Barish

उत्तराखंड के इन 5 जिलों में कल यानि 15 जून को हो सकती है झमाझम बारिश

खबर शेयर करें

समाचार सच, देहरादून। उत्तराखंड में 5 जिलों में कल यानि 15 जून को झमाझम बारिश हो सकती है। मौसम विभाग ने 15 जून से उत्तराखंड में प्री मॉनसून की बौछारें पड़ने की संभावनाएं जताई हैं। उत्तरकाशी, रुद्रप्रयाग, चमोली, बागेश्वर और पिथौरागढ़ जिले में गर्जना के साथ हल्की से मध्यम बारिश हो सकती है।

आपकों बता दे कि मई व जून में लोगों को गर्मी से बेहाल रखा है। लेकिन ऐसे में गर्मी से तप रहे मैदान और पहाड़ों में 15 जून से प्री मानसून की सक्रियता से झमाझम बारिश के आसार हैं जिससे लोगों को भीषण गर्मी से राहत मिल सकती है। मौसम विज्ञानियों ने आज यानी कि 15 जून से उत्तराखंड में प्री मॉनसून की बौछारें पड़ने की संभावनाएं जताई हैं। राज्य में 20 जून तक मानसून के पहुंचने की उम्मीद भी जताई है। अगले 24 घंटे में मौसम विभाग ने कई जिलों में मध्यम से तेज बरसात के साथ ही झौंकेदार हवाएं चलने का भी अनुमान जताया है। कुछ इलाकों में तेज हवाओं के भी चलने की संभावना है। वहीं, मानसून की दस्तक से पहले ही गर्मी ने भी तेवर दिखाने थोड़े कम कर दिए हैं।

यह भी पढ़ें -   बनभूलपुरा पुलिस के हत्थे चढ़ा सटोरिया

मौसम के करवट बदलने से राजधानी दून में 15 दिनों बाद अधिकतम तापमान का आंकड़ा 40 डिग्री से नीचे पहुंचा, जो थोड़ी राहत देने वाली बात है। मौसम विभाग के मुताबिक बीते रविवार को अधिकतम तापमान 39.3 डिग्री रहा, जो सामान्य से पांच डिग्री अधिक रहा। वहीं, न्यूनतम तापमान भी घटकर 23.7 डिग्री पर पहुंच गया।

यह भी पढ़ें -   फिट, चुस्त और तंदरूस्त रहने के लिए भीगे काले चने खाने से करें सुबह की शुरूआत

मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक विक्रम सिंह का कहना है कि वैसे तो मानसून कई राज्यों में दस्तक दे चुका है और मॉनसून की सक्रियता के चलते केरल, कर्नाटक, महाराष्ट्र, तमिलनाडु समेत कई राज्यों में बारिश भी शुरू हो चुकी है, लेकिन उत्तराखंड में 15 जून से प्री मानसून की बौछारें पड़ने की संभावना हैं। मानसून पूरी तरह से उत्तराखंड में 20 जून के आसपास पहुंच सकता है।

सबसे पहले ख़बरें पाने के लिए -

👉 हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

👉 फेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज़ लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल सबस्क्राइब करें

हमसे संपर्क करने/विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें - +91 70170 85440

Leave a Reply

Your email address will not be published.