शास्त्रों में सोने का सही तरीका बताया गया है यह, कहीं गलत तरीके से तो नहीं सोते आप

Ad
Ad
खबर शेयर करें

समाचार सच, अध्यात्म डेस्क। अच्छी सेहत के लिए बेहतर खानपान और सही दिनचर्या के साथ जरूरी है सही दिशा में शयन। शास्घ्त्रों में सोने की सही दिशा के निर्देश दिए गए हैं। गलत तरीके से सोने से स्वास्थ्य की हानि होती है और यह बातें वैज्ञानिक रूप से भी साबित हो चुकी हैं। कौन-सी दिशाएं देती हैं आपको स्वास्थ्य लाभ और किन दिशाओं में सिर करके सोने से होता है नुकसान, जानें वास्तु के अनुसार कैसे सोना चाहिए आपको३

इस दिशा में सिर करके सोना अपशकुन
वास्तु विज्ञान के अनुसार, उत्तर दिशा में सिर करके सोना अपशकुन होता है। दरअसल मृत्यु के बाद व्घ्यक्ति को उत्तर दिशा की ओर सिर रखकर सुलाया जाता है। ऐसी धारणा है कि उत्तर की ओर सिर और दक्षिण की ओर पैर करके सोने से आयु कम होती है क्योंकि दक्षिण को यम की दिशा माना गया है।

यह भी पढ़ें -   केंद्रीय रक्षा मंत्री एवं मुख्यमंत्री ने की शहीद हवलदार कुंदन सिंह खड़ायत की प्रतिमा पर पुष्पांजलि

उत्तर दिशा में सिर से यह नुकसान
विज्ञान के अनुसार, पृथ्वी के उत्तर और दक्षिण सिरे में सबसे ज्यादा गुरुत्वाकर्षण बल होता है। पृथ्वी के इन दोनों सिरों के बीच में उत्तर से दक्षिण की ओर चुंबकीय ऊर्जा का संचार होता रहता है। उत्तर की ओर सिर करके सोने पर चुंबकीय ऊर्जा विपरीत दिशा से शरीर में संचार करती है, जिसका शरीर पर विपरीत प्रभाव पड़ता है।

यह भी पढ़ें -   आंदोलनरत छात्रों ने एडमिन ब्लॉक पर जड़ा ताला

पूर्व में भूलकर भी न रखें पैर
पश्चिम में सिर यानी पूर्व में पैर रखकर कभी नहीं सोना चाहिए। माना जाता है कि पूर्व में सूर्याेदय होने से इस दिशा में देवताओं का वास होता है। देवताओं की तरफ पैर रखकर सोने से मनुष्घ्य को पाप लगता है।

बेड से उठने के लिए यह तरीका है सही
जब आप उठें, तो अपनी दायीं तरफ घूमें और फिर बिस्तर से उठें। नींद से उठते समय मेटाबोलिक प्रक्रिया बहुत धीमी होती है। ऐसे में अचानक से बिस्तर छोड़ने पर दिल पर दबाव पड़ेगा और ऐसा होने पर हार्टअटैक की आशंका बढ़ जाती है। शास्त्रों के अनुसार, सुबह सोकर उठने पर पहले झुककर धरती का स्पर्श करना चाहिए फिर पैर जमीन पर रखना चाहिए। शास्त्रों का यह नियम भी विज्ञान के इस सिद्धांत पर आधारित है।

Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *