आयुर्वेद में इलायची के इस्तेमाल से किया जा सकता है कई रोगों का इलाज

खबर शेयर करें

समाचार सच, स्वास्थ्य डेस्क। भारत समेत दुनियाभर में इस्तेमाल की जाने वाली इलायची सबसे पुरानी जड़ी-बूटियों में से एक है। भारत में इलायची वाली चाय काफी लोकप्रिय है और इसलिए यह हर भारतीय रसोई में पाई जाती है। अंग्रेजी भाषा में इसे कार्डमम के नाम से जाना जाता है और इसका वैज्ञानिक नाम इलेटेरिया कार्डमम है। इलायची से अत्यंत सुखद सुगंध आती है, जिसकी मदद से चाय व अन्य मीठे पकवानों की खुशबू व स्वाद बढ़ाया जाता है। वही आयुर्वेद में भी इसका इस्तेमाल हजारों सालों से रोगों का इलाज करने के लिए किया जा रहा है। आजकल मार्केट सैंकड़ों ऐसे उत्पाद हैं, जिनमें इलायची का इस्तेमाल एक फ्लेवर के रूप में किया जाता है।

इलायची के फायदे
भोजन का स्वाद और महक बढ़ाने के साथ-साथ इसका सेवन करने से स्वास्थ्य संबंधी कई लाभ मिलते हैं, जिनमें निम्न शामिल हैं –

इलायची करे मुंह की बदबू दूर
मुंह की बदबू को दूर करने के लिए इलायची का व्यापक रूप से इस्तेमाल किया जाता है। मुंह की बदबू को दूर करने के लिए आप रोजाना सुबह और शाम एक-एक इलायची को कुछ मिनट तक चबा सकते हैं।

मसूड़ों के रोग को दूर करे इलायची का सेवन
इलायची में कई ऐसे सक्रिय तत्व पाए जाते हैं, जो मसूड़ों में होने वाली सूजन व लालिमा को दूर करते हैं। इलायची के सेवन से दांत के दर्द को भी कुछ हद तक कम किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें -   नाबालिग बाइक चलाते हुए दिखे तो अभिभावक होगें दोषी, 25 हजार जुर्माने के साथ तीन साल तक की हो सकती है सजा

संक्रमण रोकने में मदद करे इलायची
कुछ अध्ययन बताते हैं कि इलायची में बैक्टीरिया व फंगी को रोकने के गुण पाए जाते हैं। इलायची के बीज व तेल दोनों में कुछ ऐसे तत्व पाए जाते हैं, जो बैक्टीरिया की ऊपरी झिल्ली को नष्ट कर देते हैं जिससे संक्रमण फैलने से रोकने में मदद मिलती है।

लिवर को स्वस्थ रखे इलायची का सेवन
आयुर्वेद के अनुसार इलायची में शरीर से विषाक्त पदार्थों को निकालने की शक्ति होती है। हालांकि, इस पर कोई सख्त प्रमाण तो नहीं मिल पाया है। फिर भी कुछ अध्ययन बताते हैं कि इलायची के सेवन से लीवर से विषाक्त पदार्थ निकालने में मदद मिल सकती है और परिणामस्वरूप लीवर स्वस्थ रहता है।

इलायची है छालों को रोकने में प्रभावी
इलायची का सेवन करने से पेट को आराम मिलता है और पेट में होने वाले अल्सर कम हो जाते हैं। इतना ही नहीं इलायची का सेवन करने से मुंह के छालों के लक्षणों को कम किया जा सकता है और इससे मुंह में ठंडक महसूस होती है।

हालांकि, ऊपर बताए गए सभी लाभ सिर्फ अध्ययनों व परीक्षणों पर आधारित होते हैं, जिनमें से कुछ अध्ययन चूहे व अन्य जानवरों पर किए जाते हैं। हर व्यक्ति का शरीर अलग तरीके से काम करता है, इसलिए किसी उपचार के रूप में इलायची का सेवन करने से पहले डॉक्टर से सलाह अवश्य लें।

यह भी पढ़ें -   दोस्त के साथ नहाने गए युवक की नदी में डूबने से मौत

इलायची के नुकसान
इलायची को खाद्य पदार्थों में डालकर सेवन करना पूरी तरह से सुरक्षित माना गया है और प्राचीन समय से ही लोग इसका सेवन कर रहे हैं। हालांकि, अधिक मात्रा में इसका सेवन करने से स्वास्थ्य संबंधी कुछ समस्याएं भी हो सकती हैं जैसे जी मिचलाना, सीने में जलन होना या पेट संबंधी कोई अन्य समस्या होना। यदि आप कोई अन्य दवा लेते हैं, तो उसके साथ इलायची का सेवन करने से पहले डॉक्टर से इस बारे में बात कर लें। क्योंकि दवाओं के साथ इलायची में मौजूद तत्व शरीर में रिएक्शन भी पैदा कर सकते हैं।

इलायची का उपयोग कैसे करें
इलायची का उपयोग अनेक कार्यों में किया जाता है। यह न सिर्फ व्यंजनों को खुशबू व फ्लेवर प्रदान करने में मदद करती है, इससे अनेक स्वास्थ्य समस्याओं को दूर किया जा सकता है। वहीं आजकल मार्केट में सैंकड़ों प्रोडक्ट ऐसे हैं, जिनमें इलायची को फ्लेवर या खुशबू के रूप में इस्तेमाल किया गया है।

  • एक कप चाय में एक या दो इलायची उबालकर पिएं
  • एक या दो इलायची को अपने मुंह में रखकर कुछ देर तक चबाएं
  • रात को एक कप में चार इलायची भिगोएं और सुबह पानी पी लें
  • किसी अन्य व्यंजन में डालकर भी इलायची का सेवन किया जा सकता है

हालांकि, आपके स्वास्थ्य के लिए कितनी मात्रा में इलायची उचित है, यह पता करने के लिए डॉक्टर से बात करें।

सबसे पहले ख़बरें पाने के लिए -

👉 हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

👉 फेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज़ लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल सबस्क्राइब करें

हमसे संपर्क करने/विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें - +91 70170 85440

Leave a Reply

Your email address will not be published.