सर्दी के मौसम में बारिश लाती है बीमारियां, ऐसे रखें अपनों का ख्याल

खबर शेयर करें

समाचार सच. स्वास्थ्य डेस्क। ठंड के मौसम में हुई बरसात में भी स्वास्थ्य पर विशेष ध्यान देने की जरूरत होती है, क्योंकि यह मौसम अपने साथ बहुत सारी बीमारियां लाता है। इस मौसम में सर्दी-जुकाम, फ्लू, वायरल जैसी बीमारियां हमें घेर सकती हैं। सर्दी के मौसम में गुरुवार को अचानक अंचल सहित कई क्षेत्रों में जमकर बारिश हुई। इससे एक तरफ जहां सरसों की फसल को नुकसान हुआ है। वहीं इस मौसम में बारिश कई प्रकार की बीमारियों को भी अपने साथ लाती है। इस मौसम में हुई बारिश में भीगना या कपड़े गीले होने पर भी नहीं बदलना आपको बीमारी की आगोश में ले जा सकता है। इन्हीं सब बातों को देखते हुए हमने इस मौसम में आपका स्वास्थ्य कैसे ठीक रहे को लेकर बारिश की बूंदें अपने साथ अनेक बीमारियां भी लाती हैं। मौसम में अचानक आया परिवर्तन आपके स्वास्थ्य पर बुरा असर डालता है। ऐसे में यदि खान-पान को लेकर थोड़ी सावधानी बरती जाए तो मौसम का आनन्द उठाते हुए आप खुद को स्वस्थ भी रख सकते हैं।
एक्सपर्ट के अनुसार ठंड के मौसम में हुई बरसात में भी स्वास्थ्य पर विशेष ध्यान देने की जरूरत होती है, क्योंकि यह मौसम अपने साथ बहुत सारी बीमारियां लाता है। इस मौसम में इंफेक्शन, सर्दी-जुकाम, फ्लू, वायरल जैसी बीमारियां हमें घेरे रखती हैं। इसलिए इस मौसम में जरूरी है कि हम साफ-सफाई और अपने आहार का विशेष ख्याल रखें। खाने की कुछ ऐसी चीजें हैं, जो बरसात के मौसम में लाभकारी होती हैं।

यह भी पढ़ें -   नीबू पानी के सेवन से आपके शरीर को भरपूर रूप से विटामिन सी प्राप्त होता है
  1. इस मौसम में जहां तक हो सके बारिश के पानी में भीगे नहीं।
  2. यदि किसी कारणवश भीग भी जाएं तो तुरंत स्वयं को सुखा लें।
  3. किसी भी स्थिति में गीले कपड़ों को पहने न रखें।
  4. तुलसी: तुलसी की न केवल पूजा की जाती है, बल्कि ये कई अन्य प्रकार से लाभकारी पौधा है। बारिश में होने वाले कई तरह के बुखारों में ये दवा का काम करती है। तुलसी के पत्तों का पाउडर इलायची के पाउडर के साथ मिलाकर लेने से बुखार में राहत मिलती है। गले में खराश होने पर तुलसी के पत्तों को पानी में डालकर गरारे करने से लाभ होता है। श्वसन संबंधी समस्याओं और किडनी में छोटी पथरी होने पर तुलसी का नियमित उपयोग फायदा करता है। सर्दी-खांसी व जुकाम में तुलसी के पत्ते डालकर बनाई गयी चाय पीने से आराम मिलता है।
  5. नीम: नीम का उल्लेख आयुर्वेद में भी मिलता है। नीम के वृक्ष का हर भाग हर रूप में हमारे लिए लाभकारी होता है। मलेरिया में भी नीम की पत्तियां मरीज के लिए काफी उपयोगी होती हैं। बरसात होने पर नीम कई परेशानियों से निजात दिलाता है।
  6. हल्दी: हल्दी शरीर के आंतरिक और बाहरी रोगों में एक एंटीसेप्टिक का काम करती है। यह पेट के कीड़ों को खत्म करने, त्वचा रोगों से निजात दिलाने और घाव के लिए एंटीसेप्टिक की तरह मदद करती है। बरसात होने पर भी कई तरह के इंफेक्शंस से बचने में हल्दी मदद करती है।
    चित्र में ये शामिल हो सकता हैरू एक या और लोेग, लोग सो रहे हैं, शिशु और क्लोज़अप
    इस मौसम में बच्चों को बीमारियों से ऐसे बचाए…
    बारिश का मौसम राहत के साथ-साथ आफत भी लेकर आता है, खासकर छोटों बच्चों के लिए। ये मौसम साथ में कई बीमारियां भी लेकर आता है, अगर वक्त पर ध्यान ना दिया जाए तो आप परेशानी में पड़ सकते हैं, इसलिए बच्चों का इस तरह से ध्यान दें।
  7. बच्चों को बारिश में बिलकुल न भीगने दें।
  8. इस मौसम में साफ-सफाई का पूरा ख्याल रखें, और मौसमी फल जरूर दें। बाहर की चीजें बच्चों को ना दें।
  9. गीले कपड़े भूलकर भी कभी न पहनाएं।
  10. अगर बच्चे बारिश में भींग जाएं तो उन्हें तुरंत पोंछ कर सूखे कपड़े पहनाएं।
Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad

सबसे पहले ख़बरें पाने के लिए -

👉 हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

👉 फेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज़ लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल सबस्क्राइब करें

हमसे संपर्क करने/विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें - +91 70170 85440