सीबीएसई 10वीं का रिजल्ट : 16 हजार 6 सौ छत्तीस विद्यार्थियों का रिजल्ट रूका, यहां देखे पूरी खबर…

Ad
खबर शेयर करें

समाचार सच, देहरादून/नई दिल्ली (एजेन्सी)। केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने मंगलवार को 10वीं के रिजल्ट घोषित कर दिए हैं। इस बार 10वीं में 99.04 फीसदी विद्यार्थी सफल घोषित किए गए हैं। लड़कों का पास प्रतिशत 98.89 फीसदी रहा। जबकि लड़कियों ने बाजी मारते हुए 99.24 फीसदी, पास प्रतिशत हासिल किया है। वहीं ट्रांसजेंडर में 100 फीसदी पास प्रतिशत रहा। फिलहाल इस बार 16 हजार 6 सौ छत्तीस विद्यार्थियों का अभी रिजल्ट घोषित नहीं किया है। जिसकी बोर्ड की ओर से कोई स्पष्ट जानकारी नहीं मिल पायी है।

इस वर्ष रीजन के लिहाज से इस बार सीबीएसई 10वीं में त्रिवेंद्रम रीजन का पास प्रतिशत सबसे अधिक और गुवाहाटी का सबसे कम रहा है। जबकि क्षेत्रवार लिहाज से सीबीएसई के दसवीं के नतीजों में सबसे ऊपर रहा त्रिवेंद्रम इसके बाद बेंगलुरु, चेन्नई, पुणे, अजमेर, पटना, भुवनेश्वर, भोपाल, छत्तीसगढ़, देहरादून, प्रयागराज, नोएडा, दिल्ली पश्चिम, दिल्ली पूर्व और गुवाहाटी का नंबर रहा। त्रिवेंद्रम में 10वीं का रिजल्ट 99.99 प्रतिक्षत रहा। दसवीं में दिल्ली क्षेत्र के 98.19 प्रतिशत स्टूडेंट्स पास हुए। विदेशी छात्रों का पास प्रतिशत 99.92 प्रतिशत रहा, 98.89 प्रतिशत छात्र और 99.29 प्रतिशत छात्राएं पास हुई। इस बार फिर 0.35 प्रतिशत से लड़कियों ने बाजी मारी, केंद्रीय विद्यालयों का रिजल्ट 100 प्रतिशत रहा। सुरक्षा के लिहाज से इस बार सीबीएसई रजिस्ट्रेशन में मोबाइल नंबर और ओटीपी रखा गया है। डिजिटल लॉकर में मार्कशीट को सेव किया जा सकता है। ईमेल के जरिए भी छात्रों तक बोर्ड की ओर से मार्कशीट दी जाएगी।

यह भी पढ़ें -   अज्ञात चोरों ने ट्रक से उड़ाई बैटरी

आपकों बता दें कि कक्षा 10 की परीक्षाएं 4 मई से शुरू होने और 7 जून को ऑफ़लाइन मोड में समाप्त होने वाली थीं। प्रक्टिकल परीक्षाएं 1 मार्च से आयोजित की जानी थीं। हालांकि, कोविड-19 मामलों में बढ़ोतरी के कारण बोर्ड ने कक्षा 10 की परीक्षाओं को रद्द करने की घोषणा कर दी थी। कक्षा 10 के छात्रों के लिए सीबीएसई परिणाम मूल्यांकन के वैकल्पिक साधनों के आधार पर तैयार किए गए हैं, क्योंकि परीक्षाएं महामारी के कारण आयोजित नहीं की जा सकीं। इस वैकल्पिक मूल्यांकन योजना के अनुसार, 20 नंबर आंतरिक मूल्यांकन पर आधारित होते हैं जो स्कूलों द्वारा आयोजित किए जाते हैं, 10 नंबर आवधिक/यूनिट टेस्ट के लिए आवंटित किए जाते हैं, 30 नंबर अर्द्ध-वार्षिक परीक्षा के लिए आवंटित किए जाते हैं, और 40 नंबर प्री-बोर्ड को आवंटित किए जाते हैं। यदि किसी स्कूल में मूल्यांकन का कोई विशेष कंपोनेंट नहीं हुआ है, तो नंबर देने के मानदंड पर निर्णय लेने के लिए प्रत्येक स्कूल में एक परिणाम समिति का गठन किया गया। गौरतलब है कि सीबीएसई 10वीं में देश भर के 18 लाख विद्यार्थियों ने पंजीकरण कराया था। कोरोना मामलों के कारण परीक्षा रद्द होने के बाद विद्यार्थियों को रिजल्ट का बेसब्री से इंतजार था, जो आज हो गया। इस बार 10वीं में 99.04 फीसदी विद्यार्थी सफल घोषित किए गए हैं। छात्राओं-फीसदी और छात्र-फीसदी पास हुए हैं।
इस बार 16 हजार 6 छत्तीस विद्यार्थियों का अभी रिजल्ट घोषित नहीं किया है। इन विद्यार्थियों को रिजल्ट क्यों रोका गया है। इस बारे में बोर्ड की ओर से कोई स्पष्ट जानकारी नहीं दी गई है। 17636 छात्र (0.84 प्रतिशत) कंपार्टमेंट में रखे गए हैं। कंपार्टमेंट परीक्षाएं 16 अगस्त 2021 से 15 सितंबर 2021 के बीच आयोजित की जाएंगी।

Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *