उत्तराखंड को मिलेगा केंद्र सरकार के बजट का बहुत बड़ा लाभ : पीएम मोदी

Ad - Harish Pandey
Ad - Swami Nayandas
Ad - Khajaan Chandra
Ad - Deepak Balutia
Ad - Jaanki Tripathi
Ad - Asha Shukla
Ad - Parvati Kirola
Ad - Arjun-Leela Bisht
खबर शेयर करें

श्रीनगर गढ़वाल की जनता से प्रधानमंत्री बोले- उत्तराखंड के लोगो ने हमेशा सजग प्रहरी की तरह देश की रक्षा की

समाचार सच, श्रीनगर गढ़वाल/देहरादून। देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने श्रीकोट (श्रीनगर) में दिवंगत सीडीएस जनरल बिपिन रावत स्टेडियम में विजय संकल्प सभा में अपने 31 मिनट के संबोधन में कांग्रेस को निशाने पर रखा।

उन्होंने कहा कि उत्तराखंड में प्राकृतिक खेती को बढ़ावा मिलेगा। बजट में किसानों के लिए कई ऐतिहासिक योजनाएं की गई हैं। गढ़वाली बोली में अपना संबोधन शुरु करते हुये प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि मेरा मन उत्तराखंड में रहता था। पिछले लोकसभा में खुद का चुनाव होने के बावजूद मुझे बाबा केदार ने बुलाया और मैं चला आया था। उन्होंने कहा की केंद्र की योजनाओं का उत्तराखंड प्रदेश में लाभ मिलेगा। उत्तराखंड में ऐसे लोग सत्ता में न आ जाएं जो केंद्र की योजना को पहुंचने न दें। जनता 14 तारीख को मतदान के दिन बेईमानी और भ्रष्टाचार को रोके। परिवारवाद और संप्रदाय वाद को ब्लॉक कर दें। प्रधानमंत्री ने आल वेदर रोड और ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेल लाइन को उत्तराखंड के लिए बड़ी उपलब्धि बताया। प्रधानमंत्री ने कहा की प्रदेश के अलग अलग हिस्सों में हेली सर्विस शुरू की जा रही है। उत्तराखंड को केंद्र सरकार के बजट का बहुत बड़ा लाभ मिलेगा। उत्तराखंड के पहाड़ी जिलों के लिए बजट में पर्वतमाला योजना की घोषणा। पहाड़ों में आवागमन के लिए रोपवे सुविधा का निर्माण होगा। प्रदेश के सीमांत इलाकों को कांग्रेस में जान बूझकर विकास से दूर रखा, उन इलाकों के लिए वाइब्रेंट योजना शुरू होगी। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, देवभूमि का विकास, आस्था, संस्कृति का संरक्षण भाजपा का संकल्प। केदार धाम में पुनर्निर्माण कार्य 2017 मे शुरू किए, ज्यादातर पूरे हो चुके। बदरीनाथ धाम के विकास के लिए भी कई सौ करोड़ की योजना।

यह भी पढ़ें -   आज दिनांक १७ अगस्त बुधवार का पंचांग

प्रधानमंत्री ने कहा पांच साल में डबल इंजन सरकार ने इतना काम किया कि ब्रेक लगाने वालों को भी अब वही वादे करने पड़ रहे हैं। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा केंद्र और राज्य में कांग्रेस की सरकार थी, तब उत्तराखंड को डबल ब्रेक लगाकर पीछे धकेला गया। कांग्रेस सिर्फ ब्रेक लगाना जानती है। 2014 में एक ब्रेक हटा केंद्र में भाजपा आई और 2017 में दूसरा ब्रेक हटा, उत्तराखंड में भी भाजपा आई। डबल इंजन की सरकार आते ही उत्तराखंड तेजी से विकास की पटरी पर दौड़ने लगा। प्रधानमंत्री ने कहा की भाजपा देहरादून में सैनिक सम्मान में सैन्य धाम बना रही है। उत्तराखंड में सदियों से चारधाम हैं, लेकिन अब पांचवां धाम भी है, सैन्य धाम। उत्तराखंड बनाने का संकल्प यहां के लोगों ने और भाजपा ने मिलकर पूरा किया। दुर्भाग्य से कई साल उत्तराखंड की कमान उनके हाथ में रही, जिन्होंने उत्तराखंड को अस्तित्व में आने से रोका था। प्रधानमंत्री ने कहा की कांग्रेस की सोच सत्ता के सुख तक सीमित, वे बलिदान और त्याग को नही समझ सकते। वन रैंक, वन पेंशन पर कांग्रेस ने झूठ बोला, भाजपा ने कर दिखाया।

यह भी पढ़ें -   आखिर कब है जन्माष्टमी? 18 या 19 अगस्त, जानिए तारीख

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा की कांग्रेस ने सेना से सबूत मांगे। इन्होंने जनरल रावत को सीडीएस बनाने पर विरोध किया। उन्हें सड़क का गुंडा तक कहा। आज वोट के लिए जनरल रावत के नाम का सहारा ले रहे हैं। कांग्रेस को जवाब देने की जिम्मेदारी उत्तराखंड के लोग की है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुये कहा की जनरल रावत का फोटो लगाकर प्रचार कर रही कांग्रेस हमेशा सेना पर सवाल उठाती रही है। उन्होंने कहा की उत्तराखंड के लोगो ने हमेशा सजग प्रहरी की तरह देश की रक्षा की है। स्व जनरल बिपिन रावत को याद कर भावुक हुए। उन्होंने कहा की उत्तराखंड के वासियों में हिमालय जैसी हिम्मत और सोच। प्रधानमंत्री ने सीडीएस स्व जनरल बिपिन रावत का स्मरण किया। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा की पिछले लोकसभा में खुद का चुनाव होने के बावजूद मुझे बाबा केदार ने बुलाया और मैं चला आया था। इसका कारण देवभूमि के प्रति मेरी भक्ति, ये देवभूमि है और वीरभूमि भी है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जनसभा के लिए श्रीनगर पहुंचे। राज्य विधानसभा चुनाव में यह उनकी पहली जनसभा है। इससे पहले दो सभाओं को प्रधानमंत्री वर्चुअल माध्यम से संबोधित कर चुके हैं।

सबसे पहले ख़बरें पाने के लिए -

👉 हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

👉 फेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज़ लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल सबस्क्राइब करें

हमसे संपर्क करने/विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें - +91 70170 85440

Leave a Reply

Your email address will not be published.