Ungli Catkana

अगर आपको भी बार-बार उंगलियां चटकाने की आदत? तो हो सकता है भारी नुकसान

खबर शेयर करें

समाचार सच, स्वास्थ्य डेस्क। इंसान कभी भी ज्यादा देर फ्री नहीं बैठ सकता है अगर वह फ्री होगा भी तो उसके हाथ काम करने कभी बंद नहीं करेंगे। बहुत से लोग ऐसे होते हैं जिन्हें उंगलियां को चटकाने की आदत होती है। वह कभी भी फ्री बैठे हो तो अपनी उंगलियां को चटकाना शुरू कर देते हैं। हालांकि कईं लोगों को तो इसकी बहुत बुरी आदत भी हो जाती है। एक रिसर्च की मानें तो दुनिया में 98 प्रतिशत लोगों को यह आदत जरूर होती है। इससे लोगों को आराम तो जरूर मिलता है लेकिन ऐसा करना आपकी सेहत को भी मुसीबत में डाल सकता है।
उंगलियां चटकाने पर क्यों आती है आवाज?
बहुत से लोगों को लगता है कि उंगलियां को चटकाने वक्त आवाज इसलिए आती है क्योंकि हड्डियां आपस में टकराती हैं लेकिन इसके पीछे की वजह जानकर आप भी हैरान रह जाएंगे क्योंकि उंगलियां चटकाने से जब आवाज आती है तो उसका हड्डियों से कोई लेना देना नहीं है। इस पर वैज्ञानिकों की मानें तो उंगलियों के जोड़ के आस-पास एक द्रव या थ्सनपक होता है जिसे साइनोवियल फ्लूड भी कहा जाता है। इस थ्सनपक में ।पत घुली होती है। अब जब हम उंगलियों को जरूरत से ज्यादा बेंड कर देते हैं या मोड़ देते हैं तो ये हवा बुलबुलों के रूप में उस थ्सनपक से बाहर निकलने लगती है और इन्हीं बुलबुलों के निकलने की वजह से चट-चट की आवाजें होने लगती हैं।
अब जान लें बार-बार उंगलियां को चटकाने के नुकसान

  1. हड्डियां होती हैं कमजोर
    कुछ डॉक्टर्स की मानें तो बार-बार उंगलियां को चटकाने के कारण हमें बेशक रिलेक्स फील होता है लेकिन इससे हड्डियां कमजोर होने लगती हैं। इसका कारण है कि हड्डियां लिगामेंट की मदद से जुड़ी हुई होती हैं और जब हम हड्डियों को स्ट्रेच करते हैं तो यह कमजोर होने लगती है।
  2. उंगलियां में सूजन आना
    एक शोध की मानें तो जिन लोगों को बार-बार उंगलियां को चटकाने की आदत होती हैं उनकी अंगुलियों में सूजन आ जाती है। इसलिए अगर आप को यह आदत है तो आप आज से ही इससे दूरी बना लें।
  3. खिसक सकते हैं जोड़
    हालांकि ऐसे मामले बहुत कम सामने आए हैं लेकिन ऐसा देखा गया है कि अगर आप उंगलियां को ज्यादा जोर देकर दबाते हैं या चटकाते हैं तो इससे जोड़ भी खिसक सकते हैं जिससे आपकी परेशानी बढ़ सकती हैं।
  4. पकड़ कमजोर होना
    जो लोग उंगलियां चटकाते हैं उनकी पकड़ कमजोर हो जाती है। साथ ही हाथ भी कमजोर होते हैं।

सबसे पहले ख़बरें पाने के लिए -

👉 हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

👉 फेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज़ लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल सबस्क्राइब करें

हमसे संपर्क करने/विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें - +91 70170 85440

Leave a Reply

Your email address will not be published.