हल्द्वानी के कमलुवागांजा क्षेत्र में चोरों ने दिया ताबड़तोड़ चोरियों को अंजाम

खबर शेयर करें

समाचार सच, हल्द्वानी। शहर में चोरों का आतंक कम होने का नाम नहीं ले रहा है। चोरों ने पुलिस की कानून व्यवस्था को धता बताते हुए ताबड़तोड़ चोरी की वारदातों को अंजाम दे दिया। बीती रात चोरों ने कमलुवागांजा क्षेत्र में आधा दर्जन दुकानों के ताले तोड़ कर लाखों की नगदी पार कर ली। सुबह जब दुकान स्वामी अपने-अपने प्रतिष्ठानों में पहुंचे तब उन्हें चोरी होने की जानकारी मिली। सूचना मिलते ही मुखानी थाना पुलिस घटना स्थल पर पहुंच गई और मामले की जानकारी ली।
बीती रात चोरों ने कमलुवागांजा स्थित शर्मा ट्रेडर्स की दुकान का ताला तोड़कर दुकान में रखी 20-25 हजार की नगदी चुरा ली। वहीं जगदंबा हार्डवेयर एंड पेंट की दुकान से भी चोर 2 से 3 लाख रूपए उड़ा ले गए। पास में ही स्थित हिमानी कास्मैटिक की दुकान का ताला तोड़ने का प्रयास किया गया। जबकि नारायण ट्रेडर्स की दुकान से 50-60 हजार रुपए, पास ही स्थित दूध की डेयरी से दो से तीन हजार और जयगुरू ब्रिक सप्लायर की दुकान से 3-4 हजार रूपए चुरा लिए। जब दुकान स्वामी सुबह दुकान पर पहुंचे तो दुकानों के ताले टूटे हुए थे और सामान बिखरा हुआ था। चोरों ने दुकानों में लगे सीसीटीवी कैमरे भी क्षतिग्रस्त कर दिए थे। मौके पर पहुंची पुलिस ने मामले की जानकारी ली। इस दौरान आसपास छानबीन करने पर शर्मा ट्रेडर्स की दुकान का गल्ला दुकान से काफी दूर मिला है। दिन पर दिन बढ़ी चोरी की वारदातों से लोगों में जहां दहशत क माहौल है, वहीं पुलिस की कार्यप्रणाली से रोष भी है।

इधर नगर निगम में नेता प्रतिपक्ष रवि जोशी ने शहर में हो रही चोरी की घटनाओं पर चिंता व्यक्त करते हुए पुलिस की कार्यप्रणाली पर सवाल खड़े किए हैं। उन्होंने कहा कि शहर में दिन पर दिन चोरी की घटनाओं का ग्राफ बढ़ता जा रहा है। चोरी की घटनाओं पर अंकुश लगाने में पुलिस पूरी तरह से नाकाम साबित हुई है। पूर्व में भी कई दुकानों में चोरी की घटनाएं हा चुकी है जिनका अभी तक खुलासा नहीं हो पाया है। उन्होंने चोरी की घटनाओं का जल्द खुलासा नहीं होने पर आंदोलन की धमकी दी है।

सबसे पहले ख़बरें पाने के लिए -

👉 हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

👉 फेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज़ लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल सबस्क्राइब करें

हमसे संपर्क करने/विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें - +91 70170 85440

Leave a Reply

Your email address will not be published.