नानकमत्ता चौहरे हत्याकांड का खुलासा: दोस्त ही निकला हत्यारा, जानिए क्या है पूरा मामला…

खबर शेयर करें

समाचार सच, खटीमा/नानकमत्ता। पुलिस ने सोमवार को उधमसिंह नगर जिले के नानकमत्ता में चौहरे हत्याकांड का खुलासा कर दिया है। इस हत्याकांड को अंजाम देने वाले तीन अपराधियो को गिरफ्तार किया है। जबकि एक आरोपी फरार है। पुलिस के अनुसार इस मामले में दोस्त ही मास्टर माइंड निकला है। उसने अपने साथियों के साथ मिल कर सर्राफ व्यापारी को लूटने के इरादे से इस वारदात को अंजाम दिया है। इधर सीएम पुष्कर सिंह धामी ने खुलसा करने वाली टीम को ढाई लाख रुपये का इनाक देने की घोषणा की है। साथ ही डीजीपी अशोक कुमार ने 1 लाख डीआईजी नीलेश आनन्द भरड़े 50 हजार व एसएसपी दिलीप सिंह कुंवर ने 25000 का ईनाम देने की घोषणा की है।

Ad

आपको बता दें कि विगत 29 दिसंबर को ऊधमसिंह नगर जिले के नानकमत्ता क्षेत्र में चौहरे मर्डर से क्षेत्र में सनसनी फैल गयी थी। पुलिस टीम इस मामले तत्परता दिखाते हुए जांच शुरु कर दी। इस दौरान पुलिस द्वारा सुराग पतारसी, पूछताछ व सर्विलांस की मदद से 20 टीमों का गठन किया गया। टीमों के गहनता से जांच पड़ताल कर मर्डर करने वाले रानू रस्तोगी, विवेक वर्मा, मुकेश वर्मा उर्फ राहुल को गिरफ्तार किया तथा घटना में प्रयुक्त वैगनार कार, लूटे गए 35 हजार रुपये व आलाकत्ल बरामद किया है।

यह भी पढ़ें -   किशोरी के साथ दुष्कर्म कर गर्भवती बनाने वाला आरोपी गिरफ्तार

आरोपियों से पूछताछ में पुलिस को पता चला कि मृतक अंकित रस्तोगी कबाड़ की दुकान में काम करता था, करीब एक माह पूर्व मृतक अंकित रस्तोगी ने 30 से 40 लाख रुपये लगाकर ज्वैलर्स की दुकान खोली थी। इस वारदात का मास्टर माइंड रानू रस्तोगी मृतक अंकित रस्तोगी का पारिवारिक मित्र था, जिसका घर पर आना-जाना लगा रहता था। आरोपी रानू रस्तोगी ने कुछ दिन पूर्व ही मृतक अंकित की दोस्ती सचिन सक्सेना से कराई थी, जो कि शातिर गैंगस्टर था। जिसके द्वारा अपने दो साथी विवेक वर्मा, मुकेश वर्मा के साथ मिलकर अपराधिक षडयंत्र रचकर 28 दिसंबर को लूट व डकैती के उद्देशय से मृतक अंकित रस्तोगी व उदित रस्तोगी को किसी बहाने से घर से बाहर ले गये और देवा नदी के किनारे ले जाकर लाठी डंडो से पिटाई कर उनका गला सर्जिकल ब्लैड से रेंतकर निर्मम हत्या कर दी। जिसके बाद अभियुक्तों ने लूट के उद्देशय से मृतक के घर जाकर उसकी मां आशा देवी व नानी सन्नो देवी की हसिये से गला रेंतकर मौत के घाट उतार दिया और दुकान से 40 हजार रुपये नगदी लूटकर फरार हो गए। आरोपियों के द्वारा दुकान में लॉकर खोलने व तोड़ने की भी कोशिश की गयी, जिसमें वह असफल रहे। इस चौहरे हत्याकांड का खुलासा करते हुए डीआईजी नीलेश आनन्द भरड़े तथा एसएसपी दिलीप सिंह कुंवर पत्रकारों को बताया कि इस मामले में पुलिस ने तीन अभियुक्तों को गिरफ्तार कर लिया है, जबकि अन्य फरार अभियुक्तों की तलाश जारी है।

यह भी पढ़ें -   उत्तराखण्ड में आप ने जारी की उम्मीदवारों की पहली सूची, जानिए कौन किस सीट से लड़ेगा चुनाव…

पूछताछ करने वाली टीम में सितारगंज कोतवाली प्रभारी प्रकाश सिंह दानू, एटीएचयू प्रभारी बसंती आर्या, नानकमत्ता थानाध्यक्ष के.सी. आर्या, अशोक कुमार, नीमा बोरा, मंजू पंवार, एसओजी चम्पावत से मतलूब खान, प्रकाश आर्या, प्रियंका कोरंगा, प्रिंयका शामिल रहीं। वहीं स्थानीय स्तर पर सुरागरसी व पतारसी करने वाली टीम में एसओजी प्रभारी कमलेश भट्ट, जावेद मलिक, बोबिन्दर, नवनीत, मोहित, आसिफ हुसैन, दिनेश चंद्र शामिल रहे। इसके साथ ही बाहरी जनपद से सुरागरसी पतारसी करने वालों में दिनेशपुर थानाध्यक्ष विनोद जोशी, लालपुर चौकी इंचार्ज पंकज कुमार, कुलदीप सिंह, ललित चौधरी शामिल रहे। सीडीआर विश्लेषण में कैलाश तोमक्याल व भूपेंद्र आर्या की महत्वपूर्ण भूमिका रही। सीसीटीवी खंगालने में आईटीआई थानाध्यक्ष विद्यादत्त जोशी, एडीटीएफ प्रभारी कमाल हसन, झनकईया थानाध्यक्ष दिनेश फर्त्याल, सितारगंज एसएसआई योगेश कुमार, शंकर बिष्ट, विजेन्द्र कुमार, सुरेन्द्र सिंह, पंकज महर, राजेश पांडे, कमल नाथ गोस्वामी, पंकज बिनवाल, नासिर, धर्मवीर, ललित कुमार, गणेश पांडे, नीरज शुक्ला, प्रमोद कुमार, विनोद, भूपेंद्र रावत, राजेन्द्र कश्यप, प्रभात चौधरी शामिल रहे। साथ ही पंचायतनामा भरने, साक्ष्य जुटाने व कार्यलेख करने वाली टीम में गिरीश चन्द्र, योगेन्द्र कुमार, ललित काण्डपाल, नरेद्र रोतेला, रमेश भट्ट, मोहन गिरी, देवेन्द्र, लोकेश तिवारी, सुरेश कुमार, राजेश कुमार, प्रकाश जोशी, कमला दुम्ताल, विद्या रानी, बीना, शिवन्ती, विनित, राजकुंवर, फालवर पूरन चन्द्र, राजकुमार शुक्ला, गुरमेज, मिल्खा, राजवती, गोविन्द आदि शामिल रहे।

यह भी पढ़ें -   कांग्रेस प्रदेश प्रवक्ता बल्यूटिया बोले-नई नजूल नीति अव्यवहारिक, हल्द्वानी के 12000 से भी अधिक परिवार होंगे प्रभावित

सीएम ने खोला दिल-टीम को ईनाम दिये ढाई लाख देने की घोषणा
प्रदेश के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने इस मामले का खुलासा करने वाली टीम को ढ़ाई लाख रुपये ईनाम देने की घोषणा की है। वहीं सीएम पुष्कर सिंह धामी ने मामले को गंभीरता से लेकर कार्यवाही करने वाले डीआईजी नीलेश आनंद भरणे व एसएसपी दलीप सिंह कुंवर को बधाई भी दी है। बताते चलें मुख्यमंत्री अचानक खटीमा पहुंचे थे, जहां उन्होंने चौहरे हत्याकांड में बेहतरीन कार्यवाही के लिए डीआईजी व एसएसपी को बधाई दी। साथ ही कार्यवाही करने वाली पुलिस टीम को ढ़ाई लाख रुपये ईनाम देने की घोषणा भी की।

Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *