खतरनाक साबित हो सकता है हीटर और ब्लोअर

खबर शेयर करें

समाचार सच. स्वास्थ्य डेस्क। सर्दी से बचने के लिए लोग घरों में हीटर या ब्लोअर का सहारा लेते हैं लेकिन सही जानकारी न हो तो ये जानलेवा भी साबित हो सकते हैं. इसलिए हीटर और ब्लोअर का प्रयोग बड़ी ही सावधानी से करना चाहिए।
हीटर या ब्लोअर आक्सीजन को जलाते हैं। अधिक समय तक इसका प्रयोग सांस की दिक्कत पैदा कर सकता है। बच्चों और बुजुर्गाे को तो इससे दूर ही रखना चाहिए. सर्दी मेें अधिकतर घरों में हीटर और ब्लोअर का प्रयोग शुरू हो जाता है. बेहतर होगा कि लंबे समय तक इन्हें न चलाएं और बीच बीच में बंद करते रहे। ऐसा करने से आक्सीजन की समस्या भी कम और बिजली की भी बचत होगी।
हीटर या ब्लोअर से जो गर्म हवा निकलती है वो लंबे समय तक चलती रहे तो बीमार बना सकती है. कभी कभी यह जानलेवा भी साबित हो सकती है. इससे कमरे में कार्बन मोनोआक्साइड गैस जमा होती है जो पूरी तरह से जल नहीं पाती है। ऐसी गैस स्टोव, हीटिंग सिस्टम और सिगरेट के धुएं में भी पाई जाती है। यह गैस कार्बन डाईआक्साइड से भी अधिक घातक होती है. इसके संपर्क में आने से दम भी घुट सकता है। क्योंकि यह गैस शरीर को आक्सीजन पहुंचाने वाले रेड ब्लड सेल्स पर निगेटिव असर डालती हैं।
जिस कारण सिर दर्द, सांस लेने में परेशानी, घबराहट होना, याद करने में दिक्कत, पेट में दिक्कत, दिल की धड़कन तेज होना जैसी दिक्कत होने की संभावना बढ़ जाती हैं. इसलिए जरूरी है कि जब भी हीटर या ब्लोअर चलाएं तो घर की खिड़कियों को या फिर दरवाजे को खोल कर रखें जिससे हवा आती रहे। यह भी सुनिश्चित कर लें कि कमरे में वेंटिलेशन सही हो।

यह भी पढ़ें -   हल्की बारिश के दौरान छींक से राहत पाने के लिए आप घर में ही कौन-कौन से उपाय करें
Ad Ad Ad Ad Ad
Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad

सबसे पहले ख़बरें पाने के लिए -

👉 हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

👉 फेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज़ लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल सबस्क्राइब करें

हमसे संपर्क करने/विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें - +91 70170 85440