बदलते मौसम में किस तरह बच सकते हैं आप बीमार होने से

Ad
खबर शेयर करें

समाचार सच, अध्यात्म डेस्क। इस वक्त का बदलता मौसम किसी को भी बीमार कर सकता है। लिहाजा कुछ जरूरी बातों का ध्यान रखकर आप बिस्तर पकड़ने से बच सकते हैं।
ताकि बदलते मौसम में आप न पड़ें बीमार
मौसम में बदलाव शुरू हो गया है बीच-बीच में बारिश होने की वजह से ठंड का अहसास अभी पूरी तरह से खत्म नहीं हुआ है। यही वजह है कि इस चेंजिंग वेदर में सर्दी, जुकाम, बुखार, बदन दर्द, सिरदर्द, आंखों में जलन, पेट दर्द और फ्लू जैसी बीमारियों का शिकार लोग बड़ी संख्या में हो रहे हैं, खासतौर पर वैसे लोग जिनकी इम्यूनिटी कमजोर है। ऐसे में जरूरत है बदलते मौसम में खुद को बीमारियों से बचाकर रखने के लिए अपना ख्याल रखें और इन जरूरी टिप्स को अपनाएं…
-डॉक्टरों का कहना है कि चूंकि मौसम बदल रहा है, दिन भर उमस भरी गर्मी महसूस होती है। ऐसे में जो लोग दोपहर को बाहर से आते हैं, वह घर आते ही पंखा चला लेते हैं जो बदलते मौसम में बीमारी की सबसे बड़ी वजह है। इससे सर्द-गर्म हो जाता है, जिसके चलते कुछ देर बाद बुखार महसूस होने लगता है। इसलिए जब भी बाहर से आएं, गर्मी महसूस हो तो पंखा ना चलाएं बल्कि कुछ देर आराम से बैठें। तापमान अपने आप सामान्य लगने लगेगा।
सफाई का रखें ध्यान
सर्दी-जुकाम और फ्लू जैसी बीमारियों से बचने का सबसे आसान तरीका है हाथों को साफ रखना। हमारे हाथ हमेशा ही गंदे रहते हैं क्योंकि ज्यादातर लोग अपने हाथों को सामने रखकर खांसते या छींकते हैं या फिर पूरे टाइम अपनी नाक को हाथों से ही पोंछते रहते हैं। लिहाजा हाथों को साबुन-पानी से अच्छी तरह से धोना बेहद जरूरी है। डॉक्टरों की मानें तो कम से कम 20 सेकंड तक हथेली, उंगली, उंगली के टिप्स, हाथों के पीछे का हिस्सा और नाखून के आसपास के हिस्से को अच्छी तरह से साफ करना चाहिए। अगर आप ऐसी जगह पर हैं जहां आप हैंडवॉश नहीं कर सकते तो सैनिटाइजर का इस्तेमाल करें।
ऐसी चीजें खाएं ताकि इम्यूनिटी हो स्ट्रॉन्ग
जिन लोगों को जल्दी सर्दी, जुकाम, बुखार जैसी बीमारियां जकड़ लेती हैं, अक्सर उन लोगों का इम्यून -सिस्टम कमजोर होता है। उन लोगों को इम्यूनिटी स्ट्रॉन्ग करने वाली चीजें खानी चाहिए। ऐसे लोग चाहें तो ग्रीन टी या ब्लैक टी पी सकते हैं, लेकिन दिन में केवल एक या दो कप ही पिएं। ज्यादा पीने पर तबियत बिगड़ भी सकती है। इसके अलावा आप कच्चा लहसुन, दही, ओट्स, विटामिन डी और सी युक्त पदार्थ जैसे नींबू और आंवले का सेवन कर सकते हैं।
-बदलते मौसम में खुद का ख्याल रखना बहुत जरूरी हो जाता है। सर्दी कम होने लगी है। दिन में कई बार गर्मी का एहसास होने लगता है। ऐसे में जरा-सी लापरवाही और मौसम की नजाकत आपको परेशानी में डाल सकती है। इसलिए मौसम के साथ तालमेल बनाए रखना जरूरी हो जाता है, ताकि आप बीमारियों से बचे रहें। हम आपको बता रहे हैं कुछ जरूरी टिप्स के बारे में जिनका पालन कर आप चेंजिंग वेदर में रहेंगे फिट और हेल्दी…
-सुबह उठकर एक गिलास ताजा पानी पीएं। यह न सिर्फ शरीर को डीटॉक्स करता है, बल्कि पाचन क्रिया भी दुरुस्त करता है और स्किन को ड्राई होने से बचाता है। बदलते मौसम में डायट और फिटनेस पर खास ध्यान दें। जिम नियमित जाएं। रोज आधा घंटे टहलना बहुत जरूरी है। अखरोट और बादाम जरूर खाएं। यह आपको हेल्दी रखने में मदद करेगा।
-इन दिनों मौसम में काफी उतार-चढ़ाव हो रहा है। ऐसे में सेहत प्रभावित होती है। सावधानी बरतें। खुली हवा में सिर और माथा ढंक कर निकलें। सुबह भरपेट नाश्ता करें, ताकि संक्रमण की आशंका कम हो। पानी की कमी से बचें। हल्का गुनगुना पानी पिएं। पौष्टिक आहार लें। भोजन में सूप, हरी सब्जियां, फल और ग्रीन टी शामिल करें। ये इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाने में सहयोग करते हैं। साफ-सफाई का ध्यान रखें।
-बदलते मौसम में खुद को बीमारियों की चपेट में आने से बचाने के लिए एक इंच ताजी गिलोय स्टिक को दो कप पानी में इतना उबालें कि आधा कप पानी बचे। इस पानी में एक चम्मच शहद मिलाकर रोज सुबह खाली पेट पिएं। गिलोय कुदरती रूप से इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाता है। साथ ही कई तरह के बुखार से लड़ने में शरीर की मदद करता है। इसके अलावा हर्बल टी पीएं। इसके लिए अदरक, तुलसी, सौंफ और लौंग डालकर चाय बनाएं, उसमें शहद मिलाकर पीयें। यह नैचरल इम्यून बूस्टर का काम करेगी।
-हल्दी, तुलसी और अदरक ये तीनों शाकाहारी भोजन में मौजूद सबसे ज्यादा ताकतवर एंटीबायोटिक हैं। ये आपके इम्यून सिस्टम को बढ़िया कर देंगे। इनका सेवन किसी भी रूप में नियमित रूप से करें। इसके अलावा संतरा, मौसमी आदि रसीले फलों में भरपूर मात्रा में मिनरल्स और विटमिन-सी होता है। फल एंटीऑक्सीडेंट होते हैं जो शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। इसलिए फलों को नियमित तौर पर सेवन करें। हालांकि, फल खरीदते समय उनकी क्वॉलिटी पर ध्यान दें, कटे-गले फल न लें।
-इस मौसम में हेल्दी डाइट और पर्याप्त नींद जरूरी है। नींद पूरी होने के बाद आप सुबह तरोताजा महसूस करेंगे। गाजर और टमाटर का उपयोग पर्याप्त मात्रा में करें। दोनों में बीटा कैरोटीन और दूसरे एंटीऑक्सीडेंट होते हैं, जो शरीर से टॉक्सिन्स को हटाने में मदद करते हैं।
-सर्दियां अब जाने वाली हैं और गर्मियां दस्तक देने वाली हैं, लेकिन गर्मियों का मौसम अभी आया नहीं है। इसलिए अभी से ठंडी चीजें खाना शुरू न कर दें। इस मौसम में साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखें। बदलते मौसम में एलर्जी व संक्रमण के कारण आप बीमार पड़ सकते हैं। ऐसे में अपने आसपास सफाई रखें। कई महिलाएं दिन में तेज धूप निकलते ही गर्मी के कपड़े पहन कर घूमने लगती हैं। लेकिन, बदलते मौसम में ऐसा नहीं करना चाहिए। इस मौसम में फुल स्लीव्स कपड़े जरूर पहनें, ताकि मच्छरों से बचाव हो सके
मौसम के साथ बदलें खान-पान

बीमारियों से बचने में खान-पान का बेहद अहम रोल होता है। बदलते मौसम में खानपान में भी बदलाव करना जरूरी है। डॉक्टरों का कहना है कि अक्सर बदलते मौसम में मूड स्विंग ज्यादा होता है। ऐसे में हमें खाने में कार्बाेहाइड्रेट ज्यादा लेना चाहिए। यह हमें मूड स्विंग और डिप्रेशन से दूर रखता है और दिल और दिमाग को अच्छा महसूस होता है। अंडे का सफेद वाला हिस्सा, टमाटर, चावल, गेहूं, सेब और ड्राइफ्रूट्स कुछ ऐसी चीजें हैं, जिसमें कार्बाेहाइड्रेट ज्यादा पाया जाता है।
विटमिन डी सबसे जरूरी
अक्सर आपने सुना होगा कि बहुत से लोग ऐसे होते हैं जो ज्यादा देर खड़े नहीं रह पाते या फिर ऐसे लोग जिनकी हड्डियां बेहद कमजोर होती हैं और जरा-सा गिरने पर टूट जाती हैं। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि उनमें विटमिन डी की कमी होती है। वैसे तो आज हर इंसान में विटामिन डी की कमी पाई जाती है लेकिन इसका अंतर सभी लोगों में अलग-अलग होता है। इसे आमतौर पर धूप से ही लिया जाता है, लेकिन अब इसके लिए कई दवाएं भी मौजूद हैं।
फल और सब्जियों का ज्यादा करें सेवन
बदलते मौसम में फल और सब्जियों का ज्यादा सेवन करना चाहिए। खासतौर पर हरी सब्जियों का। गाजर, मूली, टमाटर जैसी सब्जियां अधिक मात्रा में लेनी चाहिए क्योंकि इनमें एंटीऑक्सिडेंट तत्व होते हैं, जो शरीर में जमे तत्वों को बाहर निकालने में मदद करते हैं। इसके साथ ही फलों में भी सेहत का राज छिपा होता है, जो बॉडी को फ्रेश रखता है और शरीर को बीमारियों से बचाता है।
बीमार लोगों से दूर रहें
अगर आपकी खुद की तबीयत खराब है तो आप घर पर ही रहकर आराम करें या फिर वर्क फ्रॉम होम कर लें ताकि बाकी लोग बीमार पड़ने से बच जाएं। इसके अलावा अगर आप चेजिंग वेदर में इंफेक्शन से बचना चाहते हैं तो भीड़ भाड़ वाले इलाके में न जाएं। अगर कोई व्यक्ति पहले से ही सर्दी-जुकाम या बुखार से पीड़ित है तो उससे हाथ या गले मिलने से बचें और दूरी बनाकर रखें।

Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *