जानिए इस मसालेदार तेज पत्ते को खाने से हमारे शरीर को क्या अदभुत फायदे मिलते है

खबर शेयर करें

समाचार सच, अध्यात्म डेस्क। तेज पत्ता एक ऐसा मसाला है की जिसके बिना शायद ही कोई रसोई या खाना पूरा होता है। ये न केवल खाने के स्वाद को बढ़ा देता है बल्कि खाने की खुशबू भी दूर दूर तक फैला देता है। इसको अंग्रेजी में बेलीफ कहा जाता है। लेकिन ये पत्ता खाने के स्वाद को तो बढ़ाता ही है इसमें कई तरह के औषधीय गुण भी छिपे हुवे है जिनसे कई लोग बिलकुल ही अनजान है।

Ad

इसमें प्रचुर मात्रा में एंटी ऑक्सीडेंट, कॉपर ,पोटैशियम, कैल्शियम ,सेलेनियम और आयरन पाया जाता है। जिससे हमारे शरीर को बहुत ही फायदा मिलता है और ये हमारे शरीर को सुचारु रूप से चलाने में बहुत ही फायदा करता है। आज हम आपको बताएँगे की कैसे तेजपत्ता के प्रयोग से हम कई बीमारियों से बच सकते है तो आइये जानते है –

डायबिटीज के लिए
डायबिटीज एक ऐसी समस्या है जिससे इंसान धीरे धीरे मानसिक व शारीरक रूप से कमजोर होता चला जाता है इस बीमारी को साइलेंट किलर भी कहा जाता है। डायबिटीज एक जेनेटिक समस्या भी है। जिन लोगो को मधुमेह है उन्हें तेजपत्ते का जरूर सेवन करना चाहिए। क्योकि तेज पत्ता इस रोग में एक दवाई का काम करता है। तेज पत्ता ब्लड में शुगर लेवल को सही रखता है। टाइप 2 वाली शुगर में तेजपत्ता बहुत ही जायदा असर करता है। डायबिटीज रोगियों को तेजपत्ता पानी में उबालकर इस पानी का सेवन करना चाहिए या फिर इसे पानी में उबालकर पीना चाहिए। इससे शुगर कंट्रोल में रहती है।

यह भी पढ़ें -   रेस्टोरेंट में शराब पिलाने पर रेस्टोरेंट मालिक गिरफ्तार

ज्यादा नींद आना
कई लोगो को बहुत ज्यादा नींद आती है और हमेशा ही सुस्त बने रहते है उनकी नींद सात से आठ घंटे लगातार सोने पर भी नींद पूरी नहीं होती है ऐसे में अगर आप रात को पानी में भीगा हुवा तेजपत्ते वाला पानी पी ले तो आपको दिन में नींद नहीं आएगी।

पथरी के लिए फायदेमंद
आजकल के दूषित खानपान की वजह से किडनी या गुर्दे में पथरी होना स्वाभिविक है। अगर कोई व्यक्ति पथरी से परेशान है तो उसे तेजपत्ते का जरूर सेवन करना चाहिए। और इसके सेवन से पथरी का कटाव होता है जिससे आपको पथरी का दर्द नहीं होगा।

चहेरे को करे दाग धब्बांे से मुक्त
अगर आप अपने चहरे को दाग धब्बो से रहित व चमकाने के लिए कई तरह की क्रीम्स का प्रयोग करके थक गए है तो आप एक बहार तेज पत्ते का प्रयोग करके देखे। आपने तेजपत्ते को पानी में उबाल लेना है और इस पानी से आपने चहरे को अच्छे से धो लेना है इससे आपका चेहरा दाग धब्बो से रहित हो जायेगा और साथ ही टेनिंग की समस्या भी दूर हो जाएगी।

यह भी पढ़ें -   हल्द्वानी महानगर में उत्तर प्रदेश से लाई गयी करीब 51 लाख की स्मैक हुई बरामद, दो तस्कर गिरफ्तार

पेट को रखे दुरुस्त
अगर आपको पेट की समस्याएं जैसे पेट में गैस होना, जलन व कब्ज होना की समस्या हो तो आप तेजपत्ते का इस्तेमाल करे। इसके लिए आप एक तेज पत्ता व थोड़ी सी अदरक को दो कप पानी में तब तक उबालें जब तक वह आधा न रह जाए और फिर आप इस पानी को पी ले इससे आपके पेट में अपच की समस्या दूर हो जाएगी।

दांतो की करे सफाई
अगर आपके दांत पीले पड़ गए है तो आप तेजपत्ते को दांतो पर रगड़े इससे आपके दांत चमकने लगेंगे और आपको पीले दांतो की वजह से शर्मिंदा भी नहीं होना पड़ेगा।

माइग्रेन व सिरदर्द में फायदेमंद
कई लोगो को सिरदर्द की बहुत ही शिकायत रहती है इसे लिए आप तेजपत्ते का इस्तेमाल करे। क्योकि तेजपत्ते में एंटी इंफ्लेमेंटरी गुण पाए जाते है जो हमें दर्द से छुटकारा दिलाने में मदद करता है। इसके लिए आप तेजपत्ते के तेल का प्रयोग करे इसे कानो के पीछे लगा ले इससे रक्त संचार सही रूप से होता है और हमें सिरदर्द से मुक्ति मिल जाती है।

यह भी पढ़ें -   हल्द्वानी में पूर्व कैबिनेट मंत्री के होटल के गोदाम में लगी आग, मची अफरा तफरी

बालो के लिए बहुत ही फायदेमंद
अगर आपके बाल रूखे या बेजान हो गए हो तो आप तेजपत्ते को पानी में उबाल कर इस पानी से अपने सिर को धो ले इससे बाल चमकने लग जाते है और ये पानी कंडीशनर का काम करता है। अगर आपके बालो में रुसी है तो आप तेजपत्ता को पीसकर चूर्ण बना ले और इसे दही में मिलाकर बालो की जड़ो में लगाए इससे बालो में से रुसी चली जाएगी

सर्दी व फ्लू करे दूर
तेजपत्ते के सेवन से सर्दी फ्लू जैसे रोग भी दूर हो जाते है आप तेजपत्ते को पानी में डालकर इसकी भाप ले इससे आपको सर्दी जुकाम में बहुत ही आराम मिलेगा।

कैंसर को करे दूर
तेजपत्ते के सेवन से कैंसर जैसे रोग दूर होते है। क्योकि इसमें कफेन एसिड और एंटी ऑक्सीडेंट नामक तत्व पाए जाते है जिससे पेट से सम्बंधित कैंसर से मुक्ति मिल जाती है।

कपड़ों को कीड़ा नहीं लगता
अगर तेजपत्ते के कुछ पत्ते कपड़ो के बीच में रख दे तो इससे कपड़ो को कीड़ा नहीं लगता है।

Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *