कांग्रेस प्रदेश प्रवक्ता दीपक बल्यूटिया की दावेदारी से हल्द्वानी में राजनीतिक हलचल तेज

खबर शेयर करें

समाचार सच, हल्द्वानी। कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता दीपक बल्यूटिया ने हल्द्वानी विधानसभा से अपनी दावेदारी ठोक दी है। विकास पुरुष कहे जाने वाले पूर्व मुख्यमंत्री स्वर्गीय नारायण दत्त तिवारी की पारिवारिक पृष्ठभूमि से होने के कारण दीपक की मजबूत दावेदारी होने से राजनीतिक हलचल तेज हो गई है।

Ad

कांग्रेस पार्टी की वरिष्ठ नेत्री पूर्व नेता प्रतिपक्ष डॉक्टर इंदिरा हृदयेश के निधन के बाद पार्टी इस सीट पर मजबूत और जिताऊ दावेदार ढूंढ रही है। अपने तीन दशक के राजनैतिक करियर में दीपक बल्यूटिया ने जिला युवा कांग्रेस के सचिव से लेकर कुमाऊं क्षेत्र के मीडिया प्रभारी और उत्तराखंड राज्य कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता तक, एक साथ कई जिम्मेदारी निभाईं हैं। दीपक बल्यूटिया का जन्म उत्तराखंड के जिला नैनीताल के ग्राम बल्यूटी के एक मध्यमवर्गीय किसान परिवार में हुआ। उन्होंने ने बैचलर ऑफ साइंस, बी.एड और एमबीए (एचआर) तक शिक्षा हासिल की है। पूर्व मुख्यमंत्री स्वर्गीय एनडी तिवारी का ननिहाल बल्यूटी गांव में था। दीपक के परदादा स्व. पद्मादत्त बल्यूटिया जो कि बल्यूटी गांव के एक जमीदार थे और भीमताल बांध का डिजाइन उन्होंने ही तैयार किया था। वह (पद्मादत्त बल्यूटिया) तिवारी जी के मामा थे। भीमताल बांध का डिजाइन बनाने के लिए स्वर्गीय श्री पद्मादत्त बल्यूटिया जी को मरणोपरांत राष्ट्रपति पुरस्कार से नवाजा गया। यह पुरस्कार 2005 में दीपक के पिता नवीन नवीन बल्यूटिया ने तत्कालीन राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम के हाथों ग्रहण किया।

यह भी पढ़ें -   छींके आना बंद नहीं हो रहीं? ये रहे बेहतरीन घरेलू उपाय

दीपक ने 1993 में नैनीताल जिला युवा कांग्रेस के सचिव के रूप में राजनीति में पदार्पण किया और 1995 तक युवा कांग्रेस के जिला सचिव रहे। उनकी कार्यकुशलता से प्रभावित होकर कांग्रेस ने उन्हें 1999 में नैनीताल से जिला युवा कांग्रेस के अध्यक्ष के पद पर पदोन्नत कर दिया। दीपक ने अपने सामाजिक कार्यों से लोगों के दिलों में एक खास जगह बनाई। वो लगातार स्थानीय लोगों के जीवन स्तर में सुधार के लिए लगातार प्रयासरत रहे हैं। अपनी राजनैतिक जिम्मेदारी के साथ साथ वह सामाजिक जिम्मेदारी को भी बखूबी निभाते रहे हैं। 2007 तक दीपक बल्यूटिया नैनीताल जिले के यूथ कांग्रेस के अध्यक्ष पद पर रहे और निरंतर पार्टी को आगे बढ़ाने का कार्य करते रहे। बल्यूटिया 2007 से लेकर 2011 तक उत्तराखंड यूथ कांग्रेस के उपाध्यक्ष पर रहते हुए कांग्रेस पार्टी के विचारधारा को लगातार आगे बढ़ाते रहे। उन्होंने 2010 से 2013 तक हल्द्वानी में पब्लिक स्कूल एसोसिएशन के अध्यक्ष पद पर भी रहे हैं और उन्होंने 2006 से 2010 तक उत्तराखंड बी.एड. एसोशिएसन के अध्यक्ष के रूप में कार्यभार संभाला। वर्ष 2014 में बल्यूटिया को उत्तराखंड राज्य कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता के पद नियुक्त किया गया। 22 जुलाई 2021 से वह कुमाऊं क्षेत्र के मीडिया प्रभारी और उत्तराखंड राज्य कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता के रूप में अपनी सेवाएं दे रहे हैं। आगामी विधानसभा चुनावों में हल्द्वानी विधानसभा से प्रत्याशी के रूप में दावेदारी भी कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें -   उपहार में मिली इन चीजों को भूलकर भी ना रखें घर में, लेकर आती हैं दुर्भाग्य

बल्यूटिया आम जनमानस के सरोकरों से जुड़े आंदोलनों का नेतृत्व करते रहे हैं। उन्होंने पानी बिजली के लिए और भाजपा सरकार के कुशासन के खिलाफ विभिन्न आंदोलनों का आयोजन एवं नेतृत्व किया है। दीपक ने सुशीला तिवारी मेडिकल कॉलेज में प्रवेश में भ्रष्टाचार के खिलाफ तीन दिनों की भूख हड़ताल की और संघर्ष किया। वह जवाहर ज्योति दमुआढूंगा क्षेत्र लगभग 7000 परिवारों को उनके घरों का मालिकाना हक दिलाने के लिए लड़ाई लड़ रहे हैं। उन्होंने यूकेपीसीसी/एआईसीसी द्वारा आयोजित विभिन्न स्तरों पर सभी कार्यक्रमों में सक्रिय भाग लिया। हल्द्वानी (वनभूलपुरा, राजपुरा, अंबेडकर नगर, गांधी नगर, गुसाई नगर, वल्ली जाली लौज आदि) के मलिन बस्तियों में लगभग 6078 परिवारों पुनर्वास और पुनर्वास के प्रावधानों के तहत अधिकारों की रक्षा के लिए जमीन से लेकर कोर्ट में भी लड़ाई लड़ रहे हैं।

कोरोना काल में राहुल गांधी के आह्वान पर उन्होंने हल्द्वानी में जरूरतमंदों के लिए राशन की सहायता उपलब्ध कराई। उन्होंने कोरोनाकाल जैसी विकट परिस्थितियों में तीन हजार से अधिक परिवारों को राशन की सहायता उपलब्ध कराई। उनकी समाज के प्रति जिम्मेदारी भरी जागरूकता उन्हें अन्य राजनेताओं की श्रेणी में सबसे अलग खड़ा करती हैं। इसके अतिरिक्त दीपक बल्यूटिया ने राइट टू एजुकेशन के तहत आर्थिक रूप से कमजोर परिवारों से सम्बंध रखने वाले छात्रों के एडमीशन कैम्प का आयोजन भी किया है। उन्होंने जरूरतमंदों के लिए कई मेडिकल कैम्पों का आयोजन किया है। सरकारी स्कूलों वेलफेयर को ध्यान में रखते हुए सरकारी स्कूलों को फर्नीचर भी दान में दिया है।
उन्होंने कोरोना का काल में सेवा देने वाली आशा कार्यकर्ती और आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को भी पुरस्कृत किया। उनके इस काम को पार्टी हाईकमान समेत प्रदेश प्रभारी देवेंद्र यादव तथा पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने काफी सराहा। वह अपने स्कूल के माध्यम से गरीब तबके से ताल्लुक रखने वाले छात्रों को मुफ्त शिक्षा भी देते हैं।

यह भी पढ़ें -   हल्द्वानी में दशमेश पिता श्री गुरू गोबिंद सिंह जी के प्रकाश पर्व पर निकाला गया भव्य नगर कीर्तन

राजनीति के साथ-साथ दीपक बल्यूटिया एक सफल उद्यमी भी है। वह हल्द्वानी में विंटेज हाईस्ट्रीट मॉल के मालिक भी हैं। इसके अलावा वह इस्प्रेशन कॉलेज ऑफ टीचर एजुकेशन एवं इस्प्रेशन स्कूल के डायरेक्टर भी हैं। नीति आयोग के तहत पंजीकृत भारत वर्चुअल युनिवर्सिटी द्वारा उन्हें डॉक्ट्रेट की मानद उपाधि भी दी गई है। इन दिनों वह क्षेत्र में ताबड़तोड़ मीटिंगें कर जनसंपर्क में जुटे हुए हैं।

Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *