मांसपेशियों की ऐंठन में हल्के मरोड़ से लेकर गंभीर दर्द तक हो सकते हैं? आजमाएं दर्द से छुटकारा पाने के ये उपाय

खबर शेयर करें

Muscle spasms can range from mild twitching to severe pain. Try these remedies to get rid of pain

समाचार सच, स्वास्थ्य डेस्क। योगाभ्यास हो या जिम में वर्कआउट, दौड़ हो या दूसरी कोई कसरत। ये शारीरिक गतिविधियां हेल्दी लाइफस्टाइल के लिए जरूरी है। कभी- कभी पसीना बहाने के बाद मांसपेशियों में ऐंठन की समस्या लोगों को परेशान करती है। यह एक आम समस्या है। मांसपेशियों का ये अनैच्छिक संकुचन दर्दनाक और असुविधाजनक हो सकते हैं। मांसपेशियों में ऐंठन तब होती है जब कोई मांसपेशी अनैच्छिक रूप से सिकुड़ती है और ठीक से आराम नहीं करती है। मांसपेशियों में ऐंठन का प्राथमिक कारण अक्सर मांसपेशियों की थकान या अत्यधिक उपयोग को माना जाता है। खासकर तीव्र शारीरिक गतिविधि या व्यायाम के दौरान। डिहाईड्रेशन भी मांसपेशियों में ऐंठन पैदा करने की बड़ी वजह होती है। क्योंकि कम तरल पदार्थ लेने से इलेक्ट्रोलाइट असंतुलन हो सकता है और मांसपेशियों की कार्यप्रणाली बाधित हो सकती है। इसके अतिरिक्त, शारीरिक गतिविधि से पहले अपर्याप्त स्ट्रेचिंग, खराब सर्कुलेशन और कुछ मेडिकल कंडीशन जैसे तंत्रिका संपीड़न या मिनरल्स की कमी मांसपेशियों में ऐंठन का कारण बन सकती हैं। मांसपेशियों में ऐंठन के सबसे आम स्थान जांघ, पैर, हाथ और कभी-कभी पसली के पास के क्षेत्र होते हैं। मांसपेशियों की ऐंठन में हल्के मरोड़ से लेकर गंभीर दर्द तक हो सकते हैं। मांसपेशियों में ऐंठन किसी को भी हो सकती है।

यह भी पढ़ें -   उत्तराखण्ड में फर्जीवाड़े से बन गया मास्टर, अब पांच वर्ष बिताने होंगे जेल में, 32 हजार का जुर्माना भी

मांसपेशियों की ऐंठन से छुटाकारा पाने के उपाय

  • मांसपेशियों की ऐंठन से छुटाकारा पाने के उपाय की बात करें तो मांसपेशियों में ऐंठन से निजात पाने के लिए सही स्ट्रेचिंग जरूरी है. वर्कआउट से पहले खुद को स्ट्रेच के साथ वार्मअप करें और अपने वर्कआउट के बाद स्टैटिक स्ट्रेच करें. स्ट्रेचिंग लचीलेपन में सुधार लाने के साथ ब्लड सर्कुलेशन को बढ़ाती है।
  • डिहाइड्रेशन मांसपेशियों में ऐंठन का एक प्रमुख कारण है। वर्कआउट से पहले, उसके दौरान और बाद में पर्याप्त रूप से पानी पीने से आपके शरीर में इलेक्ट्रोलाइट्स का संतुलन बनाए रखने में मदद मिलती है।
  • कठिन वर्कआउट के दौरान कई बार आप पसीने के माध्यम से जरूरी इलेक्ट्रोलाइट्स खो देते हैं। इन खनिजों की पूर्ति के लिए, इलेक्ट्रोलाइट युक्त पेय या नारियल पानी जैसे प्राकृतिक स्रोतों का सेवन करें। जैसे पोटेशियम के लिए केला, मैग्नीशियम के लिए हरी पत्तेदार सब्जियां और कैल्शियम के लिए संतरे का सेवन कर सकते हैं।
  • ऐंठन से प्रभावित मांसपेशियों की मालिश करने से राहत मिल सकती है। हल्के हाथों से मालिश रक्त प्रवाह को बढ़ावा देता है और मांसपेशियों को आराम देता है। आप अपने हाथों या फोम रोलर का उपयोग कर सकते हैं। यह रक्त प्रवाह को बढ़ावा देता है और मांसपेशियों को आराम देता है, जिससे ऐंठन की तीव्रता कम हो जाती है।
  • मांसपेशियों की ऐंठन को कम करने के लिए गर्म या ठंडा सेंक ऐंठन वाले क्षेत्र को शांत करने में मदद कर सकता है।
  • मांसपेशियों में ऐंठन का अनुभव होने पर हल्के स्ट्रेच या कम प्रभाव वाले व्यायाम करने का प्रयास करें।
  • मेन्थॉल या कपूर जैसी सामग्री वाली एनाल्जेसिक क्रीम मांसपेशियों की ऐंठन से थोड़ी देर के लिए राहत दे सकती है लेकिन खाने के लिए किसी भी दवा का उपयोग करने से पहले डॉक्टर से परामर्श जरूर लें।
यह भी पढ़ें -   उत्तराखंड में खाई में जा गिरी टाटा सूमो, 10 लोग घायल

सबसे जरूरी बात है कि यह सुनिश्चित करें कि आप अपने वर्कआउट के बाद संतुलित भोजन लें, जिसमें प्रोटीन, कार्बाेहाइड्रेट और स्वस्थ वसा का अच्छा मिश्रण हो। अच्छे पोषण से मांसपेशियों की रिकवरी में मदद मिलती है जिससे ऐंठन की प्रॉब्लम्स कम होती है। यह भी कोशिश करें कि आप अगर एक्सरसाइज कर रहे हैं तो इसे नियमित रूप से करें जैसे-जैसे आपकी मांसपेशियां शारीरिक गतिविधि की आदी हो जाती हैं, उनमें ऐंठन की संभावना कम हो जाती है। लगातार व्यायाम से रक्त परिसंचरण और मांसपेशियों के समग्र स्वास्थ्य में भी सुधार होता है. अगर बार-बार या गंभीर मांसपेशियों में ऐंठन का अनुभव करते हैं, तो बिना देरी डॉक्टर से परामर्श करना आवश्यक है।

Ad Ad Ad Ad Ad
Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad

सबसे पहले ख़बरें पाने के लिए -

👉 हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

👉 फेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज़ लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल सबस्क्राइब करें

हमसे संपर्क करने/विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें - +91 70170 85440