रविवार से शुरू हुई बारिश का सिलसिला अभी जारी, ऊंची चोटियों पर हुई बर्फबारी से तापमान में भी काफी गिरावट

Ad
Ad
खबर शेयर करें

समाचार सच, नैनीताल/देहरादून। उत्तराखंड के पहाड़ी और मैदानी इलाकों में रविवार से शुरू हुई बारिश का सिलसिला सोमवार को भी जारी है। वहीं बदरी-केदार, यमुनोत्री और धारचूला-मुनस्यारी की ऊंची चोटियां बर्फ की सफेद चादर से ढक गईं हैं। बदरीनाथ में सोमवार को बारिश हुई और ऊंची चोटियों पर हिमपात हुआ। वहीं केदारनाथ में भी ऊंची चोटियों पर हिमपात हुआ। दोपहर बाद बदरीनाथ धाम में मौसम तेजी से बदल गया और फिर बारिश शुरू हो गई, जिससे धाम में कड़ाके की ठंड भी शुरू हो गई है। उधर गोपेश्वर, चमोली, पीपलकोटी सहित जिले के अन्य स्थानों पर अपराह्न से रिमझिम बारिश शुरू हो गई।

पश्चिमी विक्षोभ की सक्रियता और दक्षिण पूर्वी क्षेत्रों से आ रही ठंडी हवाओं ने उत्तराखंड में मौसम का मिजाज बिगाड़ दिया है। ऊंची चोटियों पर हुई बर्फबारी से तापमान में भी काफी गिरावट आ गई है।
मौसम विज्ञानियों ने अगले 24 घंटे में भी भारी से अत्यंत भारी बारिश की संभावना जताई है। राजधानी देहरादून में सोमवार को भी कई घंटो से लगतार बारिश जारी है। राज्य के सभी इलाकों में रुक-रुक कर बारिश का दौर जारी है। मसूरी में रविवार से रुक-रुककर बारिश हो रही है। बारिश के साथ यहां घना कोहरा छाया है। तापमान में भी काफी गिरावट आ गई है। लगातार हो रही बारिश से नैनी झील पानी से लबालब भर गई है। झील से अतिरिक्त जल निकासी के लिए तीन इंच डांठ खोल दिए गए हैं।

यह भी पढ़ें -   21वें राज्य स्थापना दिवस पर हल्द्वानी में आप ने भाजपा और कांग्रेस से पूछे 21 सवाल, दिया सांकेतिक धरना

कैबिनेट मंत्री धन सिंह रावत का कहना है कि सभी जिलों को आदेश जारी कर दिया है कि अधिकारी अलर्ट पर रहें। केदारनाथ और बदरीनाथ के सभी श्रद्धालु सुरक्षित हैं। उन्हें अगले दो दिन वहीं रुकने को कहा गया है। हम किसी भी स्थिति से निपटने के लिए तैयार हैं।

यह भी पढ़ें -   राज्य स्थापना दिवस के अवसर पर मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने प्रदेश वासियों को दी बधाई एवं शुभकामनायें

केदारनाथ, बदरीनाथ और यमुनोत्री धाम में ऊंची चोटियों पर बर्फबारी हुई है। धारचूला और मुनस्यारी के उच्च हिमालयी क्षेत्रों में जबरदस्त हिमपात हुआ है। गंगोत्री और यमुनोत्री हाईवे पर कई जगह मलबा आने से मार्ग बाधित है। बदरीनाथ राष्ट्रीय राजमार्ग कलियासौड़ और सिरोबगड़ में बंद हो गया है। इस वजह से यहां यात्री फंस गए हैं। वाहनों को पौड़ी चुंगी और श्रीकोट में रोका जा रहा है। ेटनकपुर-पिथौरागढ़ राष्ट्रीय राजमार्ग में आठ जगह मलबा आने से बंद पड़ा हुआ है। नई टिहरी, श्रीनगर, बड़कोट, रुद्रप्रयाग, उत्तरकाशी, चमोली, टनकपुर, लोहाघाट, नैनीताल, पिथौरागढ़ सहित अधिकतर पहाड़ी और मैदानी इलाकों में रविवार से बारिश का दौर जारी है। कोटद्वार में पौड़ी हाईवे पर नाले उफान पर आ गए हैं। श्रीनगर के चमधार में मार्ग बंद हो गया है। यहां लगातार पहाड़ी से मलबा गिर रहा है।

यह भी पढ़ें -   राज्य की दुर्दशा का मुख्य कारण भाजपा-कांग्रेस: त्रिवेंद्र सिंह पंवार

मुख्यमंत्री धामी ने विभिन्न क्षेत्रों में हो रही बारिश का जायजा लिया। मुख्यमंत्री ने फोन से सभी जिलाधिकारियों से बारिश की स्थिति की जानकारी ली। उन्होंने निर्देश दिए हैं कि जिले में बारिश और आवागमन की स्थिति की प्रत्येक घंटे की रिपोर्ट दी जाए। इसके बाद मुख्यमंत्री सचिवालय स्थित आपदा कंट्रोल रूम पहुंचे और प्रदेश में अतिवृष्टि की स्थिति की जानकारी ली। वहीं रुद्रप्रयाग के डीएम ने बताया मुख्यमंत्री को बताया कि रविवार को केदारनाथ मंदिर में 6000 श्रद्धालु थे, उनमें से 4000 वापस आ चुके हैं और 2000 सुरक्षित स्थानों पर हैं।

Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *