उत्तराखंड के दून में रात का कर्फ्यू, 1 से कक्षा 12 तक के स्कूल 30 अप्रैल तक रहेंगे बंद

खबर शेयर करें

समाचार सच, देहरादून (फरहत रऊफ)। उत्तराखंड सरकार की कैबिनेट बैठक में कई बड़े फैसले लिए गए। सीएम तीरथ सिंह रावत कैबिनेट ने राजधानी देहरादून में रात्रि कर्फ्यू लगाने का निर्णय लिया है। इसके अलावा चकराता व कालसी क्षेत्र को छोड़कर संपूर्ण देहरादून जिला, हरिद्वार जिला, नैनीताल नगर पालिका व हल्द्वानी नगर निगम क्षेत्र में कक्षा एक से 12वीं तक सभी स्कूल 30 अप्रैल तक बंद रखने पर भी कैबिनेट ने मुहर लगाई है। जबकि 10वीं व 12वीं की कक्षाओं की आफलाइन पढ़ाई पहले की तरह चलती रहेगी। ऐसा कोरोना के खतरे को देखते हुए किया गया है।

शुक्रवार को तीरथ सिंह रावत कैबिनेट की बैठक पर सभी की नजरें लगी हुई थीं। इस बैठक में कोरोना को लेकर अहम फैसले होने का अनुमान भी लगाया गया था। कैबिनेट की बैठक में भी कोरोना पर ही सरकार का फोकस रहा। सरकार ने राज्य के लोगों को संक्रमण से बचाने के लिए अहम फैसले लिए। देहरादून जनपद के चकराता कालसी को छोडक़र हरिद्वार, नैनीताल नगर पालिका क्षेत्र, नगर निगम हल्द्वानी में कक्षा 1 से 12 कक्षा तक के स्कूल 30 अप्रैल तक बंद रखने का निर्णय लिया गया। देहरादून नगर निगम में रात 10 बजे से सुबह 5 बजे तक नाइट कर्फ्यू लगेगा।

यह भी पढ़ें -   10वीं पास युवाओं के लिए रेलवे ने जारी की बंपर भर्तीं, जल्दी करे आवेदन

कोरोना मरीजों की संख्या में बढ़ोत्तरी को देखते हुए लिया सीएम रावत कैबिनेट ने फैसला
राज्य में गुरुवार को कोरोना के 787 नए मरीज मिले थे, जिसमें 3 कोरोना संक्रमित मरीज की मौत हो गई। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार गुरुवार को देहरादून में 239, हरिद्वार में 277, अल्मोड़ा में 16, बागेश्वर में छह, चमोली में 10, चम्पावत में 1, नैनीताल में 132, पौड़ी में 8, पिथौरागढ़ में 6, रुद्रप्रयाग में 12, टिहरी में 39, यूएस नगर में 34 और उत्तरकाशी में 7 नए कोरोना संक्रमित मरीज मिले हैं। शुक्रवार को कोरोना मरीजों की संख्या जारी रही। इसी को लेकर तीरथ सिंह रावत कैबिनेट ने अहम फैसले किए हैं।

सबसे पहले ख़बरें पाने के लिए -

👉 हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

👉 फेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज़ लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल सबस्क्राइब करें

हमसे संपर्क करने/विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें - +91 70170 85440

Leave a Reply

Your email address will not be published.