First ad box

घरेलू उपचार के नुस्खे: अचानक कोई दुर्घटना हो जाये तो सबसे पहले आसपास मौजूद चीजें ही फर्स्ट ऐड के रूप में काम में लाई जा सकती है

Ad Ad
खबर शेयर करें

समाचार सच, स्वास्थ्य डेस्क। आजकल समय की कमी और जानकारी के आभाव की वजह से घरेलू उपचार की औषधियों की उपयोगिता थोड़ी काफी कम हो गई है। जबकि वास्तविकता यह है कि घरेलू उपचार के नुस्खे बहुत कामयाब होते है खासतौर पर प्राथमिक चिकित्सा यानि फर्स्ट ऐड के रूप में, क्योंकि अचानक कोई दुर्घटना हो जाये तो सबसे पहले आसपास मौजूद चीजें ही फर्स्ट ऐड के रूप में काम में लाई जा सकती है।

ये घरेलू उपचार जब आसपास डॉक्टर मौजूद ना हो तो बहुत काम आते हैं। और इन्हें सरलता से बनाया जा सकता है। बिना डॉक्टर की सहायता से आप अपना तथा अपने परिचितों का सरलता से इलाज कर सकते हैं। ऐसी कुछ घरेलू औषधियों की जानकारी नीचे दी जा रही है जो किसी आपातकाल स्थिति में आपके काम आ सकती है ।

Ad Ad Ad

फर्स्ट ऐड के लिए घरेलू उपचार

gurukripa
raunak-fast-food
gurudwars-sabha
swastik-auto
men-power-security
shankar-hospital
chotu-murti
chndrika-jewellers
AshuJewellers

किसी एलर्जी के कारण त्वचा सूज जाए, उसका रंग बदल जाए और वहां खुजली हो तो घरेलू उपचार ।

  • मेथी की पत्तियों को पीसकर प्रभावित स्थान पर लगाएं।
  • कच्चे आलुओं का रस लगाने से भी लाभ होगा।
  • तारपीन के तेल को सरसों को तेल में मिलाकर मालिश करें।
  • नारियल के तेल की मालिश भी असर करेगी।
  • करेले का रस प्रभावित स्थान पर लगाएं।
  • नमक मिलाकर जूस का सेवन भी करें।

मोच के बाद यदि उस अंग पर सूजन आ जाए तो घरेलू उपचार ।

  • सूजन वाले स्थान पर तेजपत्ता और लौंग पीसकर लगाएं।
  • तुलसी के पत्तों का रस और सरसों के तेल को मिलाकर दिन में कई बार लगाएं।
  • तारपीन या सरसों के तेल की मालिश से भी सूजन कम होगी।
  • सरसों के तेल में नमक मिलाकर गर्म करें और सूजन वाले स्थान पर लगाएं।

दांतों में दर्द उठे और डॉक्टर के पास जाने में देर हो तो घरेलू उपचार ।

  • हींग को पानी में घोलकर दांतों पर लगाएं।
  • आंवले के चूर्ण में थोड़ा-सा सेंधा नमक मिलाकर मंजन की तरह से उंगलियों द्वारा मलें।
  • पालक के रस में पानी मिलाकर कुल्ला करें।
  • राई को पानी में डालकर उबालें और फिर उससे कुल्ला करें।
  • सरसों का तेल और हल्दी का मिश्रण लगाने से भी राहत मिलेगी।
  • लोंग का तेल लगाने से भी राहत मिलेगी।

आग से जल जाए और डॉक्टर के पास जाने में देर लगे तो घरेलू उपचार

  • जले हुए अंग को पानी में डुबो दें। यदि ऐसा करना संभव न हो तो अंग पर पानी का कपड़ा रख दें। बर्फ हो तो उसके टुकड़े रखें।
  • जलने से त्वचा पर पड़ गए फफोलों को फोड़ना नहीं चाहिए। इन फफोलों में पानी भरा होता है, जो नीचे की त्वचा को सुरक्षा प्रदान करता है।
  • कच्चे आलू को पीसकर उसका लेप जले हुए स्थान पर लगाएं। बहुत राहत मिलेगी।
  • जीरे को पानी में पीस लें और उसका लेप लगाएं।
  • तुलसी के पत्तों का रस को नारियल के तेल में मिलाकर लगाना चाहिए।
  • मुलतानी मिट्टी लगाने से भी राहत मिलेगी।
  • पके केले को गूदे को मसलकर लगाने से भी लाभ होगा।
  • गाजर का रस भी जले हुए स्थान पर राहत देगा।
  • यदि शरीर ज्यादा जला हो तो घरेलू उपचार करके पीड़ित को चादर ओढ़ा दें और उसे तुरंत डॉक्टर के पास पहुंचाएं।
  • त्वचा जलने पर घरेलू उपाय तथा फ़ौरन राहत के लिए प्राथमिक उपचार
यह भी पढ़ें -   सुबह खाली पेट से लेकर रात में डिनर तक कैसे करें सौंप का उपयोग, आईए जानिए…

त्वचा पर घमौरिया हो जाएं तो घरेलू उपचार

  • घमौरिया वाले स्थान पर दिन में कई बार बर्फ के टुकड़े मलें।
  • मुलतानी मिट्टी का लेप भी राहत देगा।
  • संतरे के छिलकों को सुखाकर पीस लें और पाउडर को गुलाबजल में मिलाकर लगाएं।
  • तुलसी की लकड़ी को पानी में घिसकर लगाएं।

अचानक चोट लगने से घाव हो जाए तो घरेलू उपचार

  • शरीर में कई प्रकार के घाव हो जाते हैं, उनकी प्राथमिक चिकित्सा भी आवश्यक है।
  • घाव में दिन में कई बार प्याज या लहसुन का रस लगाएं।
  • खून बहना रोकने के लिए बर्फ लगायें।
  • तुलसी की लकड़ी को पानी में घिसकर उसका लेप लगाएं।
  • आम की छाल को पानी में घिसकर लगाएं।
  • हल्दी को तवे पर भून लें और उसमें सरसों का तेल मिलाकर लगाएं।
  • शहद को घाव पर लगाने से भी लाभ होगा।
  • नीम की छाल को घिस कर लगायें।
  • यदि डेटोल मौजूद ना हो तो नीम के पत्तो का रस लगायें। सूखे नीम के पत्ते उपलब्ध हो तो उसको पानी में उबालकर उससे घाव को धोएं।
  • आंवले को रगड़कर बारीक कर लें। फिर उसे कपड़छन कर लें। इसके बाद उसमें मट्ठा डालकर उसे पुनः रगड़े और लेप भी बना लें। इस लेप को घाव पर लगाकर पट्टी बांध दें। ऐसा करने से घाव जल्दी भर जाता है।
  • एलोवेरा की जेल घाव पर लगायें।

यदि शरीर में जहर चला गया हो और डॉक्टर तक पहुंचने में देर लग रही हो तो घरेलू उपचार

  • गर्म पानी में नमक डालकर पीड़ित को पिला दें। इससे उसे उल्टी हो जाएगी।
  • आधा चम्मच सुहागा पीसें और देसी घी के साथ खिला दें।
  • दूध में घी डालकर पिलाने से भी जहर का असर कुछ कम हो जाता है।

जब पीला ततैया, मधुमक्खी या कोई अन्य कीड़ा काट ले तो घरेलू उपचार

  • कीड़े के डंक वाले स्थान पर हर दस मिनट के बाद तारपीन का तेल लगाएं।
  • आटे में सिरका मिलाकर काटे गए स्थान पर लगाने से भी राहत मिलेगी।
  • लहसुन को पीसकर उसमें सेंधा नमक मिलाकर लगाएं।
  • अजवायन को पीसकर लगाने से भी राहत मिलेगी।
  • डंक वाले स्थान पर फिटकरी को पानी में घिसकर लगाएं।
  • मधुमक्खी के काटने पर बाकी उपाय तो हैं ही, लोहे को घिसकर लगाने से भी लाभ होगा।
  • अगर डंक अंदर ही रह गया हो तो उसे सुई की मदद से निकाल दें।
  • काटे गए अंग पर अमचूर या इमली लगा दें।
यह भी पढ़ें -   हल्द्वानी रेलवे भूमि प्रकरण: बनभूलपुरा में सीमांकन कार्य शुरू, मौजूद रही भारी फोर्स

जब बच्चे की नाल काटने के बाद नाभि पक जाए तो घरेलू उपचार

  • लौंग के तेल और तिल्ली के तेल को मिलाकर लगाएं।
  • हल्दी को देसी घी में मिलाकर लगाएं।
  • चिकनी सुपारी पानी में घिसकर दिन में कई बार लगाएं।

जब बच्चे के दांत निकलते समय उसे दर्द हो तो घरेलू उपचार

  • थोड़ा-सा सुहागा लें और शहद में मिलाकर मसूढ़ों पर मलें।
  • चूने के पानी में शहद मिलाकर दांतों पर मलने से भी लाभ होगा।
  • मक्खन और शहद मिलाकर लगाने से भी दांत आसानी से निकलते हैं।
  • तुलसी के पत्तों का रस और शहद का संयोजन मसूढ़ों पर मलने से भी लाभ होगा।
  • मुलेठी के चूर्ण का सेवन भी बच्चे की परेशानी कम करेगा।
  • सुबह-शाम एक-एक चम्मच अंगूर का रस पिलाने से भी राहत मिलेगी।

आंख आने पर तो घरेलू उपचार

  • पहले तीन दिन तक कोई इलाज न करें। आंखों को केवल बोरिक पॉउडर से धोएं।
  • पीले कपड़े से पोंछे। गहरा नीला चश्मा लगाएं। आंखों से किसी प्रकार का काम, टी वी देखना मोबाइल फ़ोन का प्रयोग, लिखना-पढ़ना न करें। केवल आराम करें।
  • नौसादर और फिटकरी बराबर मात्रा में लेकर खूब बारीक पीसकर आंखों में लगाने पर जाला, फूला, रतौंधी, आदि दूर होकर ऑंखें स्वस्थ भी रहती है।

कान का दर्द का घरेलू उपचार

  • लौंग जलाकर सरसों के तेल में डाल दें। फिर वह तेल कान में टपकाएं। ऐसा करने से कान का दर्द मिट जाता है।
  • राई का तेल कान में टपकाने से बहरापन कम होता है।
  • कान बहने पर पहले शहद कान में टपका दें। फिर पिचकारी से पानी मारकर धो डालें।
  • कान में किसी भी तरह का कीड़ा घुस जाए तो सरसों का तेल कान में भर दें। कीड़ा बाहर आ जाएगा। न आने पर कुछ देर बाद गुनगुने पानी की पिचकारी मारें। मरा हुआ कीड़ा बाहर आ जाएगा।
  • कान में दर्द होने के कारण और प्रभावी उपचार

नकसीर का घरेलू उपचार

  • किसमिस, धनिया और मिश्री प्रत्येक 10 ग्राम की मात्रा में रात को प्याले में भिगोकर रख दें। सुबह यह छानकर पी लेने से नाक का फूटना भविष्य में भी नहीं होता है।

उलटी आने पर घरेलू उपचार

  • नींबू की शिकंजी और इमली का शरबत भी वमन रोकता है।
  • उलटी की शिकायत होने पर आराम करना आवश्यक है। कोई कार्य न कर केवल बिस्तर पर आराम करें। उससे जी मिचलाना ठीक होने में समय नहीं लगता।
  • नीबू की शिकंजी में चीनी के स्थान पर ग्लूकोज-डी डालकर पिलाएं तो और आराम रहेगा।

कुत्ते के काटने पर घरेलू उपचार

  • कुत्ते के काटे पर लाल मिर्च सरसों के तेल में पीसकर लेप करें या प्याज नमक के साथ पीसकर लगाएं। यदि कुत्ता पागल हो तो 14 इंजेक्शन वाला कोर्स अवश्य करवायें जो सरकारी अस्पतालों में ही उपलब्ध होता है।
Jai Sai Jewellers
AlShifa
BholaJewellers
ChamanJewellers
HarishBharadwaj
JankiTripathi
ParvatiKirola
SiddhartJewellers
KumaunAabhushan
OmkarJewellers
GandhiJewellers

सबसे पहले ख़बरें पाने के लिए -

👉 हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

👉 फेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज़ लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल सबस्क्राइब करें

हमसे संपर्क करने/विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें - +91 70170 85440

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *