हर-हर महादेव व बम-बम भोले के जयकारों से गुंजायमान रहे शिवालय

खबर शेयर करें

महाशिवरात्रि पर्व पर मंदिरों में पूजा-अर्चना के लिए श्रद्धालुओं की भीड़ लगी

समाचार सच, हल्द्वानी। महाशिवरात्रि पर्व पर देवालय हर-हर महादेव व बम-बम भोले के जयकारों से गुंजायमान रहे। प्रातः से ही मंदिरों में पूजा-अर्चना के लिए श्रद्धालुओं की भीड़ देखी गई। जगह-जगह भंडारे का आयोजन किया गया। नगर में महाशिवरात्रि पर्व श्रद्धाभाव के साथ मनाया गया। श्रद्धालुओं उपवास रख देवालयों में पहुंचे और भोलेनाथ की उपासना की। शिवलिंग पर बेलपत्र, धतुरा, बेर, दूध-दही, शहद इत्यादि से अभिषेक किया गया। साथ ही देवालयों में भजन-कीर्तन व धार्मिक अनुष्ठानों का आयोजन किया गया। मंदिरों और शिवालयों को रंग-विरंगी रोशनी से सजाया गया। रामपुर रोड स्थित बेलबाबा मन्दिर, मंगल पड़ाव स्थित प्राचीन शिव मन्दिर, रानीबाग स्थित शिवालय व शीतला माता मंदिर, शिव मन्दिर नवाबी रोड, पटेल चौक स्थित पीपलेश्वर महादेव मंदिर, रामलीला मैदान स्थित आंवलेश्वर महादेव, जजफार्म स्थित सिद्घेश्वर महादेव, कालीचौड़ मंदिर, बरेली रोड स्थित लटूरिया बाबा आश्रम, भोलानाथ गार्डन स्थित सत्यनारायण मंदिर, विष्णुपुरी गली स्थित दुर्गा मंदिर समेत नगर के विभिन्न देवालयों में प्रातः से लेकर देर सायं तक श्रद्धालुओं का देवालयों में आना-जाना लगा रहा। श्रद्धालु भोलेनाथ की उपासना कर मन्नतें मांगते देखे गये। साथ ही महाशिवरात्रि पर्व पर जगह-जगह भंडारे का आयोजन किया गया। जिनमें श्रद्धालुओं ने प्रसाद ग्रहण किया। साथ ही हरिद्वार से लाया गया पवित्र गंगाजल भी श्रद्धालुओं को वितरित किया गया।

हल्द्वानी कालाढूंगी रोड स्थित कैनाल कालोनी काली मंदिर में महाशिवरात्री पर्व पर रूद्राभिषेक, हवन तथा सुन्दरकाण्ड पाठ का आयोजन किया गया। भक्तजनों ने भगवान भोले का जलाभिषेक कर बोल बम का जयकारा लगाया और भगवान भोले का आशीर्वाद लिया। जलाभिषेक का सिलसिला देर शाम तक चलता रहा। मंदिर के पंडित हरीश चन्द्र जोशी ने बताया की महाशिवरात्री को लेकर भगवान शिव से जुड़ी कुछ मान्यताएं प्रचलित हैं। ऐसा माना जाता है कि इस विशेष दिन ही ब्रम्हा के रूद्र रूप में मध्यरात्री को भगवान शंकर का अवतरण हुआ था। वहीं यह भी मान्यता है कि इसी दिन भगवान शिव ने तांडव कर अपना तीसरा नेत्र खोला था और ब्रम्हांड को इस नेत्र की ज्वाला से समाप्त किया था। इसके अलावा कई स्थानों पर इस दिन को भगवान शिव के विवाह से भी जोड़ा जाता है और यह माना जाता है कि इसी पावन दिन भगवान शिव और मां पार्वती का विवाह हुआ था। उन्होंने कहा कि महाशिवरात्री के दिन शिव जी का विभिन्न पवित्र वस्तुओं से पूजन एवं अभिषेक किया जाता है और बिल्वपत्र, धतूरा, अबीर, गुलाल, बेर, उम्बी आदि अर्पित किया जाता है। भगवान शिव को भांग बेहद प्रिय है अतः कई लोग उन्हें भांग भी चढ़ाते हैं। दिनभर उपवास रखकर पूजन करने के बाद शाम के समय फलाहार किया जाता है। इससे सभी की मनोकामनाएं पूरी होती है।

यह भी पढ़ें -   अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर विधानसभा अध्यक्षा ने विधान सभा भवन में किया योगाभ्यास

महाशिव रात्रि पर्व पर सुरक्षा व यातायात व्यवस्था के दृष्टिगत मंदिरों में पर्याप्त संख्या में पुलिस बल तैनात रहा। महाशिव रात्रि पर्व पर मंदिरों में प्रातः से ही श्रद्घालुओं के पहुंचने का सिलसिला शुरू हो गया। शांति व्यवस्था कायम रखने व यातायात व्यवस्था सुदृढ़ रखने के उद्देश्य से मंदिरों में पर्याप्त संख्या में पुलिस बल तैनात रहा। इसे लेकर पुलिस कर्मियों को एसपीसिटी हरबंस सिंह ने आवश्यक दिशा-निर्देश जारी किए हुए थे। जिसके चलते पुलिस कर्मी मंदिरों की सुरक्षा व व्यवस्था बनाने में जुटे रहे।

दून में हनुमत सेवा समिति ने मनाया महाशिवरात्रि पर्व
देहरादून। हनुमत सेवा समिति द्वारा महाशिवरात्रि के पावन पर्व पर घंटाघर स्थित प्राचीन हनुमान व शिव मंदिर मे शिवलिंग पर समिति के संरक्षक उदय शंकर भट्ट के नेतृत्व में मंत्रोच्चारण के साथ रुद्राभिषेक कर महाशिवरात्रि के पर्व को खीर प्रसाद वितरित कर मनाया। इस मौके पर हनुमत सेवा समिति के संरक्षक पंडित उदय शंकर भट्ट ने कहा की वैसे तो प्रत्येक माह में एक शिवरात्री होती है। परंतु फाल्गुन माह की कृष्ण चतुर्दशी को आने वाली इस शिवरात्री का अत्यंत महत्व है। इसलिए इसे महाशिवरात्री कहा जाता है। वास्तव में महाशिवरात्री भगवान भोलेनाथ की आराधना का ही पर्व है। जब धर्मप्रेमी लोग महादेव का विधि.विधान के साथ पूजन अर्चना करते हैं और उनसे आशीर्वाद प्राप्त करते हैं। इस दिन शिव मंदिरों में बड़ी संख्या में भक्तों की भीड़ उमड़ती है। जो शिव के दर्शन.पूजन कर खुद को सौभाग्यशाली मानती है।

देहरादून। महाशिवरात्रि के अवसर पर सुबह से ही मंदिरों में पूजा पाठ आरंभ हो गई। भक्घ्तों ने जलाभिषेक किया है। मान्यता यह है कि महाशिवरात्रि के दिन पूजा करने से मनोकामना पूर्ण होती है। महाशिवरात्रि पर रुद्राभिषेक का भी विशेष महत्व होता है। जिसमें बेल पत्र, अधूरा, भांग, पुष्प, घी, दही, शहद आदि से भगवान शिव की पूजा की जाती है। भक्त सुबह से ही स्नान करके शिव मंदिरों में पूजा पाठ के लिए पहुंच रहे हैं। सुबह चार बजे से ही मंदिरों में जल अर्पित करना शुरू गया था। शिव मंदिरों में सैकड़ों लीटर दुग्ध और गंगाजल से अभिषेक हुआ। देवभूमि उत्तराखंड में महाशिवरात्रि के मौके पर हर ओर भोले की भक्ति की धूम है। राजधानी देहरादून सहित उत्तराखंड के सभी मंदिरों में शिव भक्तों की भीड़ उमड़ी रहीं। भक्घ्तों ने बिल्वपत्र, धतूरा, भांग, जल, दूध आदि चढ़ाकर भगवान शिव की पूजा-अर्चना की। देहरादून के प्रसिद्ध टपकेश्वर मंदिर में तो देर रात 12 बजे से ही भक्तों की लंबी लाइन लगनी शुरू हो गई थी।
मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी और राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह (सेनि) तथा राज्य की प्रथम महिला गुरमीत कौर ने भी जलाभिषेक कर प्रदेशवासियों की सुख समृद्धि तथा खुशहाली हेतु प्रार्थना की। देहरादून में श्रद्धालु भोलेनाथ को जलाभिषेक, दुग्धाभिषेक कर उन्हें बेलपत्र, भांग, दूध, धतूरा, आदि का भोग लगाया। शिवालयों में जलाभिषेक के लिए शिव भक्तों की लंबी कतारें लगीं रही। मंदिरों में श्रद्धालुओं की अधिक भीड़ को देखते हुए पुलिस और सेवादार व्यवस्था बनाने में जुटे रहे। टपकेश्वर महादेव मंदिर गढ़ी कैंट, जंगम शिवालय पलटन बाजार, पंचमुखी हनुमान मंदिर आराघर चौक, प्राचीन शिव मंदिर धर्मपुर, शिव मंदिर जाखन, पृथ्वीनाथ महादेव मंदिर सहारनपुर चौक, नर्वदेश्वर मंदिर डानलवाला, आदर्श मंदिर पटेलनगर, सनातन धर्म मंदिर प्रेमनगर समेत विभिन्न मंदिर समितियों की ओर से विशेष तैयारी की गई थी। पंडितों द्वारा शिवालयों में महामृत्युंजय मंत्र के पाठ भी किए। लच्छीवाला में आयोजित मेले में भी ग्रामीणों ने झूलों का लुफ्त उठाया। मेले में खूब भांग भी घोटी गई। महाशिवरात्रि पर्व पर मंगलवार अलसुबह से ही लच्छीवाला स्थित लक्षेश्वर मंदिर में श्रद्धालुओं की लंबी कतारें देखी गईं। यहां भक्तों ने शिवलिंग पर जलाभिषेक कर सुख समृद्धि की कामना की। साथ ही लच्छीवाला में आयोजित मेले का लुफ्त उठाते हुए बच्चों ने झूला झूल कर अपना मनोरंजन भी किया। तो वहीं कुछ युवा भांग से निर्मित ठंडाई का भी आनंद लेते दिखे।

सबसे पहले ख़बरें पाने के लिए -

👉 हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

👉 फेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज़ लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल सबस्क्राइब करें

हमसे संपर्क करने/विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें - +91 70170 85440

Leave a Reply

Your email address will not be published.