घर में शीशा या कांच का टूटना हमेशा अशुभ नहीं होता, मिलते हैं ये पॉजिटिव संकेत

खबर शेयर करें

समाचार सच, अध्यात्म डेस्क। शुभ-अशुभ को लेकर कुछ बातें हमें बचपन से इतनी ज्यादा बार बतायी जाती हैं कि उसके पीछे का कारण जाने बिना ही हम भी उसे मानने लगते हैं और अगली पीढ़ी को भी वही सिखाने लगते हैं। उदाहरण के लिए- बिल्ली का रास्ता काटना, आंख फड़कना, घर से निकलते वक्त छींक आना, कुत्ते का रोना और दूध का उबलकर गिरना- इन सभी घटनाओं को अपशकुन और अशुभ का संकेत माना जाता है। इसी लिस्ट में कांच का टूटना भी शामिल है। बड़ी संख्या में लोग यही मानते हैं कि अगर घर में रखा कोई कांच या शीशा टूट जाता है तो वह अशुभ घटना है और इससे निकट भविष्य में कोई बुरी सूचना मिल सकती है।

वास्तु अनुसार कांच का टूटना अशुभ नहीं शुभ है

  • वास्तु शास्त्र की मानें तो अगर घर में लगा शीशा या आइना अचानक से टूट जाए तो इसका मतलब है कि घर पर आने वाले किसी संकट को शीशे ने अपने उपर ले लिया है और बला टल गई है और टूटे कांच को तुरंत घर से बाहर कर देना चाहिए।
  • घर में अगर खिड़की या दरवाजे का कांच अचानक टूट जाए या उसमें दरार आ जाए तो यह अपशकुन नहीं होता बल्कि इस बात का संकेत हो सकता है कि कुछ ही दिनों बाद आपके घर में कोई शुभ समाचार आने वाला है या धन का आगमन होने वाला है।
  • वास्तु के शास्त्र की मानें तो अचानक कांच या शीशे के टूटने का मतलब ये भी हो सकता है कि घर में चला आ रहा कोई पुराना गतिरोध या विवाद समाप्त हो जाए या कोई व्यक्ति बीमार है तो धीरे-धीरे उनकी सेहत ठीक होने लगे।
  • हालांकि इस बात का ध्यान जरूर रखें कि अगर घर में रखा कोई भी कांच या शीशा टूट जाता है तो उसे लेकर बेवजह का शोर या हो-हल्ला मचाने की बजाए, चुपचाप कांच के टुकड़ों को साफ करके घर के बाहर फेंक दें।
  • वास्तु शास्त्र के अनुसार शीशा या आइना खरीदते वक्त इस बात का भी ध्यान रखें कि घर में गोल या फिर अंडाकार आकार का शीशा न रखें. ऐसा आइना घर की सकारात्मक ऊर्जा को नकारात्मक ऊर्जा में बदल देता है। इसलिए जहां तक संभव हो चौकोर आकार का ही आइना घर में लगाएं।

सबसे पहले ख़बरें पाने के लिए -

👉 हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

👉 फेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज़ लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल सबस्क्राइब करें

हमसे संपर्क करने/विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें - +91 70170 85440

Leave a Reply

Your email address will not be published.