Vivha Muhurut

चैत्र शुक्ल पक्ष की षष्ठी 18 अप्रैल को उदय होंगे शुक्र तारा

खबर शेयर करें

मांगलिक कार्यों में शुभ मुहूर्त का विशेष महत्व

समाचार सच, देहरादून/हल्द्वानी। डॉक्टर आचार्य सुशान्त राज ने जानकारी देते हुये बताया की विवाह जैसे मांगलिक कार्यों में शुभ मुहूर्त का विशेष महत्व होता है। ज्योतिष गणना के अनुसार, शादी-विवाह के लिए कुछ शुभ तिथियों तय की गई हैं। हिंदू पंचांग में विवाह के लिए कुछ तिथियों को बेहद उत्तम माना जाता है। वहीं कुछ तिथियों पर मांगलिक कार्यों पर रोक होती है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, खरमास, मलमास, गुरु व शुक्र तारा का अस्त होना और देवशयनी पर मांगलिक कार्य वर्जित होत हैं। विवाह के लिए शुभ मुहूर्त अप्रैल महीने से शुरू होंगे। हिंदू पंचांग के अनुसार, चैत्र शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि यानी 22 अप्रैल से मांगलिक कार्य शुरू होंगे।
डॉक्टर आचार्य सुशान्त राज ने बताया की शुक्र तारा का उदय होना मांगलिक कार्यों के लिए महत्वपूर्ण होता है। शुक्र तारा माघ शुक्ल पक्ष की तृतीया यानी 14 फरवरी 2021 को अस्त हुए थे, जो कि चैत्र शुक्ल पक्ष की षष्ठी यानी 18 अप्रैल 2021 को उदय होंगे।
विवाह मुहूर्त-
अप्रैल – 22, 24, 25, 26, 27, 28, 29, और 30
मई – 1, 2, 7, 8, 9, 13, 14, 21, 22, 23, 24, 25, 26, 28, 29 और 30
जून – 3, 4, 5, 16, 20, 22, 23, और 24
जुलाई – 1, 2, 7, 13 और 15
नवंबर – 15, 16, 20, 21, 28, 29 और 30
दिसंबर – 1, 2, 6, 7, 11 और 13

सबसे पहले ख़बरें पाने के लिए -

👉 हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

👉 फेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज़ लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल सबस्क्राइब करें

हमसे संपर्क करने/विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें - +91 70170 85440

Leave a Reply

Your email address will not be published.