Giloy

इम्युनिटी बढ़ाने का रामबाण उपाय है यह आयुर्वेदिक औषधि

खबर शेयर करें

समाचार सच, स्वास्थ्य डेस्क। गिलोय या गुडूची एक ऐसी जड़ी बूघ्टी है जो कई बीमारियों को जड़ से खत्घ्म करने की शक्ति रखती है। इससे अस्थमा, गठिया और डायबिटीज जैसे रोगों को भी कंट्रोल किया जा सकता है। गिलोय इम्घ्युनिटी पॉवर बढ़ाने का सबसे आसान और असरकारी उपाय है।

गिलोय एक आयुर्वेदिक जड़ी-बूटी है जिसका इस्तेमाल कई वर्षों से अनेक बीमारियों के इलाज में किया जाता रहा है। वैसे तो गिलोय के कई लाभ हैं लेकिन इसका सबसे बड़ा फायदा यह है कि इस जड़ी बूटी से इम्यूनिटी पॉवर बढ़ती है। अगर व्यक्ति की इम्यूनिटी पॉवर ही बढ़ जाए तो उसे अपने आप ही कई बीमारियों से सुरक्षा कवच प्राप्त हो जाता है।

ब्रह्मांड की सबसे अचूक औषधि
अगर आपको बार-बार सर्दी-जुकाम, खांसी रहती है या जल्दी बुखार पकड़ लेता है तो आपकी इम्यूनिटी यानी रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर है। इम्यूनिटी पॉवर को बढ़ाने के लिए पूरे ब्रह्मांड में गिलोय से अचूक औषधि और कोई नहीं है। गिलोय का रस पीने से कई बीमारियों से सुरक्षा मिलती है।

इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए उपाय गुडूची
गिलोय को गुडुची और अमृता नाम से भी जाना जाता है। इसमें एंटीऑक्सीडेंट्स प्रचुरता में होते हैं जो कि फ्री-रेडिकल्स से लड़ने में मदद करते हैं और कोशिकाओं को स्वस्थ एवं बीमारियों से दूर रखते हैं। इस समय कोरोना वायरस से बचने के लिए इम्यूनिटी पॉवर बढ़ाने पर जोर दिया जा रहा है और गिलोय इसका सबसे आसान एवं असरकारी तरीका है।

यह भी पढ़ें -   खोए हुए मोबाइल को पाकर महिला हुई गदगद्, पुलिस का जताया आभार

बुखार का देसी इलाज गिलोय
बार-बार बुखार की समस्या से गिलोय छुटकारा दिला सकता है। इसमें बुखार-रोधी गुण होते हैं और इसीलिए डेंगू, मलेरिया और स्वाइन फ्लू जैसी जानलेवा बीमारियों के लक्षणों को कम करने के लिए गिलोय का इस्तेमाल किया जाता है।

कब्ज का रामबाण इलाज है गिलोय
पाचन में सुधार लाने में भी गिलोय बहुत लाभकारी होता है। कब्ज से राहत पाने के लिए भी गिलोय का सेवन किया जा सकता है। अगर आपको कब्ज की समस्या रहती है तो आप गिलोस के रस का सेवन कर सकते हैं।

डायबिटीज का घरेलू उपचार है गुडूची
इम्यूनिटी बढ़ाने के साथ-साथ गिलोय डायबिटीज का भी इलाज करती है। गिलोय हाइपोग्लाइसेमिक यौगिक के रूप में कार्य करती है और टाइप 2 डायबिटीज के इलाज में मददगार है। गिलोय का जूस ब्लड शुगर के उच्घ्च स्घ्तर को कम करने में मदद करता है।

तनाव को दूर करने का उपाय है गिलोय
गिलोय में मानसिक तनाव और एंग्जायटी को भी कम करने की शक्घ्ति होती है। ये शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालती है और याद्दाश्त बढ़ाती है।

गठिया का अचूक इलाज है गिलोय
गिलोय में सूजन-रोधी और गठिया-रोधी गुण भी होते हैं जो कि आर्थराइटिस और इसके अनेक लक्षणों के इलाज में मदद करते हैं। गठिया के मरीजों को गिलोय के रस का सेवन करना बहुत फायदेमंद रहता है।

यह भी पढ़ें -   ऋषिकेश के गंगा तट से मुख्यमंत्री धामी ने दिया योग का संदेश

अस्थमा की आयुर्वेदिक दवा है गिलोय
अस्घ्थमा के कारण सीने में जकड़न, सांस लेने में दिक्घ्कत, खांसी और घरघराहट आदि होती है। इस वजह से अस्घ्थमा के मरीज की स्थिति और बिगड़ जाती है। गिलोय की जड़ चबाने या इसका जूस पीने से अस्घ्थमा के मरीजों की सेहत में सुधार आता है।

आंखों की रोशनी बढ़ाने की दवा है गिलोय
गिलोय के सेवन से आंखों की रोशनी बढ़ती है और एजिंग के निशान भी दूर होते हैं। ये लिवर से जुड़ी बीमारियों और मूत्र मार्ग में संक्रमण से भी लड़ने में मददगार है। विशेषज्ञों का भी मानना है कि गिलोय ह्रदय से जुड़ी स्थितियों और इंफर्टिलिटी के इलाज में उपयोगी है।

घर पर कैसे बनाएं गिलोस का रस
लगभग एक फीट लंबी गिलोय की शाखा लें और उसके छोटे-छोटे टुकड़े कर लें। अब इसे छील लें और इसकी ऊपरी परत उतार दें। अब डेढ़ से दो इंच के चार गिलोय के टुकड़ें लें और उसे मिक्घ्सर में एक गिलास पानी के साथ पीस लें। जो रस निकला है उसे छानकर पी लें। दिन में दो बार दो गिलास गिलोय का जूस पी सकते हैं।

सबसे पहले ख़बरें पाने के लिए -

👉 हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

👉 फेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज़ लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल सबस्क्राइब करें

हमसे संपर्क करने/विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें - +91 70170 85440

Leave a Reply

Your email address will not be published.