Thiriod

घर पर रहते हुए भी कंट्रोल किया जा सकता है थायराइड, जानें कौन सी कंट्रोल रखती हैं थायराइड

खबर शेयर करें

समाचार सच, स्वास्थ्य डेस्क। थायराइड एक ऐसी स्वास्थ्य स्थिति है, जो किसी भी व्यक्ति को ताउम्र परेशान करती है और आगे का उसका सारा जीवन दवाइयों के सहारे गुजरता है। हालांकि हेल्दी भोजन और नियमित रूप से एक्सरसाइज कर आप अपने थायराइड लेवल को संतुलित रख सकते हैं और थायराइड की समस्या का बेहतर तरीके से मुकाबला कर सकते हैं। थायराइड को कंट्रोल करने के लिए आपको ऐसे फूड्स का सहारा लेना पड़ता है, जो आपके शरीर में हार्माेनल संतुलन और आपको हेल्दी बनाए रखें। हालांकि थायराइड की समस्या आम है और मौजूदा जीवनशैली आपको इसका बड़ी आसानी से शिकार बना सकती है। अगर आप भी इसी समय से परेशान हैं तो इस लेख में हम आपको कुछ ऐसे फूड्स के बारे में बता रहे हैं, जो थायराइड के घरेलू उपचार में आपकी मदद कर सकते हैं। आइए जानते हैं कौन से हैं ये फूड्स।

बादाम और थायराइड

ऐसा माना जाता है कि ज्यादातर नट्स हमारे शरीर के लिए किसी न किसी तरह से फायदेमंद होते हैं। अगर आपका थायराइड बढ़ा हुआ है यानि आप हाइपर थायराइड की समस्या से परेशान हैं तो निश्चित रूप से आपको बादाम का सेवनकरना चाहिए। ये प्रोटीन, फाइबर और मिनरल्स का एक बेहतरीन स्त्रोत है। बादाम में सेलेनियम नाम का पोषक तत्व पाया जाता है, जो थायराइड के हेल्दी लेवल को मेंटेन रखने में मदद करता है। इसके अलावा यह मैग्नीशियम का भी अच्छा स्त्रोत है, जो थायराइड ग्रंथि को बढ़ने से रोकता है।

यह भी पढ़ें -   पहले सुरंग खोदी और फिर गायब कर दिया रेल का पूरा इंजन, ऐसे बरामद किए रेल के पुर्जे

अदरक और थायराइड

अदरक को आयुर्वेद में किसी औषधि से कम नहीं माना गया है और यह थायराइड के लिए सबसे आसान घरेलू उपचारों में से एक है। बाजार में आसानी से उपलब्ध अदरक पोटेशियम और मैग्नीशियम जैसे आवश्यक मिनरल्स से समृद्ध होती है और ये इंफ्लेमेशन का मुकाबला करने में मदद करती है। थायराइड की समस्या में नियमित रूप से अदरक की चाय सबसे अच्छी मानी जाती है। इतना ही नहीं अदरक के तेल को नारियल तेल के साथ मिलाकर लगाने से भी काफी फायदा मिलता है।

डेयरी उत्पाद और थायराइड

दूध, पनीर, और दही जैसे डेयरी उत्पाद थायराइड के लिए बहुत फायदेमंद माने जाते हैं क्योंकि इनमें आयोडीन की मात्रा उच्च होती है साथ ही ये मिनरल्स थायराइड के सही से काम करने में भी मदद करते हैं। डेयरी उत्पादों का सेवन विटामिन लेवल को बढ़ाने में मदद करता है, जो बदले में थायराइड की समस्या को दूर करने में आपकी मदद करता है।

यह भी पढ़ें -   हल्द्वानी में महिला साइबर ठग की चुंगल में फंस कर व्यक्ति ने गंवाये 1.98 लाख, आप भी रहे सावधान

फलियां और थायराइड

कौन नहीं जानता कि बीन्स, पोषण का एक पावरहाउस है। बीन्स फाइबर, प्रोटीन, जरूरी मिनरल्स और विटामिन से भरपूर होती हैं साथ बी इनमें एंटीऑक्सिडेंट और कॉम्पलेक्स कार्बाेहाइड्रेट भी होता है। फाइबर की अधिक मात्रा के कारण बीन्स कब्ज को रोकने में मदद करती हैं। कब्ज, हाइपोथायरायडिज्म का एक आम दुष्प्रभाव है इसलिए बीन्स का नियमित रूप से सेवन थायराइड ग्रंथि के सही से काम करने में मदद करता है।

अलसी का बीज और थायराइड

फ्लैक्स सीड्स यानि अलसी के बीज, फैटी एसिड से भरपूर होते हैं, जो हमारे दिल के साथ-साथ थायराइड ग्रंथि के लिए काफी फायदेमंद माने जाते हैं। इतना ही नहीं ये थायराइड हार्माेन के उत्पादन में मदद करते हैं। मैग्नीशियम और विटामिन बी 12 से भरपूर अलसी के बीज हाइपोथायरायडिज्म जैसी स्थिति से लड़ने में मदद करते हैं।

सबसे पहले ख़बरें पाने के लिए -

👉 हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

👉 फेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज़ लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल सबस्क्राइब करें

हमसे संपर्क करने/विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें - +91 70170 85440

Leave a Reply

Your email address will not be published.