Gilye

बुखार में सबसे कामगार साबित हो रही है गिलोय

खबर शेयर करें

समाचार सच, अध्यात्म डेस्क। कोराना से बचने और इम्यून सिस्टम को स्ट्रॉन्ग बनाने के लिए आप गिलोय का भरपूर मात्रा में सेवन कर सकते हैं। आयुर्वेदिक जड़ी बूटी के तौर पर इस्तेमाल की जाने वाली गिलोय को अमृता के रूप में भी जाना जाता है। जी हां अमृत के नाम से जानी जाने वाली यह जड़ी बूटी इम्यून सिस्टम को बढ़ाने के साथ कई रोगों से निजात दिलाने में भी कारगार सिद्ध होता है और आपको स्वस्थ रखता है। तो आइए जानते हैं क्या है गिलोय और इसके चौंका देने वाले फायदे जो आपको रखते हैं बीमारियों से कोसो दूर। गिलोय के फायदे कई हैं गिलोय एक लाभकारी और गुणकारी औषधि होती है जिसके कई सारे लाभ होते हैं। गिलोय का प्रयोग चूर्ण की तरह, जूस की तरह, पेस्ट की तरह या काढ़े के रूप में किया जाता है।
क्या है गिलोय
गिलोय एक कभी ना सूखने वाला पौधा है। इसका तना रस्सी की तरह होता है और इसके पत्ते पान के आकार के होते हैं। इसके साथ ही इसमें पीले और हरे रंग के फूल गुच्छे में निकलते हैं कहा जाता है कि नीम पर चढ़ी गिलोय अधिक फायदेमंद होती है। क्योंकि गिलोय एक ऐसा पौधा है जिस पेड़ पर इसकी लतें लगती हैं यह उसके भी गुण ले लेता है।
गिलोय के फायदे –
बुखार

गिलोय लंबे समय से रहने वाले बुखार के साथ बदलते मौसम के साथ होने वाली बीमारियों को दूर करने के लिए जादुई उपाय है। यह डेंगु मलेरिया और स्वाइन फ्लू जैसी खतरनाक बीमारियों के लिए औषधि का काम करता है। इसके साथ ही यह बुखार के दौरान आपके प्लेटलेट्स और रेड ब्लड सेल्स को बढ़ाने में कारगार साबित होता है। इसका रोजाना सेवन कर डेंगु मलेरिया और वायरल बुखार से बचा जा सकता है।
इम्यूनिटी बूस्टर
गिलोय को इम्यूनिटी बूस्टर के नाम से भी जाना जाता है। गिलोय में ऐसे गुण पाए जाते हैं जो इम्यून सिस्टम को स्ट्रॉन्ग बनाने में कारगार साबित होते हैं। रोजाना गिलोय का सेवन कर आप कई बीमारियों से निजात पाने के साथ इम्यून सिस्टम को स्ट्रॉन्ग बना सकते हैं।
तनाव से दिलाए निजात
आजकल की भागदौड़ भरी और कशमकश भरी जिंदगी में पता नहीं चलता कि कब तनाव हम पर हावी हो जाता है। ऐसे में आप गिलोय का सेवन कर इस समस्या से छुटकारा पा सकते हैं। गिलोय तनाव को कम करने में मदद करता है। गिलोय में ऐसे गुण पाए जाते हैं जो शरीर से टॉक्सिन यानि विषाक्त पदार्थों को निकालने में मदद करते हैं। जिससे आपका दिमाग शांत रहता है और तनाव से मुक्ति मिलती है। आप इसका रोजाना सेवन कर इसका लाभ उठा सकते हैं।
गठिया के रोगियों के लिए बेहद फायदेमंद
गिलोय में गठिया विरोधी गुण पाया जाता है जो गठिया के इलाज में मदद करता है। यदि आप गठिया से पीड़ित हैं तो आप रोजाना गिलोय का सेवन कर इस बीमारी से निजात पा सकते हैं। इसमें सूजन को कम करने के साथ जोड़ों में दर्द को कम करने के कई गुण पाए जाते हैं जो आपको इस बीमारी से निजात दिलाने के लिए रामबांण सिद्ध होता है।
डायबिटीज टाइप-2 मरीजों के लिए बेहद फायदेमंद
गिलोय डायबिटीज के रोगियों के लिए रामबांण सिद्ध होता है। गिलोय ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल करने के लिए बेहद फायदेमंद माना जाता है। गिलोय ग्लूकोज के स्तर को कम करने के साथ ब्लड शुगर लेवल को भी कम करता है। यह ब्लड शुगर टाइप 2 मरीजों के लिए बेहद फायदेमंद है इस स्थिति में शरीर का इंसुलिन लेवल बढ़ जाता है जिससे ब्लड शुगर बढड जाता है। ऐशी स्थिति में आप गिलोय का रोजाना सेवन कर इस समस्या से निजात पा सकते हैं।
अस्थमा के मरीजों के मरीजों को करता है ठीक
आजकल सांस से संबंधित अस्थमा और दमा से पीड़ित मरीजों की संख्या में तेजी से इजाफा हो रहा है। इस अवस्था में गिलोय का सेवन आपको इस बीमारी से छुटकारा दिला सकता है। इस दौरान आप गिलोय की जड़ को चबा सकते हैं और इसको पानी में उबालकर पी सकते हैं जो आपको इस समस्या से निजात दिलाने में सहायक साबित होगा।
पाचनतंत्र को बनाता है मजबूत
गिलोय इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाने के साथ हमारे पाचन क्रिया को भी मजबूत बनाता है। गिलोय का रोजाना सेवन आपको गैस, कब्ज आदि पेट संबंधी समस्याओ से निजात दिलाता है। पाचन संबंधी समस्याओं को दूर करने के लिए आप बाजार से महंगी दवाईयों के बजाए गिलोय का सेवन कर सकते हैं। रोजाना इसका सेवन हमारे पाचन शक्ति को मजबूत बनाता है।

गिलोय के फायदे
-गिलोय इम्यूनिटी बढ़ाने में कारगर होता है। शरीर में कमजोर इम्यूनिटी के कारण होने वाली कई बीमारियों को इम्यूनिटी स्ट्रांग करके होने से रोका जा सकता है। सर्दी-खांसी, जुकाम आदि रोग कमजोर रोग प्रतिरोधक क्षमता (इम्यूनिटी) के कारण ही होते हैं।
-गिलोय एसिडिटी की परेशानी ठीक करता है, गिलोय के 10-20 मिली रस के साथ गुड़ और मिश्री का सेवन करने से एसिडिटी में लाभ मिलता है।
-गिलोय त्वचा पर मौजूद चकत्ते, कील-मुंहासे आदि को दूर करने में सहायक होता है। गिलोय के तने का पेस्ट सीधे प्रभावित हिस्से पर लगाने से लाभ मिलता है।
-गिलोय डायबिटीज के लिए फायदेमंद होता है। टाइप 2 डायबिटीज रोगियों को गिलोय का सेवन करने से लाभ मिलता है। गिलोय ब्लड शुगर को अच्छे से कंट्रोल करता है।
-गिलोय हिचकी को रोकने में भी कारगर होता है। गिलोय एवं सोंठ के चूर्ण की चटनी बना, इसे दूध में मिलाकर पिलाने से हिचकी आना बंद हो जाती है।
-गिलोय का जूस गठिया और जोड़ों के दर्द से परेशान लोगों के लिए काफी लाभकारी होता है क्योंकि गिलोय में एंटी-आर्थराइटिस गुण पाए जाते हैं। दो से तीन चम्मच गिलोय जूस को एक कप पानी में मिलाकर सुबह खाली पेट लेने से गठिया और जोड़ों के दर्द में राहत मिलती है।
-गिलोय का सेवन सामान्य मौसमी बुखार, डेंगू, फ्लू, और मलेरिया आदि में भी राहत पहुंचाता है। गिलोय ब्लड प्लेटलेट्स को बढ़ाने में कारगर होता है इसीलिए डॉक्टर दवाइयों के साथ-साथ गिलोय का जूस पीने की भी सलाह देते हैं।
-गिलोय और शहद का प्रयोग कफ की बीमारी को कम करने में सहायक होता है।
-गिलोय पाचन सही रखना और पेट से संबंधित समस्या का भी समाधान करता है। अतिविषा, अदरक की जड़ और गिलोय को उबालकर, काढ़ा बना कर थोड़ा-थोड़ा पीने से पेट से संबंधित परेशानियाँ दूर होती हैं।
-गिलोय वजन कम करने में भी सहायक है। गिलोय के एक चम्मच रस में एक चम्मच शहद मिलाकर सुबह और शाम पीने से वजन कम किया जा सकता है।
-बवासीर में गिलोय के फायदेमंद होता है। गिलोय, हरड़ तथा धनिया को बराबर भाग (20 ग्राम) में लेकर आधा लीटर पानी में गर्म करें, जब यह एक चौथाई रह जाये तो खूब खौलाकर काढ़ा बना लें। इस काढ़े में गुड़ डालकर सुबह और शाम इसका सेवन करने से बवासीर की बीमारी में लाभ होता है।
-गिलोय का सेवन पीलिया में भी फायदेमंद होता है। गिलोय के 20-30 पत्तों को अच्छे से पीसकर पेस्ट बना लें, और एक ग्लास में ताजी छांछ लेकर उसमें मिला लें, इसके बाद दोनों को छानकर रोगी को दें, इससे रोगी को राहत मिलेगी।
-गिलोय आँखों की रौशनी बढ़ाने में भी कारगर होता है। गिलोय के रस में त्रिफला मिलाकर काढ़ा बना लें। 10-20 मिली काढ़े में एक ग्राम पिप्पली चूर्ण व शहद मिलाकर सुबह और शाम, इस काढ़ें का सेवन करने से आँखों की रौशनी बढ़ जाती है।

गिलोय को लेकर सावधानियां
यदि आपको रोजाना गिलोय के सेवन से कुछ परेशानियां हो रही हों तो आप डॉक्टर के सुझाव के बाद इसका सेवन करें। इसके साथ ही गर्भवती महिला को इसका सेवन नहीं करना चाहिए।

सबसे पहले ख़बरें पाने के लिए -

👉 हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

👉 फेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज़ लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल सबस्क्राइब करें

हमसे संपर्क करने/विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें - +91 70170 85440

Leave a Reply

Your email address will not be published.