 100 मीटर दूरी पर दो शव पड़े होने की सूचना दी। इस सूचना से पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया। सूचना पर मौके पर पुलिस पहुंची तो दोनों युवकों के क्षत-विक्षत शव बरामद हुए। शवों पर धारदार हथियार के गले और पूरे शरीर पर गहरे निशान थे। पुलिस का मानना है कि किसी तेज चाकू जैसे हथियार से युवकों का गला रेंता गया है।

यह भी पढ़ें -   स्मैक बेचने के लिए कर रहा था ग्राहक का इंतजार, आया पुलिस के गिरफ्त में

पुलिस को मौके से मृतक अंकित रस्तोगी का मोबाइल मिला। इसके जरिए पुलिस ने अंकित के भाई आदेश रस्तोगी से फोन कर संपर्क साधा। भाई की मौत की सूचना से आदेश स्तब्ध हो गया। पुलिस ने आदेश से अंकित के घर की जानकारी ली और पुलिस की एक टीम घर की ओर रवाना हो गई। पुलिस जब वार्ड नंबर 6 में अंकित के घर पहुंची तो घर का शटर गिरा हुआ था लेकिन अंदर से बंद नहीं था। पुलिस ने शटर उठाकर अंदर देखा तो अंदर आशा रस्तोगी और शन्नो देवी के शव पड़े हुए मिले। इन दोनों के शरीर पर भी तेज धारदार हथियार से प्रहार के निशान थे। दो और शव बरामद होने पर पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया। स्थानीय पुलिस ने इसकी सूचना जिला मुख्यालय में दी। इस पर एसएसपी दलीप सिंह कुंवर, एएसपी ममता भूरा सुमित आला अधिकारी मौके की ओर रवाना हो गए। अधिकारियों ने घटनास्थल का मुआयना किया है। इधर सूचना के बाद जिलाधिकारी युगल किशोर पंत और अपर जिलाधिकारी नजूल और प्रशासन जय भारत सिंह भी घटनास्थल पर पहुंच गए हैं। इस हत्याकांड के बाद मृतकों के परिवार में कोहराम मचा हुआ है। फिलहाल एसओजी समेत कई पुलिस टीमें हत्याकांड के खुलासे के लिए जांच में जुट गई हैं।

Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *