पुल के टूटे हुए भाग का स्थाई रूप से निर्माण ना होने से गौलापारवासी आक्रोशित, गौला पुल पर किया प्रदर्शन

खबर शेयर करें

समाचार सच, हल्द्वानी। गौला पुल के टूटे हुए भाग का स्थाई रूप से निर्माण ना होने से गौलावासी में गहरा आक्रोश व्याप्त है। गुरूवार को खेड़ा ग्राम प्रधान लीला देवी एवं पूर्व क्षेत्र पंचायत सदस्य अर्जुन बिष्ट के नेतृत्व में गौला पुल पर प्रदर्शन किया और उपजिलाधिकारी के माध्यम से ज्ञापन देकर टूटे हुए भाग का स्थाई रूप से निर्माण करवाये जाने की मांग की हैं।

Ad

पूर्व नियोजित कार्यक्रम के अनुसार गुरूवार को गौला पुल में भारी संख्या में गौलापार क्षेत्र के लोग एकत्र हुए। जहां उन्होंने प्रदेश सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए कई माह बीत जाने के बावजूद टूटे पुल का स्थाई निर्माण न करवाये जाने पर अपना रोष प्रकट किया।

यह भी पढ़ें -   उत्तराखण्ड का शुक्रवार को कोरोना अपडेट्स, जानिए किस शहर कितने मिले केस

इस मौके पर पूर्व क्षेत्र पंचायत सदस्य अर्जुन बिष्ट का कहना था कि गौला पुल के टूटे हुए हिस्से का अस्थाई व्यवस्था कराये जाने से आवाजाही में जाम की स्थिति बनी रहती है। जिस कारण पूरे कुमायूं एवं गौलापार, चोरगलिया, सितारगंज के लोगों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी द्वारा भी पुल का निरीक्षण कर उसको शीघ्र ही ठीक कराये जाने को सम्बंधित अधिकारियों निर्देश दिये थे। परन्तु पुल के उस टूटे हुए हिस्से की अस्थाई व्यवस्था करवायी गयी है जो कभी भी बरसात होने पर बह सकता है। उक्त निर्माण को स्थाई रूप से ना कराये जाने से क्षेत्र के लोगों में भारी रोष व्याप्त हैं।

यह भी पढ़ें -   उत्तराखण्ड में आप ने जारी की उम्मीदवारों की पहली सूची, जानिए कौन किस सीट से लड़ेगा चुनाव…

इस दौरान क्षेत्रवासियों ने उपजिलाधिकारी को ज्ञापन देकर उक्त पुल के टूटे हुए हिस्से के अस्थाई निमार्ण को स्थाई रूप से निर्माण कराये जाने की मांग की है। ज्ञापन में क्षेत्रवासियों ने एक स्वर में चेतावनी दी है कि अगर शीघ्र ही उनकी उक्त मांग पूरी नही होती है तो वे उग्र आंदोलन करने को बाध्य होंगे।

यह भी पढ़ें -   उत्तराखंड में होगा एक चरण में चुनाव, 14 फरवरी को को डाले जायेंगे वोट

प्रदर्शन करने वालों में मुख्य रूप से पूर्व काबीना मंत्री हरीश दुर्गापाल, हरेन्द्र बोरा, हरेन्द्र क्वीरा, नीरज सिंह रैक्वाल, भगवान सिंह सम्मल, राम सिंह नगरकोटी, हरीश बेलवाल, मोहन चन्द्र भारती, जगदीश रैक्वाल, महिपाल रैक्वाल, रविन्द्र रैक्वाल, हरीश चन्द्र बडौला व संध्या डालाकोटी सहित भारी संख्या में क्षेत्रवासी मौजूद रहे।

Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *