अक्सर तीस के बाद महिलाओं की हड्डियां होने लगती है कमज़ोर, जाने कैसे बचें

Ad
Ad
खबर शेयर करें

समाचार सच, अध्यात्म डेस्क। ऑस्टियोपोरोसिस वो कंडीशन है जिसमे हड्डियों की डेंसिटी कम होने लगती है। यह एक गंभीर स्वास्थय सम्बन्धी परेशानी है जो महिलाओं में अक्सर देखा जाता है। बढ़ती उम्र के साथ आपकी हड्डियाँ कमजोर होती जाती हैं, और आपका शरीर किसी आम चोट से आसानी से ठीक नहीं हो पाता है। हड्डियों की डेंसिटी में कमी आना सामान्य है, लेकिन बहुत अधिक डेंसिटी में कमी आपकी हड्डियों को खोखला और कमजोर बना सकता है जिससे आपके फ्रैक्चर की संभावना बढ़ जाती है। महिला होने के नाते आपको ऑस्टियोपोरोसिस और टूटी हड्डियों के विकास का खतरा अधिक होता है।

आंकड़ों की माने तो 23 करोड़ भारतीयों की उम्र 50 वर्ष से अधिक है, जिसका 20ः, यानी 46 करोड़, ऑस्टियोपोरोसिस से पीड़ित महिलाएं हैं।ऑस्टियोपोरोसिस भारतीय महिलाओं में एक प्रमुख स्वास्थ्य समस्या है। विटामिन डी की कमी के साथ कम कैल्शियम का सेवन, उम्र में वृद्धि, प्रारंभिक मीनोपॉज, जेनेटिक प्रवृत्ति, और हड्डियों के स्वास्थ्य की कम जानकारी ने ऑस्टियोपोरोसिस के खतरे को बढ़ाया है।

यह भी पढ़ें -   दिनभर रहती है थकान तो डाइट में शामिल करें ये चीज़ें, रहेंगे हमेशा ऊर्जावान

पुरुषों की तुलना में महिलाओं को ऑस्टियोपोरोसिस होने की अधिक संभावना होने के कई कारण हैं, जैसे कि –

-महिलाओं में पुरुषों की तुलना में छोटी और पतली हड्डियां होती हैं।

-महिलाओं में हड्डियों की रक्षा करने वाला हार्माेन एस्ट्रोजन, मेनोपॉज तक पहुंचने पर तेजी से कम हो जाता है, जिससे हड्डियों का नुकसान हो सकता है। यही कारण है कि जैसे-जैसे महिलाएं मीनोपॉज तक पहुंचती हैं, ऑस्टियोपोरोसिस विकसित होने की संभावना बढ़ जाती है।

लक्षण –

हड्डी के नुकसान के शुरुआती चरणों में आमतौर पर कोई लक्षण नहीं होते हैं। लेकिन एक बार जब आपकी हड्डियां ऑस्टियोपोरोसिस से कमजोर हो जाती हैं, तो आपके पास संकेत और लक्षण हो सकते हैं जिनमें शामिल हैं –

यह भी पढ़ें -   कान का दर्द मिनटों में हो जाएगा छूमंतर, बस आजमाएं यह आसान उपाय

-पीठ दर्द
-समय के साथ लम्बाई का कम होना
-झुकी हुई मुद्रा
-हड्डी जो अपेक्षा से अधिक आसानी से टूट जाती है
-कब दिखाए डॉक्टर को
-ऑस्टियोपोरोसिस के बारे में अपने डॉक्टर से बात कर सकते हैं यदि आप प्रारंभिक मेनोपॉज़ से गुज़रे हैं या कई महीनों तक कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स लेते हैं, या यदि आपके माता-पिता में से किसी को हिप फ्रैक्चर था।

निवारण
-आपकी हड्डियों को जीवन भर स्वस्थ रखने के लिए अच्छा पोषण और नियमित व्यायाम आवश्यक है।
कैल्शियम

18 से 50 वर्ष की आयु के पुरुषों और महिलाओं को एक दिन में 1,000 मिलीग्राम कैल्शियम की आवश्यकता होती है। जब महिलाएं 50 साल की हो जाती हैं और पुरुष 70 साल के हो जाते हैं तो यह दैनिक मात्रा बढ़कर 1,200 मिलीग्राम हो जाती है।
कैल्शियम के अच्छे स्रोतों में शामिल हैं –
-डेयरी उत्पाद
-गहरी हरी पत्तेदार सब्जियां
-सोया उत्पाद
-कैल्शियम-फोर्टिफाइड अनाज और संतरे का रस
-विटामिन डी

यह भी पढ़ें -   कान का दर्द मिनटों में हो जाएगा छूमंतर, बस आजमाएं यह आसान उपाय

विटामिन डी कैल्शियम को अब्सॉर्ब करने में सुधार करता है और अन्य तरीकों से हड्डियों के स्वास्थ्य में सुधार लाता है। आप कुछ विटामिन डी को सूरज की रोशनी से प्राप्त कर सकते है। इसके आलावा विटामिन डी खाने से भी मिल सकता है। विटामिन डी के आहार स्रोतों में कॉड लिवर ऑयल, ट्राउट और सैल्मन शामिल हैं। कई प्रकार के दूध और अनाज को विटामिन डी से समृद्ध होता है।

एक्सरसाइज

एक्सरसाइज आपको मजबूत हड्डियों के निर्माण और हड्डियों के डेंसिटी नुकसान को धीमा करने में मदद कर सकता है। एक्सरसाइज जैसे चलना, टहलना, दौड़ना, सीढ़ी चढ़ना, रस्सी कूदना, और खेल – मुख्य रूप से आपके पैरों, कूल्हों और निचली रीढ़ की हड्डियों को प्रभावित करते हैं।

Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *