पुण्यतिथि पर ब्रह्मविद्यायति बसन्ती माई जी को अर्पित की भावभीनी श्रद्धांजलि

खबर शेयर करें

समाचार सच, हल्द्वानी। श्री महादेव गिरि संस्कृत महाविद्यालय की पूर्व व्यवस्थापिका महान परोपकारी महिला सन्यासिनी ब्रह्मलीन श्रीश्री १००८ ब्रह्मविद्यायति बसन्ती माई जी की पुण्यतिथि पर उन्हें भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की गयी। संस्कृत महाविद्यालय देवलचौड हल्द्वानी में उनकी पुण्यतिथि पर रुद्राभिषेक पाठ विफल विचरण किये गये।

महाविद्यालय के प्राचार्य डा0 नवीन चन्द्र जोशी ने कहा कि ब्रह्मा विद्यायति माता ज़ी ने सैंकड़ो निर्धन छात्रों का लालन पालन किया उन्हें निःशुल्क पढ़ाया। अनेकों ब्राह्मण कन्याओं का विवाह भी कराया। उन्होंने ने कहा कि वो कुमाऊं की मदर टेरेसा थीं। हजारों गरीब छात्रों को उन्होंने ने सहारा देकर आत्मनिर्भर बनाया। उनके समय में संस्कृत महाविद्यालय में आवास भोजन वस्त्र सब निःशुल्क होता था। हल्द्वानी में अनेक आश्रम उन्हीं के द्वारा बनाये गये। उन्होंने ने कहा कि वो एक महान महिला सन्यासिनी थी जो दया करुणा की प्रतिमूर्ति थी।

यह भी पढ़ें -   दोस्त के साथ नहाने गए युवक की नदी में डूबने से मौत

इस अवसर पर उन्होंने ने मेयर डा0 जोगेन्द्र पाल सिंह रौतेला ज़ी ज्ञापन प्रेषित कर अनुरोध किया कि हल्द्वानी की एक महिला सन्यासिनी ब्रह्मलीन ब्रह्मा विद्यायति माता ज़ी के नाम पर स्मारक अथवा उनके नाम पर मार्ग या चौराहे नाम रखा जायें। कार्यक्रम में डा0 कृष्ण चन्द्र जोशी, डा0 चन्द्र बल्लभ बेलवाल, आचार्य दिनेश चन्द्र तिवारी, महेश जोशी, राकेश पंत सहित अनेक छात्र उपस्थित थे।

सबसे पहले ख़बरें पाने के लिए -

👉 हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

👉 फेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज़ लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल सबस्क्राइब करें

हमसे संपर्क करने/विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें - +91 70170 85440

Leave a Reply

Your email address will not be published.