गर्मी में लो बीपी यानि हाइपोटेंशन के लक्षणों में चक्कर आना, सिरदर्द, थकान और बेहोशी शामिल हो सकते हैं तो अपनाएं ये आयुर्वेदिक उपाय

खबर शेयर करें

समाचार सच, स्वास्थ्य डेस्क। गर्मी के मौसम में लो बीपी (हाइपोटेंशन) एक आम समस्या है। यह तब होता है जब रक्तचाप सामान्य से कम हो जाता है। लो बीपी के लक्षणों में चक्कर आना, सिरदर्द, थकान और बेहोशी शामिल हो सकते हैं। गर्मी में लो बीपी होने के कई कारण हो सकते हैं, जिनमें शामिल हैं।

डिहाइड्रेशन
गर्मी में पसीना आने से शरीर से तरल पदार्थ और इलेक्ट्रोलाइट्स का नुकसान हो सकता है, जिससे रक्तचाप कम हो सकता है।

रक्त वाहिकाओं का फैलाव
गर्मी शरीर की रक्त वाहिकाओं को फैलाती है, जिससे रक्तचाप कम हो सकता है।

हृदय की समस्याएं
कुछ हृदय की समस्याएं, जैसे कि हृदय वाल्व की समस्याएं या हृदय की विफलता, रक्तचाप को कम कर सकती हैं।

दवाएं
कुछ दवाएं, जैसे कि मूत्रवर्धक और रक्तचाप की दवाएं, रक्तचाप को कम कर सकती हैं।

आयुर्वेदिक उपचार
आयुर्वेद में, लो बीपी को रक्त क्षय के रूप में जाना जाता है। आयुर्वेदिक उपचार का उद्देश्य शरीर में रक्त के स्तर को बढ़ाना और रक्तचाप को सामान्य करना है। यहां कुछ आयुर्वेदिक उपचार दिए गए हैं जो गर्मी में लो बीपी की समस्या में मदद कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें -   UK: अल्मोड़ा में नाबालिग लड़की के साथ अधेड़ ने किया रेप, पॉक्सो एक्ट के तहत केस दर्ज

त्रिफला चूर्ण
त्रिफला तीन जड़ी बूटियों – आंवला, हरड़ और बहेड़ा का मिश्रण है। यह एक शक्तिशाली एंटीऑक्सिडेंट और रेचक है जो शरीर को शुद्ध करने और रक्तचाप को बढ़ाने में मदद कर सकता है।

अश्वगंधा
अश्वगंधा एक एडाप्टोजेनिक जड़ी बूटी है जो शरीर को तनाव से निपटने और रक्तचाप को नियमित करने में मदद कर सकती है।

शतावरी
शतावरी एक शीतल और पौष्टिक जड़ी बूटी है जो शरीर को हाइड्रेट करने और रक्तचाप को बढ़ाने में मदद कर सकती है।
मुलेठी
मुलेठी एक मीठी जड़ी बूटी है जो शरीर को ऊर्जा प्रदान करने और रक्तचाप को बढ़ाने में मदद कर सकती है।
गुड़
गुड़ एक प्राकृतिक स्वीटनर है जो शरीर को ऊर्जा प्रदान करने और रक्तचाप को बढ़ाने में मदद कर सकता है।
आहार संबंधी सुझाव
पर्याप्त तरल पदार्थ पिएं

निर्जलीकरण से बचने के लिए दिन भर में भरपूर मात्रा में पानी, जूस और इलेक्ट्रोलाइट युक्त पेय पिएं।

नमक का सेवन बढ़ाएं
नमक में सोडियम होता है, जो रक्तचाप को बढ़ाने में मदद कर सकता है। हालांकि, बहुत अधिक नमक का सेवन हानिकारक हो सकता है, इसलिए अपने नमक का सेवन मध्यम मात्रा में रखें।

यह भी पढ़ें -   स्व. डॉ इंदिरा की तृतीय पुण्यतिथि पर अर्पित की भावपूर्ण श्रद्धांजलि, उनके कामों को किया याद

कैफीन और शराब से बचें
कैफीन और शराब रक्त वाहिकाओं को फैला सकते हैं, जिससे रक्तचाप कम हो सकता है।

पोटेशियम युक्त खाद्य पदार्थ खाएं
पोटेशियम रक्तचाप को विनियमित करने में मदद करता है। पोटेशियम युक्त खाद्य पदार्थों में केला, आलू, पालक और एवोकाडो शामिल हैं।

जीवनशैली संबंधी सुझाव
नियमित व्यायाम करें

नियमित व्यायाम हृदय को मजबूत करने और रक्तचाप को बढ़ाने में मदद कर सकता है।
तनाव प्रबंधन का अभ्यास करें
तनाव रक्तचाप को कम कर सकता है। तनाव प्रबंधन तकनीकों का अभ्यास करें, जैसे योग, ध्यान या गहरी सांस लेना।
पर्याप्त नींद लें
पर्याप्त नींद लेने से शरीर को ठीक होने और रक्तचाप को विनियमित करने में मदद मिल सकती है।
धूम्रपान छोड़ें
धूम्रपान रक्त वाहिकाओं को संकुचित करता है, जिससे रक्तचाप बढ़ सकता है।

नोट : यदि आप गर्मी में लो बीपी की समस्या का अनुभव कर रहे हैं, तो अपने डॉक्टर से परामर्श करना महत्वपूर्ण है। आपका डॉक्टर अंतर्निहित कारण का निदान करने और उपयुक्त उपचार की सिफारिश करने में सक्षम होगा।

Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad

सबसे पहले ख़बरें पाने के लिए -

👉 हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

👉 फेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज़ लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल सबस्क्राइब करें

हमसे संपर्क करने/विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें - +91 70170 85440