ऑमीक्रॉन से लड़ने की क्षमता कम करेंगी रोज-मर्रा की ये चीजें, तुरंत इन आदतों को बदलें

खबर शेयर करें

समाचार सच, स्वास्थ्य डेस्क। कोविड-19 का ओमिक्रॉन वैरिएंट दुनिया भर में तेजी से फैल चुका है। भारत में भी ओमिक्रॉन से संक्रमितों की संख्या 1700 के पार पहुंच गई है. कोरोना से बचने के लिए मास्क लगाने, समय-समय पर हाथ साफ करने और सोशल डिस्टेंसिंग की सलाह दी जा रही है। लेकिन इसके अलावा भी सभी को प्रतिरक्षा प्रणाली यानी इम्यूनिटी भी इस वायरस से लड़ने में मददगार साबित होगी। आप अपनी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करके अपने आपको अंदर से भी स्ट्रॉन्ग बना सकते हैं।

Ad

यदि आप कोरोनावायरस के संपर्क में हैं, तो मजबूत प्रतिरक्षा प्रणाली उसके लक्षणों की गंभीरता कम कर सकती है और यहां तक कि कोविड-19 के विभिन्न वैरिएंट को मात देने में भी मदद कर सकती है. अगर आप इम्यूनिटी को बूस्ट करना चाहते हैं तो इम्यूनिटी बढ़ाने वाले फूड्स के साथ रोज-मर्रा की ऐसी चीजों से बचें, जो कि इम्यूनिटी को कमजोर करती हैं. आइए जानते हैं इनके बारे में-

बहुत कम फल और सब्जियों का सेवन
फल और सब्जियों का सेवन करना शरीर को संक्रमण से लड़ने के लिए आवश्यक सफेद रक्त कोशिकाओं को बनाने में मदद कर सकते हैं। फ्रेश फल और सब्जी जिंक, बीटा-कैरोटीन, विटामिन ए, सी, और ई जैसे कई पोषक तत्व से भरपूर होते हैं, जो हेल्थ के लिए काफी जरूरी होते हैं। वहीं, प्लांट बेस्ड फूड का सेवन करने से इम्यूनिटी को बढ़ाने में भी मदद मिलती है। इसलिए जो लोग इनका सेवन नहीं करते हैं, वे ताजा फल और सब्जियों का सेवन जरूर करें।

यह भी पढ़ें -   पेट की चर्बी से चाहिए छुटकारा तो डाइट में शामिल करें लहसुन का पानी, जानें फायदे और बनाने का सही तरीका

नींद की कमी
पर्याप्त नींद न लेने से आपके वायरस की चपेट में आने की संभावना अधिक हो जाती है और अगर आप एक बार वायरस की चपेट में आ गए तो रिकवर होने में भी काफी अधिक समय लग सकता है।
बैम्ड के मुताबिक, हमारा शरीर बीमारी से बचाव करने वाली और संक्रमण से लड़ने वाली कोशिकाओं और एंटीबॉडी नामक प्रोटीन का निर्माण नहीं कर सकता। इसलिए जिस समय आप सोते हैं, उस समय एक साइटोकिन्स नाम का प्रोटीन रिलीज होता है जो कि इम्यूनिटी को बढ़ाने में मदद करता है। वहीं, अगर आप पर्याप्त नींद नहीं लेते हैं, तो यह प्रोटीन रिलीज नहीं होता और इम्यूनिटी कमजोर हो जाती है। इसलिए कम से कम 7-8 घंटे की गहरी नींद जरूर लें।

यह भी पढ़ें -   खुलासा: नवीन मंडी की आढ़त से लाखों रुपये की नगदी उड़ाने वाले दो चोर चढ़े पुलिस के हत्थे

धूम्रपान करना
सिगरेट पीने, तंबाकू चबाने या किसी अन्य सोर्स से निकोटीन लेने से शरीर की कीटाणुओं से लड़ने की क्षमता कमजोर हो सकती है। जब आप उनका सेवन करते हैं तो इनमें मौजूद कैमिकल इम्यूनिटी रिस्पांस को दबाने लगते हैं। जिससे इम्यूनिटी कमजोर होने लग जाती है. इसलिए जितना हो सकते इनसे दूर रहें।

हाई फैट डाइट
हाई फैट डाइट में मौजूद तेल, रोगाणु से लड़ने वाली सफेद रक्त कोशिकाओं को बनाने में बाधा उत्पन्न कर सकते हैं। वहीं समय के साथ हाई फैट डाइट आपकी आंत में बैक्टीरिया के संतुलन को बिगाड़ सकते हैं, जो इम्यूनिटी रिस्पांस में मदद कर सकते हैं। इसलिए हाई फैट वाले फूड की अपेक्षा कम फैट वाली डेयरी जिसमें कोई एक्स्ट्रा शुगर न हो उनके साथ लीन प्रोटीन जैसे समुद्री भोजन टर्की, चिकन या अंडे का सेवन कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें -   कांग्रेस प्रदेश प्रवक्ता बल्यूटिया बोले-नई नजूल नीति अव्यवहारिक, हल्द्वानी के 12000 से भी अधिक परिवार होंगे प्रभावित

कम विटामिन डी
मजबूत हड्डियों और हेल्दी कोशिकाओं के लिए विटामिन डी की आवश्यकता होती है और वो विटामिन डी आपके इम्यून सिस्टम को बूस्ट करने में भी मदद करता है। इसके लिए अंडे, फैट वाली मछली, दूध और अनाज जैसे खाद्य पदार्थों से भी विटामिन डी प्राप्त कर सकते हैं।
वहीं विटामिन डी के लिए धूप में बैठना भी सबसे अधिक फायदेमंद है। जो लोग कम धूप लेते हैं उनकी भी इम्यूनिटी कम होती है।

चिंता
तनाव और चिंता से आपकी इम्यूनिटी कम से कम 30 मिनट में कमजोर हो सकती है। लगातार तनाव से फ्लू, दाद और अन्य वायरस से बचाव करना कठिन बना देता है। यदि आप अपनी चिंता को कम नहीं कर पा रहे हैं तो योग करें या फिर मेडिटेशन करें। नहीं तो इम्यूनिटी लगातार कम होती जाएगी।

Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *