नम आंखों से दी शहीद जगेंद्र को श्रद्धांजलि, हरिद्वार स्थित घाट पर किया गया शहीद के पार्थिव शरीर का अंतिम संस्कार

खबर शेयर करें

समाचार सच, देहरादून। सियाचिन ग्लेशियर में पेट्रोलिंग के दौरान शहीद होने वाले कान्हर वाला भानियावाला निवासी जगेंद्र सिंह चौहान को सैकड़ों की संख्या में एकत्र लोगों ने नम आंखों से श्रद्धांजलि दी। हरिद्वार स्थित घाट पर शहीद के पार्थिव शरीर का अंतिम संस्कार किया गया।

आपको बता दें कि आपकों को बता दें कि 20 फरवरी को बलिदानी जगेंद्र सिंह चौहान सियाचिन में ड्यूटी में गश्त करने के दौरान ग्लेशियर टूटने से चोटिल हो गए थे। जिनका अस्पताल में उपचार के दौरान 21 फरवरी को निधन हो गया था। शहीद का पार्थिव शरीर आज शुक्रवार सुबह 8.30 बजे उनके आवास में पहुंचा। शहीद का पार्थिव शरीर घर में पहुंचते ही परिवार से लेकर गांव तक के लोगों का रो रो कर बुरा हाल हो गया।

यह भी पढ़ें -   चारधाम यात्रा पर आने वाले श्रद्धालुओं की मौत का सिलसिला जारी, दो तीर्थयात्रियों की हृदय गति रूकने से मौत

इस मौके पर सरकार की ओर से प्रतिनिधि के रूप में आए कैबिनेट मंत्री गणेश जोशी व कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष गणेश गोदियाल ने शहीद को नमन किया। शुक्रवार को बलिदानी जगेंद्र सिंह चौहान का पार्थिव शरीर उनके आवास पर कान्हरवाला डोईवाला लाया गया, जहां पर सेना की ओर से सलामी देने के बाद शहर वासियों की ओर से बलिदानी के पार्थिव शरीर को उनके आवास से लेकर भानियावाला तिराहे तक अपने कंधों में उठाकर ले जाया गया और भारत माता की जय, शहीद जगेंद्र सिंह अमर रहे के नारों के बीच अंतिम विदाई दी गई। इसके बाद शहीद के पार्थिव शरीर को हरिद्वार स्थित घाट पर ले जाकर अंतिम संस्कार किया गया।

यह भी पढ़ें -   गर्मियों में खूब खाएं आम, सेहत को होंगे ये अनमोल फायदे

शहीद की अंतिम यात्रा में मुख्य रूप से तहसीलदार सुशील सैनी, उपनिरीक्षक मुकेश डिमरी, पूर्व प्रधान नरेंद्र सिंह नेगी, मनवीर सिंह बिष्ट, गौरव सिंह, ब्रज भूषण गैरोला, मनोज नौटियाल, ईश्वर रौथान, मोहित उनियाल, दिनेश सजवाण, विनय कंडवाल, सुखदेव चौहान, सागर मनवाल आदि सैकड़ों ग्रामीण मौजूद रहे।

सबसे पहले ख़बरें पाने के लिए -

👉 हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

👉 फेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज़ लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल सबस्क्राइब करें

हमसे संपर्क करने/विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें - +91 70170 85440

Leave a Reply

Your email address will not be published.