उत्तरप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह का निधन, लम्बे समय से चल रहे बीमार, लखनऊ के पीजीआई में ली अंतिम सांस

Ad
खबर शेयर करें

समाचार सच, उत्तर प्रदेश/लखनऊ (एजेन्सी)। भाजपा के दिग्गज नेता एवं यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह का निधन शनिवार को हो गया। 89 वर्षीय कल्याण सिंह लम्बे समय से बीमार चल रहे थे और काफी दिनों से लखनऊ के संजय गांधी स्नातकोत्तर आयुर्विज्ञान संस्थान (एसजीपीजीआई ) में भर्ती थे। एसजीपीजीआई के द्वारा जारी बयान के अनुसार कल्याण सिंह का निधन सेप्सिस और मल्टी ऑर्गन फेल्योर की वजह से हुआ है।

पूर्व मुख्यमंत्री कल्घ्याण सिंह की स्थिति काफी समय से नाजुक बनी हुई थी और उनको जीवन रक्षक प्रणाली पर रखा गया था। कल्घ्याण सिंह एसजीपीजीआई के क्रिटिकल केयर मेडिसिन, नेफ्रोलॉजी, न्यूरोलॉजी, एंडोक्रिनोलॉजी एवं कार्डियोलॉजी विभागों के वरिष्ठ चिकित्सकों की देखरेख में थे। 89 वर्षीय कल्याण सिंह को गत चार जुलाई को संक्रमण की वजह से एसजीपीजीआई के आईसीयू में भर्ती कराया गया था। इससे पहले उनका इलाज डॉक्टर राम मनोहर लोहिया इंस्टीट्यूट में किया जा रहा था।

यह भी पढ़ें -   हल्द्वानी व्यापार मण्डल चुनाव शांतिपूर्ण हुए , अध्यक्ष पद योगेश निर्विरोध अध्यक्ष बने, महामंत्री पद में मनोज ने मारी बाजी

कल्याण सिंह के बिगड़े स्वास्थ्य की जानकारी मिलते ही उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अपना गोरखपुर दौरा बीच में रद्द करके शनिवार को बीते 24 घंटे के अंदर दूसरी बार लखनऊ स्थित एसजीपीजीआई पहुंचे थे। इससे पहले शुक्रवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने वहां जाकर उनके स्वास्थ्य के बारे में जानकारी ली थी।

यह भी पढ़ें -   भारतीय जनता पार्टी नगर ने गांधी जयंती के अवसर पर गांधी आश्रम से खरीदी उपयोगी वस्तुएं

कल्याण सिंह के निधन पर प्रधानमंत्री मोदी ने भी ट्वीट कर दुख जताया है। प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट कर कहा है कि मैं निशब्द हूं। कल्याण सिंह जी३राजनेता, अनुभवी प्रशासक, जमीनी स्तर के नेता और महान इंसान। उत्तर प्रदेश के विकास में उनका अमिट योगदान है। उनके पुत्र राजवीर सिंह से बात की और अपनी संवेदना व्यक्त की। ऊँ शांति।

यह भी पढ़ें -   कच्चे घर में लगी आग, जला दो दुपहिया वाहन

एक और ट्वीट में उन्होंने लिखा कि भारत के सांस्कृतिक उत्थान में उनके योगदान के लिए आने वाली पीढ़ियां हमेशा कल्याण सिंह जी की आभारी रहेंगी। वे भारतीय मूल्यों के प्रति दृढ़ थे और सदियों पुरानी परंपराओं पर गर्व करते थे। कल्याण सिंह जी ने समाज के वंचित तबके से आने वाले करोड़ों लोगों को आवाज दी। उन्होंने किसानों, युवाओं और महिलाओं के सशक्तिकरण की दिशा में कई प्रयास किए।

ad
Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *