भाग्य….

खबर शेयर करें

वो दिन रात काम करते हैं,
हर पल का हमेशा सम्मान करते हैं,
उठते हैं गिरकर भी निराशा को हटाकर,
मन का पुनः निर्माण करते हैं
अनेक उलझनों के साथ
राह उलझती जाती है
फिर भी बटोर के शक्तियां अपनी वो चलते हैं।
जब मंजिल उसके कदम चूम गयी
लोगों ने कहा ‘‘उसके भाग्य में थी, सो उसे मिल गयी।
-डॉ0 आर0के0 शर्मा

यह भी पढ़ें -   हल्द्वानी में फल-सब्जी आढ़ती को उसी के मुनीम ने लगाया लाखों का चूना, 79 लाख गबन कर खरीद दिए 2 ट्रक, कार, बाइक और घर
Ad Ad Ad Ad Ad
Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad

सबसे पहले ख़बरें पाने के लिए -

👉 हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

👉 फेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज़ लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल सबस्क्राइब करें

हमसे संपर्क करने/विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें - +91 70170 85440