आयुर्वेदिक जड़ी बूटी होने के साथ महिलाओं के लिए किस तरह फायदेमंद है आइए जानते हैं

खबर शेयर करें

समाचार सच, स्वास्थ्य डेस्क। शतावरी एक ऐसी आयुर्वेदिक जड़ी बूटी है, जिसका उपयोग सेहत के लिए फ़ायदेमंद होता है। इसे शतावर नाम से भी जानते हैं। खासकर महिलाओं के लिए यह बहुत ही अच्छा होता है। शतावरी कई तरह के होते हैं, जिनमें हरी, सफ़ेद, बैगनी तीन रंगों की शतावरी बहुत ही लोकप्रिय है। इसकी लताएं और झाड़ियां होती हैं, जो लगातार बढ़ती जाती हैं और फैलती जाती हैं। शतावरी का जड़ या फिर पाउडर के रूप में सबसे ज्यादा उपयोग होता है। इसके जड़ और पत्तियां सबसे ज्यादा उपयोग में आते हैं। इसे शतमूली और सतमूली भी कहा जाता है। तो आइये जानते हैं कि इसके सेवन से किस-किस तरह के फायदे होते हैं।

सेहत के लिए शतावरी के फायदे

  1. शतावरी एक ऐसी जड़ी बूटी है, जिसमें काफी एंटीऑक्सीडेंट मिलते हैं, इसके सेवन से दिल की बीमारियां दूर होती है।
  2. जिन जिन लोगों को इनसोम्निया या फिर नींद की बीमारी की समस्या रहती है उनके लिए शतावरी किसी रामबाण से कम नहीं है, डॉक्टर भी इसे लेने की सलाह देते हैं, इसका जूस भी मिलता है और इसका सिरप भी मिलता है। कई तरह के सिरप में भी उसका इस्तेमाल होता है।
  3. जिन लोगों को माइग्रेन की समस्या होती है, उन्हें भी शतावरी के सेवन की सलाह दी जाती है। सिरदर्द में तिल के तेल में शतावरी जड़ी बूटी को मिला कर लगाना चाहिए। इससे आराम मिलेगा।
  4. शतावरी में भरपूर मात्रा में फोलेट होता है, जो कि हड्डियों के लिए बहुत ही अच्छा होता है, इसलिए जिन्हें हड्डी से संबंधित समस्या होती है, उन्हें भी शतावरी के सेवन की सलाह दी जाती है।
  5. अमूमन कहीं जो जड़ी बूटियां होती हैं उनका सेवन करने से गर्भवती महिलाओं को रोका जाता है, लेकिन यह एक ऐसी जड़ी बूटी है, जिसके सेवन के लिए गर्भवती महिलाओं को कहा जाता है। यह उनके लिए एक टॉनिक की तरह काम करता है। गर्भवती महिलाओं को अगर सोंठ के साथ मिला कर शतावरी दिया जाए, तो इससे काफी फायदा होता है। इसमें मौजूद फोलेट नवजात शिशु के लिए काफी अच्छा माना जाता है। इसे अगर बकरी के दूध के साथ भी मिलाकर पिया जाए तो बच्चे की हड्डियां मज़बूत होंगी। यह महिलाओं के प्रजनन हिस्सों को भी शक्तिशाली बनाता है।
  6. जिन महिलाओं को स्तन में दूध की कमी होती है, उन्हें भी इसके सेवन की सलाह दी जाती है ।इसलिए डिलीवरी के तुरंत बाद महिलाओं को शतावरी पिलाई जाती है या खिलाई जाती है, इससे उनके स्तन में दूध बनता है।
  7. इसके सेवन से शारीरिक कमज़ोरी दूर होती है। महिलाओं को पीरियड के दौरान होने वाले दर्द से भी छुटकारा मिलता है और खासतौर से यौन संबंधी परेशानियों को हल करने में यह बहुत फ़ायदेमंद होता है।
  8. शतावरी के सेवन से स्वप्न दोष की समस्याओं से भी निदान मिलने में आसानी होती है।
  9. सर्दी-ज़ुकाम में शतावरी का सेवन लाभकारी होता है। शतावरी की जड़ होता है, वह कफ को काटता है। सूखी खांसी होने पर या फिर गला बैठ जाने पर भी इसके काढ़े का सेवन करना चाहिए।
  10. अगर आपको अपच की बीमारी है, तो शतावरी के साथ शहद मिलाकर खाने से काफी कुछ फायदा होता है।
  11. अगर आपको पेट से संबंधित समस्या है, तो शहद के साथ शतावरी का सेवन सुबह सुबह खाली पेट करना चाहिए। इससे दस्त जैसी समस्या से भी छुटकारा मिलता है।
  12. शतावरी के जड़ को, अगर दूध में मिलाकर पिया जाए, तो इससे आंखों से जुड़ी परेशानियों से निजात मिलता है। इसके सेवन से रतौंधी में भी काफी आराम मिलता है।
यह भी पढ़ें -   बीमारी भयावह जरूर है, मगर यह लाइलाज नहीं: डॉ0 अंशुमान कुमार

शतावरी से निखारें सौन्दर्य

  1. शतावरी में एंटी ऑक्सीडेंट होते हैं, इसलिए इसे एंटी एजिंग में भी कारगार साबित माना जाता है।
  2. शतावरी क्लींज़र के रूप में काम करती है, इसलिए हाथ पैर की सफाई के लिए इसका उपयोग होता है।
  3. अगर आप मुंहासों की परेशानी से जूझ रही हैं, तो आपको शतावरी को दूध में मिलाकर लगाना चाहिए, इससे काफी आराम मिलता है।
  4. अगर आपको किसी तरह का स्किन पर घाव हो गया है और काफी दिनों से वह ठीक नहीं हो पा रहा है, तब आपको इसका प्रयोग करना चाहिए। यह घाव भर देता है।
    शतावरी स्किन ग्लो बढ़ाती है
  5. शतावरी में विटामिन ई होती है और इससे आपको स्किन ग्लो तो करती ही है, साथ ही सूर्य की किरणों से यह बहुत अच्छी तरह से बचाती है। इसलिए भी इसका सेवन करना चाहिए।
  6. शतावरी स्किन की गंदगी को भी साफ़ करता है। इसके सेवन से पेट साफ़ रहता है और उसकी वजह से कील मुंहासों जैसी परेशानी से भी लाभ मिलता है।
    शतावरी होंठों के कालेपन को दूर करती है
  7. शतावरी होंठों के कालेपन को भी दूर करती है, अगर शहद के साथ इस पाउडर को होंठों पर लगाया जाए तो इससे कालापन दूर होता है।
  8. शतावरी के जड़ को अगर गुलाब जल के साथ मिलाकर चेहरे में लगाया जाए, तो यह क्लींज़र की तरह काम करता है। यह काले दाग-धब्बे को भी दूर करता है।
  9. स्किन को टोन करने के लिए भी यह अच्छा होता है, इसमें एंटीऑक्सीडेंट और ग्लूटाथियोन होता है, इसलिए हर दिन अगर एक गिलास दूध के साथ इसको लिया जाये, तो इससे स्किन हमेशा टाइट रहती है। शतावरी से पाएं सुंदर और घने बाल
  10. बालों के लिए शतावरी के फायदे
    -शतावरी के फायदे बाल के लिए सीमित हैं, लेकिन फिर भी यह बालों के लिए काफी उपयोगी माना जाता है।
  • शतावरी को अश्वगंधा के साथ मिलाकर बालों में लगाना चाहिए। ये बालों की जड़ों तक रक्त संचार करता है, जिससे आपके बाल तेज़ी से बढ़ते और स्वस्थ रहते हैं।
  • बालों को मज़बूत और लंबे करने के लिए रोजाना अश्वगंधा और शतावरी का चूर्ण दूध में मिला कर दूध के साथ पीना चाहिए।
  • शतावरी के एंटी ऑक्सीडेंट गुणों के कारण इसके लेप को अगर आंवला के साथ मिलाकर स्कैल्प में लगाया जाये तो इससे बाल चमकदार बन जाते हैं।
  • शतावरी के जड़ को पीस कर, उसे अगर दो बूंद नाक में डाला जाए, तो इससे बालों का झड़ना रुक जाता है।
  • शतावरी के पाउडर का लेप लगाने से कुछ हद तक डैंड्रफ भी कम होते हैं।
  • शतावरी के सेवन से पहले ये भी जानें
यह भी पढ़ें -   किराये के मकान में रहने वाले युवक का मिला शव, परिजनों ने जतायी हत्या की आशंका

यह तो सच है कि शतावरी में स्वास्थ्य का खज़ाना छुपा है, लेकिन फिर भी इसके अत्यधिक सेवन से नुकसान भी हो सकता है। क्योंकि किसी भी चीज़ की अति बुरी होती है। इसलिए कुछ सावधानी रखनी जरूरी है।

  1. अगर शतावरी को सीधे फेस पर लगाया जाए, तो इससे एलर्जी हो सकती है।
    2 . इसके अत्यधिक सेवन से पेशाब की बदबू की भी परेशानी हो सकती है।
    3 . वैसे लोगों को जिनको प्याज और लहसुन से एलर्जी हैं, उन्हें शतावरी के सेवन से बचना चाहिए।
  2. जिन लोगों को दिल की बीमारी या फिर किडनी की समस्या हो, उन्हें इसके सेवन से बचना चाहिए, कारण कि इसके सेवन से वज़न अचानक बढ़ने लगता है।
    5 . हालांकि गर्भवती स्त्री के लिए यह अच्छा होता है, लेकिन फिर भी सेवन के पहले एक बार डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए।

सबसे पहले ख़बरें पाने के लिए -

👉 हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

👉 फेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज़ लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल सबस्क्राइब करें

हमसे संपर्क करने/विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें - +91 70170 85440

Leave a Reply

Your email address will not be published.