sinesh

किस वजह से होता है साइनस? जानें इस समस्या से बचने के आसान घरेलू उपाय

खबर शेयर करें

समाचार सच, स्वास्थ्य डेस्क। साइनस एक ऐसी बीमारी है जिसमें साँस लेने में तकलीफ, आवाज में बदलाव, तेज़ सिरदर्द, बलगम आना जैसे लक्षण देखने को मिलते हैं। सर्दियों में साइनस की समस्या बढ़ जाती है। कई लोग साइनस के लिए दवाइयां लेते हैं लेकिन इस बीमारी को घरेलू उपचारों की मदद से भी ठीक किया जा सकता है। आज के इस लेख में हम आपको ऐसे घरेलू नुस्खे बताने जा रहे हैं जो साइनस से छुटकारा दिलाने में आपकी मदद करेंगे –

क्या है साइनस
साइनस विशेष तरह का दर्द है, लेकिन इसे सामान्य दर्द की तरह समझा जाता है और इसका इलाज भी उसी तरह से किया जाता है। यही कारण है की यह बढ़ता चला जाता है। शुरुआत में साइनस का दर्द बिल्कुल माइग्रेन की तरह लगता है, लेकिन ध्यान से देखा जाये तो साइनस और माइग्रेन के दर्द अलग-अलग होते है। जब चेहरे पर स्थित साइनस कैविटीज से जुडे़ टिशूज में सूजन आ जाती है तो इसे ही साइनस या साइनोसाइटिस कहते हैं। आम भाषा में कहें तो जिसमें आपकी श्वास नली में सूजन आ जाती है या नाक की हड्डी बढ़ जाती है और सांस लेने में दिक्कत होती है। साइनस का दर्द चेहरे के अगले हिस्से मसलन गले, नाक, आंखों के आसपास के हिस्से और गालों में होता है। इससे सिर भारी-भारी सा लगता है और बोलते समय आवाज भी साफ नहीं निकलती।

यह भी पढ़ें -   हर घर झंडा योजना के अन्तर्गत पूर्वोत्तर रेलवे के अधिकारी तथा कर्मी अपने घरों पर फहरायेंगे तिरंगा

साइनस के कारण
साइनस का मुख्य कारण साइनस के अंदर की चिपचिपी झिल्ली में सूजन आ जाना है। साइनस की झिल्ली में सूजन की कई सारी वजहें हैं, मसलन नाक की हड्डी का टेढ़ा होना या फिर नाक की हड्डी बढ़ जाना, बढ़ता हुआ प्रदूषण, धूल मिट्टी से एलर्जी, दांतों में दर्द, दूषित पानी का सेवन आदि, जो साइनस की वजह बन जाते हैं।

मास्क पहनकर बाहर निकलें
ठंड के मौसम में बाहर निकलते समय मास्क पहनें और अपना चेहरा ढँक लें क्योंकि धूल, प्रदूषक और एलर्जी साइनस की समस्या को बढ़ा सकते हैं।

स्टीम
साइनस के दर्द के इलाज का सबसे आसान व प्रभावी घरेलू उपाय है स्टीम। स्टीम नाक के मार्ग को खोलने में मदद करती है। साथ ही इससे साइनस प्रेशर भी कम होता है। स्टीम लेने के लिए पहले आप एक बर्तन में पानी डालकर उसे उबालें और अब उस बर्तन के उपर अपना मुंह रखें। इसके बाद आप अपने सिर के उपर तौलिया रखें। साथ ही यह भी सुनिश्चित करें कि भाप आपके नाक के रास्ते भीतर जाए।

हाथों को धोएं
खाने से पहले और बाहर से आने के बाद अपने हाथों को अच्छी तरह धोएं ताकि मुंह में कीटाणु ना घुसें और सर्दी-जुकाम ना हो।

गर्म तरल पदार्थ का सेवन
अगर आप साइनस से बचना चाहते हैं तो खुद को हाइडेटेड रखें। इसके लिए आप गुनगुने पानी, कॉफी, चाय या फलों के रस का सेवन करें। गर्म तरल पदार्थों का सेवन करने से नाक आसानी से खुल जाती है।

यह भी पढ़ें -   7.04 ग्राम स्मैक के साथ पुलिस ने दो युवकों को किया गिरफ्तार

नाक का स्प्रे
नाक का स्प्रे साइनस के इलाज के लिए बेहद प्रभावी होता है। इसके लिए आप पानी में थोड़ा नमक और बेकिंग पाउडर मिलाएं और एक स्प्रे बोतल में भरकर नाक में डालें। आप इस नाक के स्प्रे का इस्तेमाल दिन में दो से तीन बार कर सकते हैं।

संतुलित आहार
साइनस की समस्या से बचने के लिए ताजे फल, सब्जियों और साबुत अनाज से भरपूर संतुलित आहार लें। प्रोसेस्ड, जंक और तैलीय खाद्य पदार्थों से बचें क्योंकि यह साइनस की समस्या पैदा कर सकते हैं। इसके साथ ही शराब और धूम्रपान से दूरी बनाकर रखें।

वार्म कंप्रेस
वार्म कंप्रेस साइनस के दर्द व प्रेशर से राहत पाने का एक प्रभावी उपाय है। इसके लिए आप एक तौलिए को गर्म पानी में डिप करें। अब इसे हल्का सा निचोड़कर अपने नाक व चीक्स के उपर रखें। इससे आपको काफी राहत महसूस होगी।

दालचीनी
एक चम्मच दालचीनी पाउडर और चंदन पाउडर पानी में मिला लें। इस पेस्ट को अपने माथे पर लगाएं। ऐसा करने से आपको बंद नाक और सिरदर्द से जल्द राहत मिलेगी।

सबसे पहले ख़बरें पाने के लिए -

👉 हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

👉 फेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज़ लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल सबस्क्राइब करें

हमसे संपर्क करने/विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें - +91 70170 85440

Leave a Reply

Your email address will not be published.