बार-बार उबासी आने से हैं परेशान, गंभीर हो सकती है यह समस्या

खबर शेयर करें

समाचार सच, स्वास्थ्य डेस्क। आपने गौर किया होगा कि नींद आने से पहले या फिर सोकर उठने से पहले खूब उबासी आती है। उस दौरान भी उबासी सी महसूस होती है, जब आपके सामने कोई जम्हाई लेता है। क्या आप जानते हैं कि आखिर उबासी क्यों आती है? एक्सपर्ट्स का कहना है कि इसके कई शारीरिक और मानसिक कारण होते हैं।

कई बार शरीर में ऑक्सीजन की कमी के कारण भी उबासी आती है। अधिकतर थकान, उनींदापन, अरुचि के कारण भी जम्हाई या उबासी आने लगती है। हालांकि, इसके आने का सही-सही कारण बता पाना आसान नहीं है। किसी-किसी को बार-बार उबासी आती है। यदि आप वाकई में बार-बार उबासी आने की समस्या से परेशान हैं, तो इसे नजरअंदाज करना भी ठीक नहीं।

दिन भर में 3 से 4 बार उबासी आना आम है, लेकिन कुछ लोगों को जरूरत से ज्यादा उबासियां आने लगती हैं। उनको लगता है कि अधिकतर थकान, नींद पूरी ना होना या किसी काम में अरुचि के कारण ऐसा हो रहा है, लेकिन ऐसा नहीं है। इसका कनेक्शन कई बार हमारी सेहत से भी होता है। कई बार कुछ गंभीर शारीरिक समस्याओं के कारण भी ज्यादा उबासियां आने आती हैं। इससे मामूली समझकर छोड़ देना ठीक नहीं है। जानिए, किन कारणों से आपको उबासी अधिक आती है।

ये हैं अधिक उबासी आने के कारण –

  1. लीवर खराब होने की स्थिति में शरीर को बहुत ज्यादा थकावट होने लगती है। थकान महसूस होने पर उबासी आती है। जब भी आपको ज्यादा उबासी आने लगे तो अपने लीवर का चेकअप जरूर करवा लें।
  2. दिल की बीमारियों के कारण भी कई बार अधिक उबासी आती है। डॉक्टर्स के अनुसार, दिल और फेफड़ों की बीमारियों के कारण भी ज्यादा उबासियां आने लगती हैं। जब दिल और फेफड़े सही तरह से काम नहीं करते तो अस्थमा की समस्या होने लगती है। अगर समय रहते इनका इलाज ना करवाया जाए तो स्थिति और भी खराब हो सकती है।
  3. सिर दर्द लगातार रहता हो तो भी अलर्ट हो जाएं। चेकअप करवाएं कि कहीं आपको ब्रेन ट्यूमर जैसी समस्या तो नहीं हो रही है। कुछ अध्ययनों के अनुसार, ब्रेन स्टेम में जख्म की वजह से ज्यादा उबासियां आने लगती हैं। पिट्यूटरी ग्लैंड दब जाने के कारण भी ऐसा होता है।
  4. बीपी और दिल की धड़कन का कम होना भी उबासी बढ़ाता है। तनाव से भी अक्सर लोगों का ब्लड प्रेशर बढ़ जाता है। ऐसा होने पर ऑक्सीजन ब्रेन तक नहीं पहुंच पाती। इस स्थिति में उबासी के जरिए शरीर में ऑक्सीजन पहुंचती है। अगर आपको भी जरूरत से ज्यादा उबासी आने लगे तो एक बार डॉक्टर से जरूर मिलें।
  5. यदि शरीर में ब्लड ग्लूकोज का लेवल कम हो जाए, तो समझ लीजिए कुछ गड़बड़ है। उबासी आना डायबिटिस्क में हाइपोग्लाइसीमिया का शुरुआती संकेत होता है। ब्लड ग्लूकोज लेवल कम होने से उबासी आनी शुरू हो जाती है। अगर आपको भी डायबिटीज की समस्या है और जम्हाई अधिक ले रहे हैं, तो डॉक्टर से यह समस्या जरूर बताएं।
  6. बार-बार उबासी आना हाइपोथायरॉइडिज्म की निशानी हो सकती है। शरीर में थाइरॉयड हॉर्माेन कम बनने पर ऐसा होता है।
यह भी पढ़ें -   युवक ने लगाया चार लोगों पर मारपीट व गाली गलौज का आरोप

उबासी कब होती है खतरनाक –

वैसे तो उबासी आने से किसी प्रकार का कोई नुकसान नहीं होता है, लेकिन कुछ विशेष परिस्थितियों में यह खतरनाक भी हो सकती है। यह स्थिति ‘वेसो वेगल रिएक्शन’ कहलाती है। इसमें वेगस नर्व की सक्रियता बढ़ जाती है। यह नर्व दिमाग और गले से होती हुई पेट तक जाती है। जब यह नर्व अधिक सक्रिय हो जाती है तो दिल की धड़कन और ब्लड प्रेशर बहुत कम हो जाते हैं। इसके कारण बहुत ज्यादा उबासी आने लगती है। इसका हार्ट पर भी बुरा प्रभाव पड़ सकता है। ऐसे में डॉक्टर की मदद लेनी चाहिए।

उबासी से किस तरह बचें

अधिक मात्रा में पानी पियें
यह बहुत ज्यादा आने वाली उबासी को दूर करने का सबसे आसान तरीका है। चूंकि थकान के कारण उबासी आती है इसलिए पानी पीना भी इससे छुटकारा पाने का एक अच्छा तरीका है। यह आपके शरीर को हाइड्रेट तो करेगा ही साथ ही आप तरोताजा महसूस करेंगे।

यह भी पढ़ें -   यमुनोत्री यात्रा पर आए एक और मध्य प्रदेश यात्री की हार्ट अटैक से मौत

खुलकर सांस लें
शोधकर्ताओं के अनुसार, उबासी को रोकने का यह एक प्रभावी तरीका है। ऑक्सीजन की कमी के कारण उबासी आती है, इसलिए उबासी को रोकने के लिए आपको अपने शरीर को सही मात्रा में ऑक्सीजन पहुंचाना आवश्यक होता है। जितना हो सके आप भारी सांस लें। सांस को कुछ देर रोक कर रखें और फिर छोड़ें। इससे शरीर को पर्याप्त ऑक्सीजन मिलेगा और आपको अच्छा महसूस होगा।

बोरियत से बचें
बोर होने की स्थिति में आपको अधिकतर बार उबासी ज्यादा आती है। ऐसे समय आप उबासी इसलिए लेते हैं, क्योंकि आप उस काम या माहौल से तालमेल नहीं बैठा पाते। ऐसी स्थिति में थोड़ी देर ब्रेक लें, अपनी सीट से उठें, और फिर अपने आपको ऐसे काम में लगाएं जिसमें आपकी रुचि हो।

तनाव से दूर रहें
नींद की कमी और बहुत ज्यादा काम भी उबासी का कारण होता है। कम सोना और तनाव ये दोनों बातें शारीरिक और मानसिक रूप से आपको परेशान करती हैं। आपको अपने काम का बोझ कम करके बिना किसी दवाई के सही तरह से सोने की कोशिश करनी चाहिए। ध्यान रखें कि आप इंसान हो कोई मशीन नहीं।

दिल की बीमारियों से बचें
बहुत से डॉक्टरों के अनुसार, दिल और फेफड़ों की बीमारियों के कारण भी उबासी ज्यादा आती है। उनके अनुसार अगर आपको अस्थमा है या फिर दिल या फेफड़ों से संबंधित समस्या है तो उसका सही इलाज कराएं। अन्यथा बाद में आपको ज्यादा परेशानी उठानी पड़ सकती है।

मोटापे से बचें
मोटापे के कारण भी आप बहुत अधिक उबासी आती है। अगर आपका वजन अगर निरंतर बढ़ता जा रहा है यानी आप मोटापे का शिकार हो चुके हैं तो आपको दिन में कई बार उबासी आ सकती है। इसलिए मोटापे को दूर करने की कोशिश करें।

सबसे पहले ख़बरें पाने के लिए -

👉 हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

👉 फेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज़ लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल सबस्क्राइब करें

हमसे संपर्क करने/विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें - +91 70170 85440

Leave a Reply

Your email address will not be published.