श्रीमहादेव गिरि संस्कृत महाविद्यालय के छात्रों ने चलाया स्वच्छता अभियान, हिमालय को बचाने के लिये ली शपथ

Ad
खबर शेयर करें

समाचार सच, हल्द्वानी। हिमालय दिवस पर श्रीमहादेव गिरि संस्कृत महाविद्यालय के छात्रों ने स्वच्छता अभियान चलाकर हिमालय को बचाने के लिये शपथ ली। इस दौरान हिमालय बचाओं अभियान को लेकर गोष्ठी का आयोजन किया गया। साथ ही कार्यक्रम अधिकारी डा0 चन्द्र बल्लभ बेलवाल के निर्देशन में कई छात्रों व ग्रामीणों ने नहर व बस्ती में सफ़ाई अभियान चलाया और स्वयं सेवियों ने जागरूकता रैली निकाली।

आयोजित गोष्ठी में मुख्य वक्ता प्रो0 अतुल जोशी ने कहा कि हिमालय को देवता कहा जाता है क्योंकि हिमालय हमें प्राण वायु देता है जो देता है उसे ही देवता कहा जाता है। हिमालय नहीं रहा तो गंगा यमुना सरस्वती आदि नदियां भी नहीं रहेंगे इसलिए हिमालय को बचाने के लिए हमें संकल्प देना चाहिए।

यह भी पढ़ें -   उत्तराखंड में सांप्रदायिक सौहार्द बिगाड़ने वालों की खैर नहीं

प्राचार्य डॉ नवीन चन्द्र जोशी ने कहा कि हिमालय में अनन्त रत्नों का भण्डार है। हमारे शास्त्रों में हिमालय नदी सरोवरों को देवता कहा जाता है क्योंकि ये सभी जीवों के प्राणों की रक्षा करते हैं। अतः आज आवश्यकता है कि हम अन्तर्मन से हिमालय व नदियों की रक्षा करने की शपथ लें।

यह भी पढ़ें -   महिला सर्जन के निलंबन की कार्रवाई पर डाक्टरों ने किया कार्य बहिष्कार

सभा में महाविद्यालय प्रबन्धक नवीन चन्द्र वर्मा ने नदी के महत्व पर प्रकाश डालते हुए कहा कि जहां एक ओर स्वच्छ गंगा अभियान के तहत गंगा साफ की जा रही है। हमें भी प्रण करना चाहिए कि किसी भी प्रकार का कूड़ा करकट मां गंगा में ना डाले और उसे स्वच्छ बनाने प्रयास करें।

इस अवसर पर स्पर्श गंगा अभियान के राष्ट्रीय समन्वयक प्रो अतुल जोशी ने विशिष्ट कार्यों के कार्यक्रम अधिकारी डा चन्द्र बल्लभ बेलवाल को सम्मानित किया। साथ ही सात स्वयं सेवियों को अनुराग जोशी विनोद पाठक गौरव सनवाल संजय भट्ट कमलेश सुयाल भास्कर नैनवाल दिव्यांशु उप्रेती आदि को सम्मानित किया गया।

यह भी पढ़ें -   कैप्टन के बयानों से लगता है कि वह किसी तरह के दबाव में है: हरीश रावत

कार्यक्रम में डा0 नवीन चन्द्र बेलवाल, महेश जोशी, श्रीमती कंचन जोशी, राकेश पंत व चौधरी समरपाल सिंह ने भी विचार व्यक्त किए। इस अवसर पर मुख्य रूप से डा0 कृष्ण चन्द्र जोशी, राकेश गुणवन्त, भास्कर भट्ट, राजू तिवारी आदि उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन डा0 चन्द्र बल्लभ बेलवाल ने किया।

Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *